close

Essays

Essays

Essay on Importance Of Religious Harmony in english

Essay on Importance Of Religious Harmony in english

Introduction :

“All religions are designed to teach us how to live joyfully and kindly in the midst of suffering.” This statement indicates the true meaning of religious harmony. India is a multi-religious and multilingual country and always enjoyed the unity of its culture among diversities. People of different religions and communities live here side by side. India does not support any particular religion, nor does it have any national religion. The principle of secularism allows the people to practice their own religion without any restriction.

  • India is a country of more than 1.3 billion people, the majority of them are Hindus. But we also have large populations of minorities, with about 150 million Muslims, making this the second largest Muslim population in the world, after Indonesia. There are also millions of Christians, Sikhs, Jains and Buddhists.
  • In recent times, the conflict between religious communities have grown to a large extent just because of intolerance and bigotry which leads to communal riots and thousands of people have been killed in these religious conflicts.
  • Communal riots in Gujrat in 2002 , Mujaffar Nagar riots in 2013 and Delhi riots are such incidents that India can’t forget. Bigotry and disrespect to other religions is the main reason behind disturbing communal peace.
  • Conflict resolution through effective communication channels between different religious communities  can become the game changer.
  • Communication with police, the media, religious and community leaders is also very important. The time has come to introduce inter-religious education that can promote communal harmony as part of the curriculum in school and colleges.

Conclusion :

Government is taking various steps to eradicate this problem but it can completely be stopped by the people themselves. Media can also play a vital role in this regard, it can report news in which people of different sects and religions helping each other to promote peace and harmony. We should work together for making our country’s future bright and should not fell in traps of anyone who tries to get benefit by breaching the religious harmony of our country.

Short essay on Cultural Diversity In India in english 250 words

Introduction :

Indian culture is diverse and consist of various customs, ideas and social beliefs. India has different cultures and communities that differ in their food habits, cloths, languages, and traditions. It is the oldest and famous among the other cultures of the world. Indian literature is also a combination of various communities, traditions, customs, and religions. The diversity of Indian culture is well known worldwide.

  • Cultural diversity is also seen in Indian Philosophy, art, music, and even Literature.
  • India is a global hub of multi-cultural and multi-traditional festivals like Dussehra, Holi, Diwali, Christmas, Ramazan, Guru Nanak Jayanti, Ganesh Chaturthi etc.
  • Each Indian festival tells its own cultural and national tale and is celebrated with different customs & traditions.
  • In India three National festivals are also celebrated with great zeal and enthusiasm, these are the Republic Day, Independence Day, and Gandhi Jayanti.
  • In India, God lives in the heart of every person. Indians hold different prayers, beliefs, and values.
  • In the Hindu tradition, everyone worships and respects Cows, Neem tree, Banyan tree, and Peepal tree.
  • In India rivers are also worshiped and have great religious significance and sentiments.
  • Rivers such as Ganga, Yamuna Godavari, Bramhaputra, Narmada, and Tapti occasionally worshiped in India.

Conclusion :

India is a home of many sacred and religious places like the Amarnath temple, Badrinath, Haridwar, Vaishno Devi and Varanasi, which are located in the northern part of the country. However, in the southern region, Rameshwaram temple and Sabrimala temple have great significance. Thus, we can say that India is filled with traditions and modern culture. People have the freedom to practice any religion they desire. This is why Indian culture is widespread across the world.

Watch Video

Long essay on Cultural Diversity In India in english 400 words

Introduction :

Indian culture is diverse and consist of various customs, ideas and social beliefs. India has different cultures and communities that differ in their food habits, cloths, languages, and traditions. It is the oldest and famous among the other cultures of the world. Indian literature is also a combination of various communities, traditions, customs, and religions. The diversity of Indian culture is well known worldwide. Cultural diversity is also seen in Indian Philosophy, art, music, and even Literature.

  • India is a global hub of multi-cultural and multi-traditional festivals like Dussehra, Holi, Diwali, Christmas, Ramazan, Guru Nanak Jayanti, Ganesh Chaturthi etc.
  • Each Indian festival tells its own cultural and national tale and is celebrated with different customs & traditions.
  • In India three National festivals are also celebrated with great zeal and enthusiasm, these are the Republic Day, Independence Day, and Gandhi Jayanti.
  • In India, God lives in the heart of every person. Indians hold different prayers, beliefs, and values. In the Hindu tradition, everyone worships and respects Cows, Neem tree, Banyan tree, and Peepal tree.
  • In India rivers are also worshiped and have great religious significance and sentiments. Rivers such as Ganga, Yamuna Godavari, Bramhaputra, Narmada, and Tapti occasionally worshiped in India.
  • The Joint family system is the prevailing system in India. In most cases, the family members consist of parents, children, children’s spouses, and offspring.
  • All of these family members live together under a single roof and the eldest male member is the head of the family.
  • Arranged marriages are also a part of Indian culture. Most Indians have their marriages planned by their parents. In almost all marriages in India, the bride’s family gives dowry to bridegroom.
  • Weddings are certainly festive occasions in Indian culture. There is involvement of decorations, clothing, music, dance, rituals in Indian weddings.
  • India is a home of many sacred and religious places like the Amarnath temple, Badrinath, Haridwar, Vaishno Devi and Varanasi, which are located in the northern part of the country.
  • However, in the southern region, Rameshwaram temple and Sabrimala temple have great significance. India celebrates a huge number of festivals.

Conclusion :

These festivals are very diverse because of multi-religious and multi-cultural societies in India. Indians greatly value festive occasions and the whole country joins in the celebrations irrespective of the differences. Thus, we can say that India is filled with traditions and modern culture. People have the freedom to practice any religion they want. This is why Indian culture is widespread across the world.

Cultural Diversity In India Vs Responsibilities of a good citizen 

Introduction :

We are the citizen of India and have acquired citizenship by virtue of our birth. Being a good citizen requires a lot of training and efforts as every citizen has some duties and certain rights. We also have a right to take part in judicial, legal, political, religious and social affairs of the country. “Citizenship consists in the service of the country.” said by Pt. Jawaharlal Nehru, the first Prime Minister of India, this line explains that citizenship consists not merely in enjoying certain rights but also in discharging our duties towards the nation.   

  • A good citizen is always broad minded and ready to sacrifice his life for the sake of his country. He must love his country and also have firm and deep faith in laws of the land.
  • He must consider himself as an Indian first and anything else afterwards. He is ready even to shed his blood for the honour of his country.
  • A good citizen also respects the cultural heritage, the heroes, the sages and saints of his country. He must respect the race to which he belongs. He also raises the standard of living of his country by working hard honestly.
  • But he must also keep in mind the welfare of the state, the benefit of society and interests of the nation.
  • At the time of foreign attacks, he must be ready to shed his blood and hence, defense of the country is the supreme duty of a good citizen.
  • A good citizen must live in peace and harmony with his fellow citizens. He must respect the institutions of his country. A good citizen respects the laws of the state and should have no patience with criminals and anti-social elements.
  • Unity of the nation should be his topmost priority and should work for the unity of the country. A good citizen should have a spirit of co-operation, friendliness and devotion towards his family and society.

Conclusion : 

He must respect other faiths. He must not do anything that brings disgrace to his society or to his country. He always makes an effort to bring about desirable improvements in the existing educational and other institutions of his country. In this way, a good citizen always thinks about the welfare of the society and his country first.

Watch Video

Responsibility of a good citizen in points – 

  • Be active in your community.
  • Be honest and trustworthy.
  • Follow rules and laws of the country.
  • Respect the rights of other citizens.
  • Be informed about the world around you.
  • Respect the property of other people.
  • Be compassionate and eagar to learn.
  • Take responsibility for your actions.
  • Be a good neighbor and fellow citizen.
  • Protect the environment & wildlife

Cultural Diversity In India Vs Life in Covid-19 Pandemic

Introduction :

COVID-19 has affected our day to day life. This pandemic has affected thousands of peoples, who are either sick or are being killed due to the spread of this disease. The most common symptoms of this viral infection are fever, cold, cough, bone pain and breathing problems. This, being a new viral disease affecting people for the first time, vaccines are being available now but still, the emphasis is on taking extensive precautions such as extensive hygiene, regularly washing of hands, avoidance of face to face interaction, social distancing, and wearing of masks etc.

  • Identification of the disease at an early stage is vital to control the spread of the virus because it very rapidly spreads from person to person.
  • Most of the countries have slowed down their manufacturing of the products. The pandemic has been affecting the entire food system.
  • Trade restrictions and confinement measures have been preventing farmers from accessing markets, including for buying inputs and selling their produce, and agricultural workers from harvesting crops, thus disrupting domestic and international food supply chains and reducing access to healthy, safe and diverse diets.
  • The pandemic has impacted jobs and placed millions of livelihoods at risk. As common man lose jobs, fall ill and die, the food security and nutrition of millions of women and men are under threat, with those in low-income countries, particularly the most marginalized populations, which include small-scale farmers and indigenous peoples, being hardest hit.
  • The various industries and sectors are affected by the cause of this disease including the pharmaceuticals industry, power sector and tourism.
  • Millions of agricultural workers waged and self-employed, regularly face high levels of working poverty, malnutrition and poor health, and suffer from a lack of safety and labour protection.
  • With low and irregular incomes and lack of social support, many of them are forced to continue working, often in unsafe conditions, thus exposing themselves and their families to additional risks.
  • Further, when experiencing income losses, they may resort to negative coping strategies, such as distress sale of assets, taking loans or child labour.
  • Migrant agricultural workers are particularly vulnerable, because they face risks in their transport, working and living conditions and struggle to access support measures put in place by governments.
  • This virus creates drastic effects on the daily life of citizens, as well as on the global economy.
  • There are restrictions of travelling from one country to another country. During travelling, numbers of cases are identified positive when tested, especially when they are taking international visits.

Conclusion :

The lockdown has also impacted migrant workers, several of whom lost their jobs due to shutting of industries and were outside their native places wanting to get back.  Since then, the government has announced relief measures for migrants, and made arrangements to return to their native places. All governments, health organizations and other authorities are continuously focusing on identifying the cases affected by the COVID-19. Healthcare professional face lot of difficulties in maintaining the quality of healthcare in these days.

Cultural Diversity In India Vs Importance of Youth in Society

Introduction :

Youth is considered as the greatest asset for a country as their intelligence and hard work will take the country on the path of success and prosperity. As every citizen has some responsibilities towards the nation, so the youth too. They are the building blocks of any nation. A youth is a person whose age is between 15 to 30 years without considering their gender. As the youth are the backbone of a society and hence they determine the future of any given society.

  • It is so, because of all other age groups like the kids, teenagers, middle aged and the senior citizens rely on the youth and they have a lot of expectations from them.
  • This makes the youth to be an important age group in today’s society and the future of society highly depends on them.
  • Due to high dependency on youth in society, we all have a very important role to play as the future of our families, communities and the country lies in our hands.
  • Youth can renew the current status of the society by their leadership, innovation and development skills.
  • Youth are expected to transform the current technology, education system and politics of the country.
  • They also have to maintain our rich cultural heritage and ethical values in the societies. This is why the development of a country requires active participation of the youth.  
  • It does not matter in which field we want to progress, either technical or sports, youth is required everywhere. Our youth must aware of their inner powers and the role they have to play in the society.
  • There are many ways in which we can help the youth of our country to achieve their true potential.
  • For that, the government must introduce programs that will help in fighting off issues like unemployment, poor education institutes and more to help them prosper without any hindrance.
  • Similarly, citizens must make sure to encourage our youth to do better in every field they want to excel.
  • When we constantly discourage our youth and don’t believe in them, they will lose their spark and start feeling dejected.

Conclusion :

We all must make sure that they should be given the wind beneath their wings to fly high instead of bringing them. We must make sure that everyone must be given equal chance to prove themselves worthy. The youth have a different outlook which the older generations don’t have. It is the responsibility of the youth to make our country rich and prosper.

Cultural Diversity In India Vs Migrant Workers 

Introduction :

A migrant worker is a person who migrates within their home country or outside it for work. Migrant workers do not have the intention to stay permanently in the place where they work. The nationwide lockdown announced on March 24, has caused immense distress to migrant workers around the country. Thousands of migrant workers were walking across India to reunite with their families in their native places. Indian migrant workers during the COVID-19 pandemic have faced multiple hardships.

  • With the closure of factories and workplaces due to the lockdown, millions of migrant workers had to deal with the loss of income, food shortages and uncertainty. 
  • Thousands of them, began walking back home, with no means of transport due to the lockdown. In response, the Government took various measures to help them, and later arranged transport for them.
  • The major states like Maharashtra, Karnataka, Tamil Nadu, Gujarat, Andhra Pradesh, Telangana, Delhi and Kerala are trying to minimise the loss of labour and are prime states for ‘unlocking’ of economic activity.
  • According to the 2011 Census, there are 41 million interstate migrants in India who migrate to other states due to the lack of work opportunities in their home state.
  • Poorer, less educated, and from socially disadvantaged communities, survival draws these migrants to the cities. Meagre pay, extended working hours, and unsafe work conditions characterise their exploited labour.
  • Covid-19 renders most of them jobless in cities with crushing rents and no access to food or water. Without employment, city life is so burdensome that many risk returning to the safety of their villages, in some cases even at the cost of their lives. 
  • The disproportionate impact of state policy also breaches the right to equality under Article 14 of the Constitution and imposes a corresponding duty on the government to mitigate negative effects.
  • The government has also launched an employment scheme named ‘Garib Kalyan Rozgar Abhiyaan’ implementing on a mission mode in 125 days in 116 districts of six states – Bihar, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Rajasthan, Jharkhand and Odisha.
  • The scheme was launched after lakhs of migrant workers returned to their home states following loss of employment in urban areas due to the nationwide lockdown to combat the spread of COVID-19.
  • In the long term, India should work towards reducing migrant workers’ vulnerability by amending labour laws.
  • Such amendments should align migrant workers’ conditions with other unorganised sector workers, while also developing norms for food security, repatriation and wage safety in times of emergency. 

Conclusion :

While emergency solutions are urgent, they must pave the way to address more fundamental issues in migrant worker-dominated sectors. The government has already announced schemes like ‘One Nation One Ration Card’ to enable migrant workers and their family members to access PDS benefits from any Fair Price Shop in the country. But they also need cash for their day-to-day needs.

Cultural Diversity In India Vs Reservation in India

Introduction :

Reservation in India is the process of setting aside a certain percentage of seats in government institutions for the members of backward and under-represented communities. Scheduled Castes (SCs), Scheduled Tribes (STs) and Other Backward Classes (OBCs) are the primary beneficiaries of the reservation policies under the constitution. The Modi government has tabled in Lok Sabha the bill seeking 10 per cent reservation for poor among the upper castes.

  • The concept was enshrined in the Constitution to allow the so-called deprived classes to come at par with the so-called privileged ones.
  • Initially, the reservation policy was only for 10 years after the independence to uplift the socially and under-privileged to stabilize them economically.
  • It has killed the spirit of brotherhood and healthy competition. Unfortunately, today, we stand divided widely into Hindu, Muslim, SC, ST, OBC with newer reservations coming up from different sections of society like Christians, Jats, Pandits, Tribal etc.
  • Reservations with the view of helping the deprived classes to gain a better footing and avail equal benefits of an independent and free nation was introduced in the system.  
  • Yet, the various governments till now have failed to truly uplift the backward sections of the society. The need of the hour is to remove evil.
  • Making education mandatory and free for all till the age of 15 is one good resolution that has been adopted. Other could be proposing reservation based on economic status and providing opportunities to students to earn while they study.
  • Reservation should be restricted only to the first generation bene­ficiaries. The candidates whose parents have already availed reservation fa­cilities in securing a job should not be given the facility again.
  • Concession of scholarship may be provided to SC, ST and OBC stu­dents securing more than the specified percentage of marks in high school and graduate courses for getting quality education in good in­stitutions.

Conclusion :

All these measures will benefit those who really deserve help. The policy of reservation has to be scientific and rational. In the given economic and political structure, caste or birth or family should not determine one’s life chances. Reservation should not be forsaken because, everyone wants that society should develop as a whole and everyone should reap the benefits of development.

Cultural Diversity In India Vs Traffic Rules & Safety Reforms 

Introduction :

Traffic rules and regulations are formulated to regulate traffic, for the safety and convenience. They are very essential to ensure safety on road as well as their users. Some rules are formulated for specific types of users for example it is mandatory to slow down while approaching a zebra crossing is meant for the safety of pedestrians & wearing helmet while riding a bike is meant for safety of the rider. While following the traffic signals, there are a few things that one should keep in mind.

  • While stopping on a red light, one should make sure to stop well before the zebra crossing, even though the signal turned green, don’t accelerate instantly. 
  • A flashing red signal is a strict indication to stop, while a flashing orange light directs to proceed with caution. People’s reluctance to follow traffic rules could be attributed to various factors.
  • There is no organized road safety education in the Indian system. People disobeying traffic rules are seldom confronted, thus making them more reluctant. 
  • Road accidents are responsible for most fatalities in India. Numerous commendable steps have been taken by governments to improve road safety such as implementation of strict laws and huge penalties for not following these laws, launching of several new projects for expansion and proper maintenance of roads and sidewalks.
  • It also includes strict parameters to issue license, installation of traffic lights aided with cameras for absolute monitoring of especially cross-roads, launch of road safety awareness campaigns in schools, public gatherings or through social media, etc.
  • First aid awareness in case of emergence can be vital in some cases.  However, these efforts are not enough as neither laws nor technology can help that much, unless root level education and awareness is spread.
  • In conclusion, Road safety is not just for our own sake, but also for the sake of others. But now Post imposition of the Motor Vehicles (Amendment) Act, 2019 has increased the penalties for traffic rule violations.

Conclusion :

Under the amended Act, violations such as drunken driving at driving attract a fine of Rs 10,000. Penalty for driving without a license was increased from fine up to Rs 500 to fine of Rs 5,000. Not wearing a helmet while riding a two-wheeler can now lead to a fine Rs 1,000. Such reforms in our vehicle act must be welcomed by the citizens who really want the progress of the country. This will also reduce road accidents and ensure the safety of the road users.

Essay on Freedom of speech – Issues & Challenges to India

Introduction :

“The right to think is the beginning of freedom, and speech must be protected from the government because speech is beginning of thought” is a prominent statement of SC judge AM Kennedy. The constitution of India guarantees everyone the freedom of speech irrespective of caste, creed, gender or religion. Freedom of speech allows the people to express themselves, and share their views and opinions. As a result, the public and the media can comment on any political activity and also express their dissent towards anything that they think is not appropriate.

  • Different countries have different restrictions on their freedom of speech. Some countries do not allow this fundamental right at all for example North Korea.
  • There, the media or the public are not allowed to speak against the government. It is a punishable offence to criticize the government or the political parties there.
  • The freedom to practice of religion, the freedom to express love and affection, the freedom to express our opinions and dissenting views without hurting sentiments and causing violence is an essential part of Indian democracy.
  • Freedom of speech is not about our fundamental rights, it is actually a fundamental duty that every citizen should rightfully obey in order to save the essence of democracy.
  • The freedom of speech of a country can apparently be measured in terms of the freedom of the press of that country. A strong media reflects a strong, liberal and a healthy democratic system with an appetite to take criticisms and dissent in a positive manner.
  • Mostly governments are very hostile towards any form of dissent or criticism coming towards them and they try to stifle the voices that would have against them.
  • This can be very dangerous for any country for example, in India, there are more than 135 crore people and we can assured that not every person will have the same way of thinking.
  • All sides and perspective of the topic have to be considered before making a choice. A good democracy will involve all its members before formulating a policy.
  • But a bad one will blindside its critics and makes unilateral and authoritarian policies and force them to their citizens. At the same time, freedom of speech can’t be absolute.
  • No one can cause violence, hatred and tensions in the society in the name of freedom of speech. Freedom of speech should not lead to anarchy and chaos in a country.

Conclusion :

The government should maintain a balance between freedom of speech and maintaining law and order. To protect freedom of speech we can’t compromise on the law and order of a state and in the same way in order to maintain law and order we should not curtail the freedom of speech of the people. That’s why the constitution mentions in Article 19 (2), the conditions under which the Freedom of speech can be regulated and curtailed if those acts breach the socially accepted norms and put the dignity of the state at stake.

Essay on Freedom of speech – Issues & Challenges

Introduction :

“The right to think is the beginning of freedom, and speech must be protected from the government because speech is beginning of thought.” — SC judge Anthony M .Kennedy. Article 19 (1) (a) of the Indian constitution guarantees the citizens of the India , the right to freedom of speech and expression. There are some facets of Freedom of speech and expressions (FOSE). Some of these are freedom of press, commercial advertisements, government has no monopoly over Electronic media, Right to information and Publishing one’s opinions on digital society etc.

Why FOSE sometimes is considered as challenge to Public order?

Public order is defined as a state of prevailing of peace and tranquility in the society any act that affects the law and order or may lead to disturbance of harmony of society is considered as an issue in the interest of public order.

What did make the FOSE a buzz word recently?

– Supreme court of India upheld the petition that challenged the Internet shutdown in many places like Uttarpradesh, Assam specifically in Jammu and Kashmir in 2019 and 2020 after the promulgation of Citizenship Amendment Act, 2019.
– High court of Tripura also supported the freedom of expression of public officers on social media platforms.
– Power of the day again and again used sedition charges those who criticized the policies of government publically.

Challenges to India because of FOSE?

 In the scope of Security of the state any act that aggravate or encourage commission of violent crimes is considered as a violation of Indian penal code(IPC).
 Under Foreign Relation Act (FRA), 1932 any malicious propaganda that has intention to vitiate friendly relation with other nation is punishable , this does not include the country namely Pakistan.
 Though it is not clearly elaborated in IPC any speech that jeopardize the decency and morality is regarded as punishable offence.

Conclusion :

Unrestricted allegations against government of the day is spreading like a wild fire which needs continuous scrutiny and at the same time maintaining constitutional rights of the issues in public interest. The same constitution mentions, namely Article 19 (2), conditions under which the FOSE can be regulated and curtailed if those acts breach the barriers of socially well accepted norms and that put the dignity and reputation of the state at a stake. It would augur well if we use the rights within the perimeter put by Indian constitution with well sate of mind and discretion.

Long essay on Freedom of speech – Challenges to India

Introduction :

India constitution guarantees every Indian the freedom of speech  irrespective of gender (sex), caste, creed or religion. This is a fundamental freedom which is guaranteed and that defines the values of democracy in any nation. The freedom to practice of religion, the freedom to express love and affection, the freedom to express our opinions & thoughts and dissenting views without hurting sentiments and causing violence is an essential part of Indian democracy. Freedom of speech is not about our fundamental rights, it is actually a fundamental duty that every citizen should rightfully obey in order to save the essence of our democracy.

  • The kind of freedom of speech we find in many democratic countries like UK, USA, France or Germany is not seen in authoritarian governments like Malayasia, China or Syria and is failed democracies Pakisthan or Rwanda.
  • These governance systems are failed due to lack of freedom of speech in their countries. The freedom of speech of a country can apparently be measured in terms of the freedom of the press of that country.
  • A strong media reflects a strong, liberal and a healthy democratic system with an appetite to take criticisms and dissent in a positive manner.
  • Mostly some governments are very hostile towards any form of dissent of criticism coming towards them and they try to stifle the voices that would have against them.
  • This is a dangerous precedent for any country for example, in India, there are more than 135 crore people and we can rest assured that not every person will have the same way of thinking and the same way of opinion on a given topic.
  • The difference of opinions and respect we have for each other in a policy-making body is what makes us a true democracy. All sides and perspective of the topic have to be considered before making a choice.
  • A good democracy will involve all its members before formulating a policy but a bad one will blindside its critics and takes unilateral and authoritarian policies and force them to their citizens.
  • The sedition law, under section 124A of Indian Penal Code, says that if a person by words either by written or spoken brings hatred, contempt or excites tension towards a government or a person can be fined or jailed or both.
  • This law is never used in its spirit. British used to use this law to silence the freedom fighters of India and now the ruling parties of India use this to stifle the dissenters and is harming the democratic values of the country.
  • Inspite of various laws that protect the people of India in rightly fully exercising their freedom of expression in India. But while the laws stay, its implementation that are proving to be a big challenge for the authorities in India.
  • At the same time, freedom of speech and expression can’t be absolute. No one can cause violence, hatred, bigotry and tensions in the society in the name of freedom of speech.
  • This will harm the very reason why freedom of speech is allowed in the first place. Freedom of speech should not lead to anarchy and chaos in a country.

Conclusion :

When article 370 was abrogated in Kashmir, freedom of speech was stifled, not because the government wanted to stifle democratic values but to prevent the spread of fake news, put a curb on terrorism and any sorts of preventing communal tensions in the area. Governments around the world should maintain a balance between freedom of speech and maintaining law and order. To protect freedom of speech we can’t compromise on the law and order of a state and in the same way in order to maintain law and order we should not curtail the freedom of speech of the people.

Essay on Freedom of speech Vs Abrogation of Article 370 and 35a

Introduction :

The article 370 and 35A of the Indian constitution deals with the provision of certain special powers to the state of Jammu and Kashmir. It grants a ‘temporary’ autonomous status to the state of Jammu & Kashmir. After passing a statutory resolution on scrapping special status to Jammu and Kashmir, Article 370 was abrogated by Indian Government on 5th August 2019 and Rajya Sabha had passed a Reorganization Bill 2019 which had effectively bifurcated the state of Jammu and Kashmir into two Union Territories – Jammu and Kashmir and Ladakh.

  • As per the Article 370, the provisions of the constitution which apply to other states do not apply to Jammu and Kashmir until and unless the state legislative assembly of Jammu and Kashmir separately passes such provision except provisions related to defense, foreign affairs, finance, and communications.
  • The residents of the state of Jammu & Kashmir had a separate law and provisions related to Citizenship, Ownership of property, Fundamental rights, Directive Principle of State Policy and Fundamental Duties & these were not applicable to the state of Jammu and Kashmir.
  • After abrogation of article 370, Jammu and Kashmir is no longer enjoy special status and the laws of Indian Constitution are applicable to all residents of Jammu & Kashmir and Ladakh including provisions related to Citizenship, Ownership of property, Fundamental rights, Directive Principle of State Policy and Fundamental Duties. 
  • Article 35A has been abrogated and now Indian tricolour is National Flag for J&K and Ladhak also. Right to Information and Right to Education are now applicable to J&K & Ladhak union territories.
  • The Panchayats are now enjoying the same powers as in other states. With abrogation of Article 370, tenure of J&K state Assembly is now be of five years as in other parts of state which till now had a special status with a 6-year tenure.
  • The Union Territories (UTs) now have a Chief Minister and a Lt Governor and all financial bills will need to cleared by Lt Governor.
  • Indian Penal Code (IPC) had replaced Ranbir Penal Code (RPC) to deal with criminal matters. With addition of two new UTs, total number of union territories are now 8 i.e. J&K, Ladakh, Delhi, Puducherry, Diu and Daman & Dadra and Nagar Haveli, Chandigarh, Lakshadweep and Andaman and Nicobar Islands.

Conclusion :

Post the repeal of the Article 370, doors to private investment in J&K are opened, which helps in increasing the potential for development there. Increased investments also leads to increased job creation and further betterment of socio-economic infrastructure in the state. The Government is now able to provide better medical, education facilities to citizens of J&K and have better position to curb terrorism. The Opening of buying of lands bring in investments from private individuals and multinational companies and also give a boost to the local economy.

Essay on Freedom of speech Vs National Register of Citizens (NRC) Issues in India

Introduction :

The National Register of Citizens (NRC), is the list of Indian citizens in Assam. National Register of Citizens, 1951 is a register prepared after the conduct of the Census of 1951 in respect of each village, showing the houses in a serial order and indicating names of persons staying therein. It is being updated to weed out illegal immigration from Bangladesh and neighbouring regions.

  • Recently Assam released the final draft of the National Register of Citizens (NRC), which included 1.9 crore names out of a total applicant pool of 3.29 crore.
  • The political leaders have assured that everyone will be given a fair and patient hearing to prove their citizenship.
  • The Supreme Court recently issued a notice to the centre and the Election Commission of India on a plea seeking that the National Register of Citizens (NRC) be updated to include Tripura.
  • The final draft of the NRC in Assam was released, excluding four million residents of the state.
  • An updated NRC is likely to put an end to speculations about the actual number of illegal migrants in Assam in particular and the country in general.
  • It will provide a verified dataset to carry out meaningful debates and implement calibrated policy measures.
  • Though the draft provides a window for re-verification, due to large number of people being excluded from the list, it will be very difficult to physically verify all of them.
  • This draft of the NRC is however not final and people can still appeal against the non-inclusion of their names in the NRC.

Conclusion :

Several religious and linguistic minority groups are also opposing the NRC as discriminatory and undemocratic. The main purpose of NRC is to separate illegal immigrants from legitimate residents of Assam.  The immediate consequence of it is that several lakh individuals will lose their right to vote. The claims of those left out in the NRC must be heard carefully. There is a need for a robust mechanism of legal support for the four million who have to prove their citizenship to India with their limited means.

Essay on Freedom of speech Vs Internal Security Challenges in India

Introduction :

Internal security is the security that lies within the borders of a country. It ensures the maintenance of peace, law & order and protection of sovereignty within territory of a country. Internal security is different from external security. External security is considered as the security against aggression by a foreign country. Maintaining the external security is the responsibility of the armed forces of the country such as the Indian Army, Indian Navy and Indian Air Force in India.

  • While internal security comes under the purview of the police, which can also be supported by the Central Armed Police Forces (CAPF) as per the requirement.
  • In India, the internal security matters are governed by Ministry of Home Affairs (MHA). If we look at the past, India’s internal security problems have multiplied because of linguistic riots, inter-state disputes and ethnic tensions.
  • Our country was forced to redefine its inter state boundaries due to linguistic riots in 1956. After that, the rise of Naxalism was also seen as a threat to internal security in India.
  • At the time of independence, our country was under-developed. The country adopted the equitable and inclusive growth model for growth and development.
  • This situation was exploited by various people or groups to pose a very dangerous challenge to the country’s internal security in the form of Naxalism and Left-Wing Extremism.
  • Cyber security is the latest challenge that our country is facing these days. We could be the target of a cyberwar which can harm our security at any time.
  • The growth in the use of internet has also shown that social media could play a vital role in spreading fake news and violence and thus can become a threat to our internal security. 
  • Border management is also important in reducing the threats to our internal security. A weak border management can result in infiltration of terrorists, illegal immigrants and smuggling of items like arms, drugs and counterfeit currency.

Conclusion : 

In the Global Terrorism Index 2020, India has been ranked at 8th place in the list of countries most affected by terrorism. India continues to deal with terrorist activity on different fronts like terrorism related to territorial disputes in J&K and secessionist movement in Assam. India needs to implement all of its national powers in a coordinated manner to address its security issues and this will happen only when we give national level importance to internal security in India.

read more
Essays

Essay on India & The Largest Vaccination Drive in hindi

Essay on India & The Largest Vaccination Drive in hindi

Introduction :

“आप शुरुआत को नहीं बदल सकते लेकिन आप जहां हैं वहीं से शुरू कर सकते हैं और अंत को बदल सकते हैं।” यह कथन किसी भी तरह की समस्या से निपटने के लिए आशावादी दृष्टिकोण को दर्शाता है। यह दूसरों पर उंगली उठाने के बजाय समस्या का समाधान खोजने पर ध्यान केंद्रित करता है। भारत सरकार ने 16 जनवरी 2021 को दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम शुरू करके ऐसा ही किया है। कोविड-19 महामारी ने पूरी दुनिया में लाखों लोगों को संक्रमित किया है। इसके कारण लाखो लोगों की जान भी जा चुकी है। कोविड-19 के टीके वर्तमान में उपलब्ध हैं और लोगों के जीवन को बचाने में मददगार हैं।

  • एक रिपोर्ट के मुताबिक इस जानलेवा महामारी से बचने का एकमात्र उपाय टीकाकरण ही है। इसलिए दुनिया के हर व्यक्ति को टीका लगवाने की जरूरत है ताकि हम इस वायरस को जड़ से ख़त्म कर सके। इसके लिए भारत सरकार ने कई चरणों में टीकाकरण की शुरुआत की।
  • पहला चरण 16 जनवरी 2021 से शुरू हुआ जिसमें फ्रंट लाइन वर्कर्स और स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया गया। दूसरे चरण में वरिष्ठ नागरिकों और 45 से 60 वर्ष की आयु के लोगों को टीका लगाया गया।
  • और तीसरे चरण में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकारण किया गया। हाल ही में हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 3 जनवरी 2022 से 15 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के लिए टीका और 10 जनवरी से फ्रंट लाइन कार्यकर्ताओं के लिए बूस्टर खुराक की घोषणा भी की है।

Conclusion :

हाल ही के आंकड़ों के अनुसार, 90% से अधिक लोगों ने अपनी पहली खुराक ले ली है और 60% से अधिक लोगों ने अपनी दूसरी खुराक भी ले ली है। यह स्पष्ट है कि कैसे भारत टीकाकरण अभियान में विश्व में अग्रणी बना हुआ है। लेकिन कुछ चुनौतियाँ भी हैं जैसे खराब इंटरनेट कनेक्टिविटी के कारण सर्टिफिकेट जारी होने में रुकावटें और पंजीकरण के लिए इस्तेमाल किया जा रहा Cowin -ऐप कभी-कभी ठीक से काम नहीं करता है। बड़े नेताओं और प्रभावशाली लोगों को टीकाकरण के महत्व के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए आगे आना चाहिए। इस वायरस को हराने के लिए स्थानीय समुदायों और स्वास्थ्य कर्मियों के साथ केंद्र और राज्य सरकारों का सहयोग होना चाहिए क्योंकि यह ठीक ही कहा गया है “हर यात्रा की शुरूआत पहले कदम से ही होती है”

कोविड 19 वैक्सीन पर निबंध (Covid 19 vaccine essay in Hindi)

Introduction : 

भारत सरकार ने एस्ट्रा-ज़ेनेका और भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोविशिल्ड और कोवाक्सिन नाम के कोविड -19 टीकों को मंजूरी दे दी है। इसे देखते हुए हमारे पीएम मोदी जी ने 16 जनवरी, 2021 को कोविड -19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की, जो हर साल लाखों लोगों की जान बचा सकता है। यह पूरे देश में लागू होने वाला दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इसके लिए कुल 3006 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं ।

  • हालाँकि भारत में सम्पूर्ण रूप से टीकाकरण करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसके लिए कम से कम 30 से 40% लोगों का टीकाकरण करने की आवस्यकता होगी । यह अनुमान है कि पूर्ण टीकाकरण के लिए कोविड-19 टीकों की न्यूनतम 1  अरब खुराक की आवश्यकता होगी।
  • वैक्सीन को चरणबद्ध तरीके से लोगो को उपलब्ध कराया जाएगा। इसके पहले चरण में, सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में डॉक्टर, नर्स और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों एवं स्वास्थ्य कर्मियों का टीकारण किया जाएगा।
  • क्योंकि वे उन लोगों के निकट संपर्क में होते हैं जो कोविड -19 से संक्रमित हैं। फिर इसे पुलिस, सशस्त्र बलों, नगरपालिका कर्मचारियों और अन्य विभागीय कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा। 
  • तीसरे चरण में, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोग और वे लोग जिन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप है या जिन्होंने अंग प्रत्यारोपण कराया है, ऐसे लोगो का टीकाकरण किया जाएगा। उसके बाद, स्वस्थ वयस्कों, किशोरों और बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। केंद्र सरकार स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम कर्मियों पर टीकाकरण का खर्च खुद से वहन करेगी ।

Conclusion : 

टीकाकरण की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, सरकार ने CoWIN नामक एक एप्लिकेशन भी विकसित की है, जो कोविड -19 वैक्सीन लाभार्थियों के लिए  वैक्सीन स्टॉक, भंडारण और व्यक्तिगत ट्रैकिंग की सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करने में मददगार साबित हो रही है। कोविड -19 के लिए टीकाकरण भारत में स्वैच्छिक है। यह लोगों को इस बीमारी से बचाने का एक सुरक्षित और प्रभावी तरीका है। टीके हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ काम करके बीमारियों के जोखिम को कम करते हैं।

Watch Video

कोविड 19 वैक्सीन पर निबंध –

Introduction : 

भारत सरकार ने एस्ट्रा-ज़ेनेका और भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोविशिल्ड और कोवाक्सिन नाम के कोविड -19 टीकों को मंजूरी दे दी है। इसे देखते हुए हमारे पीएम मोदी जी ने 16 जनवरी, 2021 को कोविड -19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की, जो हर साल लाखों लोगों की जान बचा सकता है। यह पूरे देश में लागू होने वाला दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इसके लिए कुल 3006 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं । हालाँकि भारत में सम्पूर्ण रूप से टीकाकरण करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसके लिए कम से कम 30 से 40% लोगों का टीकाकरण करने की आवस्यकता होगी ।

  • वैक्सीन हमारे शरीर को किसी बीमारी, वायरस या संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार करती है. वैक्सीन में किसी जीव के कुछ कमज़ोर या निष्क्रिय अंश होते हैं जो बीमारी का कारण बनते हैं. ये शरीर के ‘इम्यून सिस्टम’ यानी प्रतिरक्षा प्रणाली को संक्रमण की पहचान करने के लिए प्रेरित करते हैं और उनके ख़िलाफ़ शरीर में एंटीबॉडी बनाते हैं जो बाहरी हमले से लड़ने में हमारे शरीर की मदद करती हैं.
  • वैक्सीन लगने का नकारात्मक असर कम ही लोगों पर होता है, लेकिन कुछ लोगों को इसके साइड इफ़ेक्ट्स का सामना करना पड़ सकता है. हल्का बुख़ार या ख़ारिश होना, इससे सामान्य दुष्प्रभाव हैं. वैक्सीन लगने के कुछ वक़्त बाद ही हम उस बीमारी से लड़ने की इम्यूनिटी विकसित कर लेते हैं.
  • अमेरिका के सेंटर ऑफ़ डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का कहना है कि वैक्सीन बहुत ज़्यादा शक्तिशाली होती हैं क्योंकि ये अधिकांश दवाओं के विपरीत, किसी बीमारी का इलाज नहीं करतीं, बल्कि उन्हें होने से रोकती हैं.
  • भारत में दो टीके तैयार किए गए हैं. एक का नाम है कोविशील्ड जिसे एस्ट्राज़ेनेका और ऑक्सफ़र्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने तैयार किया और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया ने इसका उत्पादन किया और दूसरा टीका है भारतीय कंपनी भारत बायोटेक द्वारा बनाया गया कोवैक्सीन.
  • रूस ने अपनी ही कोरोना वैक्सीन तैयार की है जिसका नाम है ‘स्पूतनिक-V’ और इसे वायरस के वर्ज़न में थोड़ बदलाव लाकर तैयार किया गया. इस वैक्सीन को भारत में इस्तेमाल की अनुमति मिल चुकी है. मॉडर्ना वैक्सीन को भी भारत में इस्तेमाल की मंज़ूरी मिल चुकी है. 
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि संक्रमण को रोकने के लिए कम से कम 65-70 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन लगानी होगी, जिसका मतलब है कि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित करना होगा.
  • कोरोना वायरस महामारी ने दुनिया भर में न सिर्फ करोड़ों लोगों की सेहत को प्रभाव किया है बल्कि समाज के सभी वर्गों में डिप्रेशन, तनाव का कारण भी बनी है. कोविड वैक्सीन लगवाने से एक स्पष्ट और आश्चर्यजनक फायदा मिलता है. ये आपको गंभीर रूप से बीमारी या वायरस की चपेट में आने पर मौत से बचाती है ये अपने आप में खुद हैरतअंगज फायदा है.
  • शोधकर्ताओं का कहना है कि टीकाकरण करानेवाले लोगों को मानसिक स्वास्थ्य मेंमहत्वपूर्ण सुधार का भी अनुभव हो सकता है. यूनिवर्सिटी ऑफ साउदर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा कि वैक्सीन संभावित तौर पर मानसिक स्वास्थ्य को फायदा पहुंचा सकती है.
  • प्लोस पत्रिका में प्रकाशित रिसर्च का मकसद ये मूल्यांकन करना था कि वैक्सीन का पहला डोज लगवाने से मानसिक परेशानी में कम समय के लिए क्या प्रभाव पड़ते हैं. 
  • शोधकर्ताओं ने 8 हजार व्यस्को के मानसिक स्वास्थ्य का विश्लेषण रिसर्च के तौर पर 1 मार्च 2020 और 31 मार्च 2021 के बीच किया. रिसर्च में टीकाकरण से संक्षिप्त समय के लिए सीधे प्रभाव का खुलासा हुआ.
  • महत्वपूर्ण बात ये है कि रिसर्च ने टीकाकरण कराने के सरकारात्मक प्रभाव में इजाफा किया. शोधकर्ताओं ने बताया कि हम प्रमाणित करते हैं कि कैसे दिमागी सेहत की परेशानी टीकाकरण करानेवाले और वैक्सीन नहीं लगवानेवालों के बीच अलग हो गई. आर्थिक अनिश्चितता और कोविड-19 से जुड़ी सेहत के जोखिम के बीच तुलना करने पर हमें दिमागी सेहत पर टीकाकरण के कम समय के प्रभाव मालूम हुए. 
  • कोविड-19 वैक्सीन से स्वास्थ्य के जोखिम को कम करने, आर्थिक और सामाजिक नतीजे सुधारने की उम्मीद की जाती है, जिसके बाद दिमागी सेहत के लिए संभावित लाभ होंगे.  डॉक्टर एचके महाजन ने कहा, “कोरोना महामारी ने रोजगार, आय और सेहत समेत लोगों की जिंदगी के कई पहलुओं को प्रभावित किया है.
  • इस वायरल बीमारी के मानसिक पहलू मनोवैज्ञानिक तनाव, चिंता, डिप्रेशन, सामाजिक अलगाव और खुदकुशी के विचार तक सीमित नहीं हैं.” उन्होंने आगे बताया, “बड़े पैमाने पर टीकाकरण ने हर्ड इम्यूनिटी बढ़ाने, लोगों के बीच चिंता कम करने में बड़ा योगदान दिया.
  • उसने आजीविका गंवाने वालों की दोबारा रोजगार के पहलू को भी बढ़ाया. 
  • टीकाकरण के गंभीर संक्रमण से सुरक्षा पर जागरुकता फैलने से लोग कोरोना से पहले की स्थिति में धीरे-धीरे लौट रहे हैं. इस तरह ये दिमागी सेहत के मुद्दे जैसे चिंता, डिप्रेशन दूर करने में मदद कर रहा है.”

Conclusion : 

वैक्सीन को चरणबद्ध तरीके से लोगो को उपलब्ध कराया जाएगा। इसके पहले चरण में, सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में डॉक्टर, नर्स और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों एवं स्वास्थ्य कर्मियों का टीकारण किया जाएगा। क्योंकि वे उन लोगों के निकट संपर्क में होते हैं जो कोविड -19 से संक्रमित हैं। फिर इसे पुलिस, सशस्त्र बलों, नगरपालिका कर्मचारियों और अन्य विभागीय कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा। तीसरे चरण में, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोग और वे लोग जिन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप है या जिन्होंने अंग प्रत्यारोपण कराया है, ऐसे लोगो का टीकाकरण किया जाएगा। उसके बाद, स्वस्थ वयस्कों, किशोरों और बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। 

केंद्र सरकार स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम कर्मियों पर टीकाकरण का खर्च खुद से वहन करेगी । टीकाकरण की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, सरकार ने CoWIN नामक एक एप्लिकेशन भी विकसित की है, जो कोविड -19 वैक्सीन लाभार्थियों के लिए  वैक्सीन स्टॉक, भंडारण और व्यक्तिगत ट्रैकिंग की सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करने में मददगार साबित हो रही है। कोविड -19 के लिए टीकाकरण भारत में स्वैच्छिक है। यह लोगों को इस बीमारी से बचाने का एक सुरक्षित और प्रभावी तरीका है। टीके हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ काम करके बीमारियों के जोखिम को कम करते हैं।

कोरोना महामारी में जीवन पर निबंध

Introduction : 

कोरोना महामारी ने हमारे दैनिक जीवन को पूरी बदल कर रख दिया है। इस महामारी के कारण लाखो लोग बुरी तरह से प्रभावित हुए है, जो या तो बीमार हैं या इस बीमारी के फैलने के कारण मारे जा रहे हैं। इस वायरल संक्रमण के सबसे आम लक्षण बुखार, सर्दी, खांसी, हड्डियों में दर्द और सांस लेने में समस्या है। यह, पहली बार लोगों को प्रभावित करने वाला एक नया वायरल रोग होने के कारण, अभी तक इसकी वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो सकी हैं। इसलिए अतिरिक्त सावधानी बरतने पर जोर दिया जाना बहुत जरुरी है, जैसे कि स्वच्छता, नियमित रूप से हाथ धोना, सामाजिक दूरी और मास्क पहनना आदि।

विभिन्न उद्योग और व्यापारिक क्षेत्र इस महामारी के कारण प्रभावित हुए हैं जिनमें फार्मास्यूटिकल्स उद्योग, बिजली क्षेत्र और पर्यटन शामिल हैं। यह वायरस नागरिकों के दैनिक जीवन के साथ-साथ वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भी भारी प्रभाव डाल रहा है।

एक देश से दूसरे देश की यात्रा करने पर प्रतिबंध है। यात्रा के दौरान, कोरोना मामलों की संख्या बढ़ते हुए देखी गयी है जब परीक्षण किया गया, खासकर जब वे अंतरराष्ट्रीय दौरे से लौट रहे हों।

  • कोरोना वायरस ने भारत की शिक्षा को प्रभावित किया है। फिलहाल मार्च महीने से लॉकडाउन की वजह से विद्यालय बंद कर दिए गए है। सरकार ने अस्थायी रूप से स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया।
  • शिक्षा क्षेत्रों के लिए महत्वपूर्ण समय है क्यों कि इस अवधि के दौरान प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है। इसके साथ बोर्ड परीक्षाओं और नर्सरी स्कूल प्रवेश इत्यादि सब रुक गए है।
  • शिक्षा संस्थानों के बंद होने का कारण दुनिया भर में लगभग 600  मिलियन शिक्षार्थियों को प्रभावित करने की आशंका जातायी जा रही है।
  • ऑनलाइन क्लासेस के ज़रिये विद्यार्थी इस प्रकार के अनोखे शिक्षा प्रणाली को समझ पाए है। लॉकडाउन के दुष्प्रभाव को ऑनलाइन शिक्षा पद्धति से कम कर दिया है।
  • केंद्र सरकार ने शिक्षा प्रणाली को विकसित करने हेतु पहले साल की तुलना में इस साल व्यय अधिक किया है ताकि कोरोना संकटकाल के नकारात्मक प्रभाव शिक्षा पर न पड़े। सीबीएसई ने विशेष टोल फ्री नंबर लागू किया है जिसके माध्यम से विद्यार्थी घर पर रहकर अधिकारयों से मदद ले सकते है।
  • बारहवीं कक्षा के विषय संबंधित पुस्तकें ऑनलाइन जारी की गयी है ताकि बच्चो की शिक्षा में बिलकुल बाधा न आये।
  • लॉक डाउन में कुछ बच्चे शिक्षा को लेकर ज़्यादा गंभीर नहीं रहे, वह सोशल मीडिया में चैट मोबाइल में गेम्स खेलते है और अपने कीमती समय को बर्बाद कर रहे थे।
  • अभी माता -पिता की यह जिम्मेदारी है कि लॉकडाउन में भी बच्चे घर पर अनुशासन का पालन करे और ऑनलाइन शिक्षा को गम्भीरतापूर्वक ले और खाली समय में ऑनलाइन एनिमेटेड शिक्षा संबंधित वीडियोस और विभिन्न ऑनलाइन वर्कशीट्स के प्रश्नो को हल करें।
  • कोविड-19 की महामारी ने आज समूचे विश्व की अर्थव्यवस्था, शैक्षिक व्यवस्था तथा सामाजिक स्तर को अत्यंत प्रभावित किया है।
  • कोरोना वायरस ने पुरे विश्व केशक्तिशाली देशों को घुटनो पर लाकर रख दिया है। सारे देश मिलकर कोरोना वायरस से मुक्ति पाने में जुटी है और डॉक्टर्स ,नर्सेज एकजुट होकर लड़ रहे है। उनकी जितनी भी सराहना की जाए कम होगी।
  • नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कठोर कदम उठाये है जो हमारे देश की भलाई के लिए है और हम सभी को एक भारतीय होने के नाते इस कठोर समय में उनका साथ देना चाहिए ताकि हम देश को रोगमुक्त कर सके। ऐसा करने पर जल्द ही ज़िन्दगी फिर से वापस पटरी पर आ जाएगी। कोरोना वायरस के खिलाफ यह महायुद्ध तब तक जारी रहेगा जब तक हम इस वायरस को जड़ से ख़त्म ने करे।
  • एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्क्रीनिंग हो या फिर लैब में लोगों की जांच, सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए कई तरह की तैयारी की है। इसके अलावा किसी भी तरह की अफवाह से बचने, खुद की सुरक्षा के लिए कुछ निर्देश जारी किए हैं जिससे कि कोरोना वायरस से निपटा जा सकता है।
  • कोरोनावायरस से बचाव के लिए वर्तमान में कोवैक्सीन तथा कोवीशील्ड नामक दो टीके लगाए जाना शुरू हो चुके है। एक्सपर्ट्स के अनुसार दोनों ही टीके सुरक्षित है। इस वैक्सीन की दो डोज निश्चित समय के अंतराल पर दी जाती है। अभी यह वैक्सीन आयु के अनुसार देश में लगाई जा रही है।

Conclusion : 

लॉकडाउन ने प्रवासी श्रमिकों को भी प्रभावित किया है, जिनमें से कई उद्योगों को बंद करने के कारण अपनी नौकरी खो चुके हैं और सरकार ने प्रवासियों के लिए राहत उपायों की घोषणा भी की ताकि वे अपने अपने घर वापस लौट सके। सभी सरकारें, स्वास्थ्य संगठन और अन्य प्राधिकरण लगातार कोरोना से प्रभावित मामलों की पहचान करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। डॉक्टर और सम्बंधित अधिकारी इन दिनों स्वास्थ्य सेवा की गुणवत्ता को बनाए रखने में बहुत कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं।

कोरोना वायरस का वैश्विक अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

Introduction :

कोरोनावायरस (COVID-19) एक संक्रामक रोग है जो कोरोनावायरस के कारण होता है। इसकी शुरुआत पहली बार दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर से हुई। डब्ल्यूएचओ ने 30 जनवरी को कोरोनवायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया है। कोरोनावायरस न केवल लोगों के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है बल्कि दुनिया के सभी देशों की अर्थव्यवस्थाओं को भी प्रभावित कर रहा है।

विश्व व्यापार संगठन के अनुसार, व्यापार के मामले में, चीन दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक और दूसरा सबसे बड़ा आयातक है। विश्व के निर्यात का 13% और आयात का 11% केवल चीन से होता है। दुनिया के कई उद्योग अपने कच्चे माल के लिए चीन पर निर्भर हैं। पुरे विश्व में खरीदी जाने वाली लगभग एक तिहाई मशीनरी चीन से आती है, इसलिए कोरोनवायरस ने वैश्विक आपूर्ति पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है।

चीन में कई कारखाने अब बंद हो गए हैं, निर्भर कंपनियों के लिए उत्पादन भी बंद हो गया है। उत्पादन में मंदी के कारण खपत में भी गिरावट आई है और इस तरह से दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं पर असर पड़ रहा है। कोरोनोवायरस फैलने के कारण लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध के कारण पर्यटन उद्योग को भी भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

कोरोना वायरस का आयात पर प्रभाव

  • इस वायरस से हवाई यात्रा, शेयर बाज़ार, वैश्विक आपूर्ति शृंखलाओं सहित लगभग सभी क्षेत्र प्रभावित हो रहे हैं।
  • यह वायरस अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है, जबकि इसके कारण चीनी अर्थव्यवस्था पहले से ही मुश्किल स्थिति में है।
  • इन दो अर्थव्यवस्थाओं, जिन्हें वैश्विक आर्थिक इंजन के रूप में जाना जाता है, संपूर्ण वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती तथा आगे जाकर मंदी का कारण बन सकता है।
  • निवेशकों के बाज़ारों से बाहर निकलने के कारण शेयर बाज़ार सूचकांक में लगातार गिरावट आई है। लोग बड़ी राशि को अपेक्षाकृत सुरक्षित क्षेत्र यथा- ‘सरकारी बाॅण्ड’ में लगा रहे हैं जिससे कीमतों में तेज़ी तथा उत्पादकता में कमी देखी गई है।
  • अमेरिकी बाज़ार में वर्ष 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद सबसे खराब अनुभव हाल ही में कोरोना वायरस के कारण महसूस किया गया, ध्यातव्य है कि अमेरिकी बाज़ार में 12% से अधिक की गिरावट आई है।
  • यहाँ ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि जो निवेशक ऐसे संकट के समय सामान्यत: स्वर्ण में निवेश करते हैं, इस संकट के समय उन्होंने इसका भी बहिष्कार कर दिया जिससे सोने की कीमतों में गिरावट देखी गई, तथा लोगों ने सरकारी गारंटी युक्त ‘ट्रेज़री बिल’ (Treasury Bills) में अधिक निवेश करना उचित समझा।
  • Apple, Nvidia, Adidas जैसी कंपनियाँ इससे अधिक प्रभावित हो सकती हैं क्योंकि ये चीन के आपूर्तिकर्त्ताओं पर निर्भर हैं, इन्हें भविष्य में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

भारत की अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव

  • भारत जब अर्थव्यवस्था को पुन: पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा है, ऐसे समय में इस वायरस का केवल सतही प्रभाव नहीं पड़ेगा तथा ऐसे कठिन समय में समस्या का समाधान मात्र ‘एयर लिफ्टिंग’ से संभव नहीं है।
  • यह समस्या न केवल आपूर्ति शृंखला को प्रभावित करेगी, अपितु यह भारत के फार्मास्यूटिकल, इलेक्ट्रॉनिक, ऑटोमोबाइल जैसे उद्योगों को गंभीर रूप से प्रभावित करेगी।
  • निर्यात, जिसे अर्थव्यवस्था के विकास का इंजन माना जाता है, इसमें वैश्विक मंदी की स्थिति में और गिरावट देखी जा सकती है, साथ ही निवेश में भी गिरावट आ सकती है।
  • भारतीय कंपनियाँ चीन आधारित ‘वैश्विक आपूर्ति शृंखला’ में शामिल प्रमुख भागीदार नहीं हैं, अत: भारतीय कंपनियाँ इससे अधिक प्रभावित नहीं होंगी।
  • दूसरा, कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आ रही है, जो कि वृहद् अर्थव्यवस्था और उच्च मुद्रास्फीति के चलते अच्छी खबर है।
  • भारत सरकार को लगातार विकास की गति का अवलोकन करने की आवश्यकता है, साथ ही चीन पर निर्भर भारतीय उद्योगों को आवश्यक समर्थन एवं सहायता प्रदान करनी चाहिये।
  • कोरोना वायरस जैसी बीमारी की पहचान, प्रभाव, प्रसार एवं रोकथाम पर चर्चा अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों द्वारा की जानी चाहिये ताकि इस बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सके।

Conclusion : 

वायरस जनित यह संकट किसी अन्य वित्तीय संकट से बिलकुल अलग है। अन्य वित्तीय संकटों का समाधान समय-परीक्षणित उपायों जैसे- दर में कटौती, बेल-आउट पैकेज आदि से किया जा सकता है, परंतु वायरस जनित संकट का समाधान इन वित्तीय उपायों द्वारा किया जाना संभव नहीं है। ऑटोमोबाइल उद्योग पहले ही आर्थिक मंदी के कारण संकट में है और अब माल और सेवाओं की आपूर्ति बाधित होने के कारण उत्पादन में कमी आ रही है। चीन से आपूर्ति में रुकावट के कारण वैश्विक वित्तीय बाजार में उतार-चढ़ाव हो रहा है। यद्यपि दुनिया की अर्थव्यवस्था पर कोरोनोवायरस के सटीक प्रभाव को निर्धारित करना मुश्किल है, फिर भी यह स्पष्ट है कि यह प्रभाव लंबे समय तक रहेगा।

अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस का प्रभाव पर निबंध

Introduction :

कोरोना वायरस एक प्रकार का वायरस है जो मानव और अन्य स्तनधारियों के श्वसन पथ को प्रभावित करता है। ये सामान्य सर्दी, निमोनिया और अन्य श्वसन लक्षणों से जुड़े हैं। कोरोना वायरस दुनिया भर में बीमारी बन गया है और दुनिया के सभी देश इसका सामना कर रहे हैं। जिसके कारण दुनिया की आबादी अपने घर के अंदर रहने को मजबूर है। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण देश में 53% तक व्यवसाय प्रभावित हुए है।

कोरोना वायरस का प्रकोप सबसे पहले 31 दिसंबर, 2019 को चीन के वुहान में पड़ा। विश्व स्वास्थ्य संगठन इसको रोकने के उपायों के बारे में देशों को सलाह देने के लिए वैश्विक विशेषज्ञों, सरकारों और अन्य स्वास्थ्य संगठनों के साथ मिलकर काम कर रहा है। व्यापार के मामले में, चीन दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक और दूसरा सबसे बड़ा आयातक है। चीन विश्व के कुल निर्यात का 13% और आयात का 11% हिस्सेदार है।

इसका असर भारतीय उद्योग पर पड़ेगा। भारत का कुल इलेक्ट्रॉनिक आयात चीन से करीब 45% है। दुनिया भर में भारत से खरीदी जाने वाली लगभग एक तिहाई मशीनरी चीन से आती है और लगभग 90% मोबाइल फोन चीन से आते हैं। इसलिए, हम कह सकते हैं कि कोरोनावायरस के मौजूदा प्रकोप के कारण, चीन पर आयात निर्भरता का भारतीय उद्योग पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। देश भर में बड़ी संख्या में किसानों को भी अनिश्चितता का सामना करना पड़ रहा है।

  • इस वायरस से हवाई यात्रा, शेयर बाज़ार, वैश्विक आपूर्ति शृंखलाओं सहित लगभग सभी क्षेत्र प्रभावित हो रहे हैं।
  • यह वायरस अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है, जबकि इसके कारण चीनी अर्थव्यवस्था पहले से ही मुश्किल स्थिति में है।
  • इन दो अर्थव्यवस्थाओं, जिन्हें वैश्विक आर्थिक इंजन के रूप में जाना जाता है, संपूर्ण वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती तथा आगे जाकर मंदी का कारण बन सकता है।
  • निवेशकों के बाज़ारों से बाहर निकलने के कारण शेयर बाज़ार सूचकांक में लगातार गिरावट आई है। लोग बड़ी राशि को अपेक्षाकृत सुरक्षित क्षेत्र यथा- ‘सरकारी बाॅण्ड’ में लगा रहे हैं जिससे कीमतों में तेज़ी तथा उत्पादकता में कमी देखी गई है।
  • अमेरिकी बाज़ार में वर्ष 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद सबसे खराब अनुभव हाल ही में कोरोना वायरस के कारण महसूस किया गया, ध्यातव्य है कि अमेरिकी बाज़ार में 12% से अधिक की गिरावट आई है।
  • यहाँ ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि जो निवेशक ऐसे संकट के समय सामान्यत: स्वर्ण में निवेश करते हैं, इस संकट के समय उन्होंने इसका भी बहिष्कार कर दिया जिससे सोने की कीमतों में गिरावट देखी गई, तथा लोगों ने सरकारी गारंटी युक्त ‘ट्रेज़री बिल’ (Treasury Bills) में अधिक निवेश करना उचित समझा।
  • Apple, Nvidia, Adidas जैसी कंपनियाँ इससे अधिक प्रभावित हो सकती हैं क्योंकि ये चीन के आपूर्तिकर्त्ताओं पर निर्भर हैं, इन्हें भविष्य में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

भारत की अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव

  • भारत जब अर्थव्यवस्था को पुन: पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा है, ऐसे समय में इस वायरस का केवल सतही प्रभाव नहीं पड़ेगा तथा ऐसे कठिन समय में समस्या का समाधान मात्र ‘एयर लिफ्टिंग’ से संभव नहीं है।
  • यह समस्या न केवल आपूर्ति शृंखला को प्रभावित करेगी, अपितु यह भारत के फार्मास्यूटिकल, इलेक्ट्रॉनिक, ऑटोमोबाइल जैसे उद्योगों को गंभीर रूप से प्रभावित करेगी।
  • निर्यात, जिसे अर्थव्यवस्था के विकास का इंजन माना जाता है, इसमें वैश्विक मंदी की स्थिति में और गिरावट देखी जा सकती है, साथ ही निवेश में भी गिरावट आ सकती है।
  • भारतीय कंपनियाँ चीन आधारित ‘वैश्विक आपूर्ति शृंखला’ में शामिल प्रमुख भागीदार नहीं हैं, अत: भारतीय कंपनियाँ इससे अधिक प्रभावित नहीं होंगी।
  • दूसरा, कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आ रही है, जो कि वृहद् अर्थव्यवस्था और उच्च मुद्रास्फीति के चलते अच्छी खबर है।
  • भारत सरकार को लगातार विकास की गति का अवलोकन करने की आवश्यकता है, साथ ही चीन पर निर्भर भारतीय उद्योगों को आवश्यक समर्थन एवं सहायता प्रदान करनी चाहिये।
  • कोरोना वायरस जैसी बीमारी की पहचान, प्रभाव, प्रसार एवं रोकथाम पर चर्चा अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों द्वारा की जानी चाहिये ताकि इस बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सके।
  • वायरस जनित यह संकट किसी अन्य वित्तीय संकट से बिलकुल अलग है। अन्य वित्तीय संकटों का समाधान समय-परीक्षणित उपायों जैसे- दर में कटौती, बेल-आउट पैकेज (विशेष वित्तीय प्रोत्साहन) आदि से किया जा सकता है, परंतु वायरस जनित संकट का समाधान इन वित्तीय उपायों द्वारा किया जाना संभव नहीं है।

Conclusion : 

ऑटोमोबाइल उद्योग पहले ही आर्थिक मंदी के कारण संकट में है और अब माल और सेवाओं की आपूर्ति बाधित होने के कारण उत्पादन में कमी आ रही है। होटल और एयरलाइंस जैसे विभिन्न व्यवसाय अपने कर्मचारियों का वेतन काट रहे हैं और छंटनी भी कर रहे हैं। भारत में काम करने वाली प्रमुख कंपनियों ने अस्थायी रूप से काम को निलंबित कर दिया है।

चीन से आपूर्ति में रुकावट के कारण वैश्विक वित्तीय बाजार में उतार-चढ़ाव हो रहा है। यद्यपि दुनिया की अर्थव्यवस्था पर कोरोनोवायरस के सटीक प्रभाव को निर्धारित करना मुश्किल है, फिर भी यह स्पष्ट है कि यह प्रभाव लंबे समय तक रहेगा। विश्व बैंक और क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों ने 2021 के लिए भारत की वृद्धि को कम कर दिया है, हालांकि, वित्तीय वर्ष 2021-22 में भारत के लिए जीडीपी विकास दर का आकलन अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष  ने 1.9% बताया है जो जी -20 देशों में सबसे अधिक है।

भारत में COVID-19 का सामाजिक प्रभाव पर निबंध

Introduction :

कोरोनावायरस (COVID-19) महामारी एक वैश्विक समस्या बन चुकी है और इस बीमारी का मुकाबला करने के लिए भारत सरकार ने 24 मार्च, 2020 को देश में लॉकडाउन लागू किया। सरकार ने कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में सफलता का दावा किया है, जिसमें कहा गया है कि यदि राष्ट्रव्यापी तालाबंदी नहीं की गई होती तो यहाँ COVID-19 मामलों की संख्या अधिक होती। COVID-19 महामारी के दौरान लॉकडाउन में हमारे खानपान से लेकर हमारी कार्यशैली बदल चुकी है जिसके कारण शारीरिक गतिविधियो में कमी आयी है जिसके कारण मोटापा, मधुमेह और हृदय रोगों के जोखिम को बढ़ा दिया है।

कोरोना वायरस की वजह से कारोबार ठप्प पड़ गए हैं, कई देशों में अंतरराष्ट्रीय यात्राएं रद्द कर दी गई हैं, होटल-रेस्त्रां तो बंद कर दिए गए हैं, कई कंपनियां ख़ासतौर पर, आईटी सेक्टर की कंपनियों ने लोगों को वर्क फ्रॉम होम यानी घर से काम करने की सुविधा दे रही हैं। दुनिया भर के क्षेत्रों में इस महामारी का प्रभाव दिखाई दे रहा है, लेकिन भारत में कमज़ोर वर्गों, महिलाओं और बच्चों पर इसका प्रभाव सबसे अधिक हुआ है। लॉकडाउन के परिणामस्वरूप, समाज के कमजोर वर्ग के बीच कुपोषण की संभावना बढ़ गयी है। 

भारतीय खाद्य निगम (FCI) ने हाल ही में COVID-19 के खिलाफ अपनी लड़ाई में सरकार की पहल के रूप में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्ना योजना (PMGKAY) के तहत 12.96 लाख मीट्रिक टन अनाज आवंटित किया। प्रवासी श्रमिकों का मुद्दा इस महामारी का सबसे प्रमुख मुद्दा रहा, जहाँ लाखों लोग बेरोजगार हो गए और बिना पैसे, भोजन और आश्रय के अपने अपने घरो तक पैदल जाने को मजबूर हुए हलाकि सरकार ने बाद में उनके वापस लौटने की व्यवस्था भी कराई।

शिक्षा के क्षेत्र में –

  • अप्रैल माह के अंत में जब विश्व के अधिकांश देशों में लॉकडाउन लागू किया गया तो विद्यालयों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था, जिसके कारण विश्व के लगभग 90 प्रतिशत छात्रों की शिक्षा बाधित हुई थी और विश्व के लगभग 1.5 बिलियन से अधिक स्कूली छात्र प्रभावित हुए थे।
  • कोरोना वायरस के कारण शिक्षा में आई इस बाधा का सबसे अधिक प्रभाव गरीब छात्रों पर देखने को मिला है और अधिकांश छात्र ऑनलाइन शिक्षा के माध्यमों का उपयोग नहीं कर सकते हैं, इसके कारण कई छात्रों विशेषतः छात्राओं के वापस स्कूल न जाने की संभावना बढ़ गई है।
  • नवंबर 2020 तक 30 देशों के 572 मिलियन छात्र इस महामारी के कारण प्रभावित हुए हैं, जो कि दुनिया भर में नामांकित छात्रों का 33% है।

लैंगिक हिंसा में वृद्धि –

  • लॉकडाउन और स्कूल बंद होने से बच्चों के विरुद्ध लैंगिक हिंसा की स्थिति भी काफी खराब हुई है। कई देशों ने घरेलू हिंसा और लैंगिक हिंसा के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है।
  • जहाँ एक ओर बच्चों के विरुद्ध अपराध के मामलों में वृद्धि हो रही है, वहीं दूसरी ओर अधिकांश देशों में बच्चों एवं महिलाओं के विरुद्ध होने वाली हिंसा की रोकथाम से संबंधित सेवाएँ भी बाधित हुई हैं।

आर्थिक प्रभाव –

  • वैश्विक स्तर महामारी के कारण वर्ष 2020 में बहुआयामी गरीब में रहने वाले बच्चों की संख्या में 15% तक बढ़ोतरी हुई है और इसमें अतिरिक्त 150 मिलियन बच्चे शामिल हो गए हैं।
  • बहुआयामी गरीबी के निर्धारण में लोगों द्वारा दैनिक जीवन में अनुभव किये जाने वाले सभी अभावों/कमी जैसे- खराब स्वास्थ्य, शिक्षा की कमी, निम्न जीवन स्तर, कार्य की खराब गुणवत्ता, हिंसा का खतरा आदि को समाहित किया जाता है। 
  • महामारी का दूसरा सामाजिक प्रभाव ‘नस्लभेदी प्रभाव’ का उत्पन्न होना है। जैसा कि हमें मालूम है इस बीमारी की शुरुआत चीन से हुई है इसलिए चीनी नागरिकों को आगामी कुछ वर्षो तक इस महामारी के चलते जाना-पहचाना जा सकता है।
  • भारत में तो नॉर्थ ईस्ट के भारतीयों पर पहले से ही चीनी, नेपाली, चिंकी-पिंकी, मोमोज़ जैसी नस्लभेदी टिप्पणियां होती रही हैं। अब इस क्रम में कोरोना का नाम भी जुड़ना तय है, जिसे एक सामाजिक समस्या के रूप में देखा जाना चाहिए। 

इस सम्बन्ध में उपाय –

  • सभी देशों की सरकारों को डिजिटल डिवाइड को कम करके यह सुनिश्चित करने का प्रयास करना चाहिये कि सभी बच्चों को सीखने के समान अवसर प्राप्त हों और किसी भी छात्र के सीखने की क्षमता प्रभावित न हो।
  • सभी की पोषण और स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच सुनिश्चित की जानी चाहिये और जिन देशों में टीकाकरण अभियान प्रभावित हुए हैं उन्हें फिर से शुरू किया जाना चाहिये।
  • बच्चों और युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान दिया जाना चाहिये और बच्चों के साथ दुर्व्यवहार और लैंगिक हिंसा जैसे मुद्दों को संबोधित किया जाना चाहिये।
  • सुरक्षित पेयजल और स्वच्छता आदि तक बच्चों की पहुँच को बढ़ाने का प्रयास किया जाए और पर्यावरणीय अवमूल्यन तथा जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों को संबोधित किया जाए।
  • बाल गरीबी की दर में कमी करने का प्रयास किया जाए और बच्चों की स्थिति में समावेशी सुधार सुनिश्चित किया जाए।

सरकार को समस्याओं के समाधान को खोजने का प्रयास करना चाहिए ताकि ऐसी समस्याएँ दोबारा पैदा न हो। इस वायरस से लड़ने के लिए सभी व्यक्तियों, सरकारों और स्वास्थ्य संगठनों को एकसाथ मिलकर योजना बनाकर सामूहिक प्रयास करने की आवश्यकता है।

पर्यावरण पर कोरोना वायरस का सकारात्मक प्रभाव पर निबंध

Introduction :

कोरोना वायरस दुनिया भर में महामारी बन चुका है और सभी देश इसका सामना कर रहे हैं। जिसके कारण सभी देशो के लोग अपने घरो के अंदर रहने को मजबूर है। कोरोना वायरस के कारण देश में व्यावसायिक गतिविधियां भी प्रभावित हुईं। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कोरोनोवायरस ने दुनिया भर में बहुत सारे लोगों का जीवन ले चूका है। कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए, विभिन्न देशों की सरकारें इसके प्रसार को नियंत्रित करने के लिए कई कदम उठा रही हैं।

जहां तक हमारे पर्यावरण का सवाल है, इसपर कई सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल रहे है। अब धुएँ का उत्सर्जन कम हो गया है जिसके परिणामस्वरूप आसमान स्वच्छ हो गया है। यही नहीं, सड़को पर वाहनों का उपयोग भी कम हुआ है, जिसके कारण  CO2 गैसों का उत्सर्जन भी काम हुआ है। और अन्य गैसे, जैसे नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन भी पर्यावरण में सीमित हो पाया है।

यह इंगित करता है कि हवा अधिक शुद्ध हो गई है और हम शुद्ध हवा में सांस ले सकते हैं। कोरोनावायरस से निपटने के लिए, कंपनियों ने श्रमिकों को घर से काम करने के लिए कहा है। इससे सड़क पर वाहन कम हो गए हैं। इसके अलावा, प्लास्टिक की खपत भी कम हो गई है क्योंकि अब लोग डिस्पोजेबल ग्लास का प्रयोग चाय या कॉफी के लिए नहीं कर रहे है।

पर्यावरण को फायदा –

  • भारत में कई राज्यों से उन नदियों के अचानक साफ हो जाने की ख़बरें आ रही हैं जिनके प्रदूषण को दूर करने के असफल प्रयास दशकों से चल रहे हैं. दिल्ली की जीवनदायिनी यमुना नदी के बारे में भी ऐसी ही ख़बरें आ रही हैं. पिछले दिनों सोशल मीडिया पर कई तस्वीरें आईं जिन्हें डालने वालों ने दावा किया कि दिल्ली में जिस यमुना का पानी काला और झाग भरा हुआ करता था, उसी यमुना में आज कल साफ पानी बह रहा है. 
  • झील नगरी नैनीताल समेत भीमताल, नौकुचियाताल, सातताल सभी में झीलों का पानी न केवल पारदर्शी और निर्मल दिखाई दे रहा है, बल्कि इन झीलों की खूबसूरती भी बढ़ गई है. पिछले कई साल से झील के जलस्तर में जो गिरावट दिखती थी, वह भी इस बार नहीं दिख रही. पर्यावरणीय तौर पर इस कारण हवा भी इतनी शुद्ध है कि शहरों से पहाड़ों की चोटियां साफ दिख रही हैं.
  • उत्तराखंड स्पेस एप्लिकेशन सेंटर के निदेशक के अनुसार हिमालय की धवल चोटियां साफ दिखने लगी हैं. लॉकडाउन के कारण वायुमंडल में बड़े पैमाने पर बदलाव देखने को मिला है. इससे पहले कभी उत्तर भारत के ऊपरी क्षेत्र में वायु प्रदूषण का इतना कम स्तर देखने को नहीं मिला.
  • लॉकडाउन के बाद 27 मार्च से कुछ इलाकों में रूक-रूक के बारिश हो रही है. इससे हवा में मौजूद एयरोसॉल नीचे आ गए. यह लिक्विड और सॉलिड से बने ऐसे सूक्ष्म कण हैं, जिनके कारण फेफड़ों और हार्ट को नुकसान होता है. एयरोसॉल की वजह से ही विजिबिलिटी घटती है.
  • जिन शहरों की एयर क्वालिटी इंडेक्स यानी AQI ख़तरे के निशान से ऊपर होते थे. वहां आसमान गहरा नीला दिखने लगा है. न तो सड़कों पर वाहन चल रहे हैं और न ही आसमां में हवाई जहाज. बिजली उत्पादन और औद्योगिक इकाइयों जैसे अन्य क्षेत्रों में भी बड़ी गिरावट आई है.
  • इससे वातावरण में डस्ट पार्टिकल न के बराबर हैं और कार्बन मोनोऑक्साइड का उत्सर्जन भी सामान्य से बहुत अधिक नीचे आ गया है. इस तरह की हवा मनुष्यों के लिए बेहद लाभदायक है. अगर देखा जाये तो झारखंड के भी शहरों में इस लॉकडाउन का प्रभाव दिखा रहा है.
  • झारखण्ड की राजधानी रांची के कुछ जगहों में मोर देखे जाने की भी सूचना है. रूक रूक के बारिश भी हो रही है. लोग एयर कंडीशनर और कूलर का भी इस्तेमाल नहीं के बराबर कर रहे हैं जो की इस गर्मी के मौसम में एक आश्चर्य घटना है. ध्वनि प्रदूषण भी अभूतपूर्व ढंग से कम हो गया है. तापमान ज्य़ादा होने पे भी उतनी गर्मी नहीं लग रही है जितनी पिछले साल थी.
  • बता दें कि कई महीनों से झारखंड में वाहन प्रदूषण के खिलाफ़ जांच अभियान चलाया जा रहा था. जगह-जगह दोपहिये एवं चार पहिये वाहन, मिनी बस और टेंपो समेत विभिन्न कॉमर्शियल वाहनों के प्रदूषण स्तर को चेक किया जा रहा था और निर्धारित मात्रा से अधिक प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कार्रवाई की जा रही थी.
  • इसके बाद भी न तो वाहनों द्वारा छोड़े जा रहे प्रदूषणकारी गैसों की मात्रा कम हो रही थी और न ही वायु प्रदूषण में कमी आ रही थी. लेकिन, कोरोना के भय से सड़क पर चलने वाले वाहनों की संख्य़ा में आयी भारी गिरावट आने के कारण पिछले दो महीनों से से इसमें काफी सुधार दिखता है.
  • वाहनों की आवाजाही न होने से सड़कों से अब धूल के गुबार नहीं उठ रहे हैं. झारखंड का एयर क्वालिटी इंडेक्स वायु प्रदूषण के कम हो जाने से 50-40 के बीच आ गया है जो पिछले साल 150 से 250 तक रहता था.
  • ये हवा मनुष्य के स्वस्थ लिए फायदेमंद है. वायु और धूल प्रदूषण के काफी कम हो जाने से आसमन में रात को सारे तारे दिखा रहे हैं जो पहले नहीं दीखते थे. 
  • ध्वनि प्रदूषण तो इतना कम है की आपकी आवाज दूर तक सुनाई दे रही है. चिड़ियों का चहचहाना सुबह से ही शुरू हो जा रहा है.कुछ लोगों ने तो यहाँ तक कहा की रात दो बजे भी चिड़ियों की आवाज़ सुनाई दे रही है ख़ासकर कोयल और बुलबुल की. कुछ ऐसी भी चिड़ियाँ नज़र आ रही हैं जो पहले कम दिखती थीं. 

Conclusion : 

इस प्रतिस्पर्धात्मक युग में, जहाँ हम सभी व्यस्त जीवन जी रहे है, हमें हमारी गतिविधियों के कारण पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में भी सोचना चाहिए  हालाँकि, अब लॉकडाउन के कारण हम घर पर रहने को मजबूर हैं, हमारे पास अपनी गतिविधियों के बारे में सोचने और सुधार करने के लिए पर्याप्त समय मिल चूका है। इस तथ्य से कोई इनकार नहीं कर सकता कि कोरोनोवायरस का मानव जाति पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा है। हालांकि, इसने पर्यावरण पर निश्चित रूप से  सकारात्मक प्रभाव डाले है।

read more
Essays

Essay on India & The Largest Vaccination Drive

Essay on India & The Largest Vaccination Drive

Introduction :

“ You can’t change the beginning but you can start where you are and change the ending.” This statement shows the optimistic approach to deal with a problem. It focuses on finding a solution to a problem instead of pointing fingers on others. Indian Government has done the same by starting the world’s largest vaccination program on 16th January 2021. The Covid-19 pandemic has infected millions of people all over the world. In addition to that, lots of people have lost their lives too. Vaccines are available at present and have the ability to save people’s lives.

  • According to a report, the only way to get rid of this deadly pandemic is the vaccination.
  • That’s why each and every person of the world needs to be vaccinated so that we can eradicate this virus from earth. For this, the government has started the vaccination program in India in phases.
  • The first phase started from 16th January 2021 in which the front line workers and health professionals were vaccinated. In the second phase senior citizens and the people of 45 to 60 years of age get the vaccine.
  • And finally, in the third phase the people above 18 years of age got vaccinated. Recently our Prime Minister Narendra Modi has announced the vaccine for the age group of 15 to 18 years from 3rd January 2022 and booster dose for front line workers from 10th January.
  • As per the recent data, more than 90% people have got their 1st dose and more than 60% people have taken their 2nd dose as well. It is apparent how India has been continued to become a world leader in vaccination drive. 

Conclusion :

But there are some challenges too like poor internet connectivity create panic in issuing certificate and Cowin-App which is being used for registration sometimes does not work properly. Big leaders and influential people should come forward to aware people about the importance of vaccination. There should be a collaboration of Central and State governments with local communities and health care workers in order to defeat this virus as it is rightly said “every journey begins with a single step”

Essay on Covid 19 vaccine in english

Introduction :

The Government of India has approved the Covid-19 vaccines developed by Astra-Zeneca and Bharat Biotech named Covishield and Covaxin respectively. Seeing this our PM Modi has launched the COVID-19 vaccination drive on 16th January, 2021 which can save millions of lives every year. This is the world’s largest vaccination program covering the entire country. During the launch of this drive a total of 3006 sites in all States and UTs have been virtually connected.

  • Although India don’t need to vaccinate its entire population, it just have to vaccinate at least 30 to 40% of the people.
  • It is estimated that a minimum of 1 billion doses of Covid-19 vaccines will be required for full immunization.
  • The vaccine has introduced in phrased manner. In first phrase, the vaccine is provided to healthcare workers like doctors, nurses and other medical staff both in government and private sectors.
  • Because they treat and are in close contact with those who are infected with Covid-19. Then it will be provided to police, armed forces, municipal workers and other departmental staffs.
  • In third phase, people above 50 years of age and those patient who have diabetes, hypertension and organ transplant will get the vaccine. After that, the vaccine will be given to healthy adults, teenagers and children.

Conclusion :

The central government is incurring the cost for vaccinating the core healthcare and frontier workers. For further vaccination process, the government has also developed an application named CoWIN, which will help provide real time information of vaccine stocks, storage and individualized tracking of beneficiaries for COVID-19 vaccine. The Vaccination for Covid-19 is voluntary in India. It is a safe and effective way of protecting people against this disease. Vaccines reduce risks of getting diseases by working with our body’s immune system.

 

Watch Video

COVID- 19 : Changing Social Norms in India :

Introduction :

The world is facing the biggest crisis in the form of coronavirus pandemic. Almost every country has been affected by the COVID-19. Over 115 million people had been affected by COVID-19 and about 2.54 million people had died worldwide.  And indirectly billions of people have been suffering from the impact of this pandemic. As vaccines are being available now but still, the emphasis is on taking extensive precautions such as regularly washing of hands, social distancing and wearing of masks.

  • India has successfully controlled the transmission of COVID-19 by its well coordinated efforts.
  • India’s progress in pharmaceuticals and mass public awareness with the help of digital systems indeed helped in controlling the spread of this disease.
  • There are still many ways by which the COVID-19 can affect our economy, of which the disruption of supply chains is the major challenge.
  • Job loss is on the rise along with the slowdown in manufacturing and services activities in India.  
  • Millions of agricultural workers, regularly facing high levels of uncertainty, poverty, malnutrition and poor health, and suffer from a lack of safety and labour protection.
  • With low and irregular incomes and lack of social support, many of them are forced to continue working, often in unsafe conditions.
  • Further, when experiencing income losses, they may resort to negative coping strategies, such as distress sale of assets, taking loans or child labour. The lockdown has also impacted migrant workers in many ways.
  • Several of whom lost their jobs due to shutting of industries and were outside their native places wanting to get back.
  • Since then, the government has announced relief measures for them, and made arrangements like running special trains and buses to help them to return to their native places.
  • At the same time, many countries undertake new reforms to strengthen the digital economy and e-commerce not only to manage the Covid-19 pandemic but also to facilitate trade & commence.

Conclusion :

COVID-19 crisis also opens the doors of opportunities in India as we witness better healthcare both in management and facilities. New social norms have been introduced like social distancing, wearing masks, maintaining hygiene for protecting us against the Covid-19. People who are ill with Covid-19 need doses of new vaccine, which save their lives and speed up recovery. Healthcare professional should be appreciated as instead of a lot of difficulties they do their best to maintain the quality of healthcare services.

 

(more…)

read more
Essays

Essay/Nibandh topics in hindi for UPPSC Gic Lecturer

Essay/Nibandh topics in hindi for UPPSC Gic Lecturer

Format of the Essay :

  • Introduction / परिचय
  • Body / बॉडी
  • Conclusion / निष्कर्ष

Elements Of An Introduction :

  • Attention grabber, may begin with a quote / Quote के साथ शुरू करें
  • Provide Background Info / पृष्ठभूमि प्रदान करें
  • Outline the Structure /संरचना को रेखांकित करें
  • Limit the Scope / दायरा सीमित करें

Elements Of Body :

  • Evidence and support of the Topic /विषय का समर्थन
  • Least important to most important / कम महत्वपूर्ण से सबसे महत्वपूर्ण
  • Chronological order / कालानुक्रमिक
  • evidence to support your argument / तर्क का समर्थन
  • Example- relevant to your particular topic /उदाहरण- आपके विशेष विषय के प्रासंगिक

Elements Of Conclusion :

  • Wrap all of your arguments and points / सभी तर्कों को पूरा करें
  • Restate the main arguments in A simplified manner/सरलीकृत तरीके से Rewrite करें

Top 15 Most Imp Essay topics :

  1. भारत एवं सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान
  2. राष्ट्र के विकास में युवाओं की भूमिका
  3. नई शिक्षा नीति – संभावनाएँ और चुनौतियाँ
  4. भारत में प्राकृतिक आपदाओं से कैसे निपटें?
  5. भारत में ओमाइक्रोन कोविड -19 संस्करण
  6. मानव तस्करी: नैतिकता और मूल्यों की समस्या
  7. भारत में पश्चिमी संस्कृति का क्रेज
  8. ई-परिवहन – संभावनाएँ और चुनौतियाँ
  9. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और इंटरनेट
  10. भारत 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था संभावनाएं एवं चुनौतियां
  11. आज के समाज में सतत विकास और पर्यावरण संरक्षण
  12. भारत में आरक्षण प्रणाली की संभावनाएं एवं समस्याएं
  13. यूनिवर्सल बेसिक इनकम बनाम सब्सिडी
  14. बढ़ते तनाव के मुद्दे और मानसिक स्वास्थ्य
  15. भारत में स्वास्थ्य सेवा – मुद्दे और चुनौतियाँ

Other Important Topics

  • प्रौढ़ शिक्षा और सामाजिक परिवर्तन
  • विज्ञान बनाम धर्म का महत्व
  • कार्यस्थल पर लैंगिक भेदभाव
  • आज के जीवन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग
  • नशीली दवाओं के उन्मूलन में छात्रों की भूमिका
  • महिला सशक्तिकरण- भारत को सशक्त बनाना
  • वरिष्ठ नागरिकों के प्रति हमारा कर्तव्य
  • मानव बनाम जलवायु परिवर्तन
  • आतंकवाद और उसके खतरे
  • भारत में अपराध दर में वृद्धि
  • बेरोजगारी बनाम अल्परोजगार
  • भारत में जल संकट
  • शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है जिसका उपयोग आप दुनिया को बदलने के लिए कर सकते हैं

Other Important Topics

  • भारतीय शहरों का वायु प्रदूषण बनाम शहरीकरण
  • गोपनीयता का अधिकार और तकनीकी विकास
  • अनुच्छेद 370 और 35A को निरस्त करना
  • समाज पर काले धन का प्रभाव
  • भारत में तकनीकी प्रगति
  • एक देश एक चुनाव
  • भारत में भ्रष्टाचार
  • युवाओं पर मोबाइल की लत का प्रभाव
  • घर से काम – लाभ एवं हानि
  • सोशल मीडिया गुड एंड डार्क साइड
  • स्वस्थ जीवन शैली का महत्व
  • भारत में लड़कियां कितनी सुरक्षित हैं?
  • भारत में लैंगिक समानता
  • भारत में ई-शिक्षा का महत्व
  • मौन क्रोध का सर्वोत्तम उत्तर है
  • भारत में घरेलू पर्यटन के अवसर

Prepare your UPPSC GIC Lecturer exam from the best book – Hindi Nibandh :

Buy Now

Essay On : भारत 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था: संभावनाएं एवं चुनौतियां

Introduction :

भारत ने 1991 में अर्थव्यवस्था को गति देने के लिये उदारीकरण की नीति को अपनाया, इसके अंतर्गत विभिन्न क्षेत्रों को निजी क्षेत्र के लिये खोल दिया गया और धीरे-धीरे भारत की अर्थव्यवस्था की गति तीव्र होती गई। भारत कुछ समय पूर्व ही विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। किंतु भारत के आकार और क्षमता के अनुपात को देखते हुए अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति की सराहना नहीं की जा सकती है। इस तथ्य को ध्यान में रखकर भारत के नीति निर्माताओं ने वर्ष 2024 तक भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी अपने बजट भाषण के दौरान देश को साल 2024 तक ‘फाइव ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी’ की अर्थव्यवस्था बनाने की बात कही।

हालांकि बजट के पहले भी हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने कई कार्यक्रमों के दौरान इस लक्ष्य को हासिल करने की बात कही है। बजट भाषण के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारत ने आज़ादी के बाद आर्थिक क्षेत्र में तीव्र वृद्धि नहीं की। इसका नतीजा यह रहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डॉलर तक पहुँचने में 55 सालों का समय लग गया, जबकि इसी दौरान चीन की अर्थव्यवस्था बड़ी तेज़ी से आगे बढ़ी। ऐसे में, आर्थिक क्षमता सीमित होने के चलते अक्सर देश के तमाम क्षेत्रों जैसे रेलवे, सामाजिक क्षेत्र, रक्षा और इंफ्रास्ट्रक्चर में ज़रूरी संसाधन उपलब्ध नहीं हो पाए।

सरकार द्वारा उठाये गए मुख्य कदम

  • सरकार ने इंफ्रास्ट्रक्चर पर विशेष ध्यान देते हुए अकेले प्रधानमंत्री आवास योजना में ही 1.95 करोड़ आवासों के निर्माण का लक्ष्य तय किया। साथ ही,होम लोन के ब्याज भुगतान पर 1.5 लाख रुपए की अतिरिक्त कटौती को भी मंज़ूरी दी गई है। ‘स्टडी इन इंडिया’ पहल के तहत निजी उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये कई एलान किए गए। इसके अलावा, विश्वस्तरीय संस्थानों के निर्माण और ‘खेलो भारत’ योजना के तहत खेल विश्वविद्यालयों की भीस्थापना की जा रही है। सरकार ने एक संप्रभु ऋण बाज़ार की स्थापना का भी ऐलान किया। इसके तहत सरकार अंतरराष्ट्रीय बाजार से कर्ज लेकर देश में निजी निवेश के लिए धन मुहैया करवाएगी। इस प्रकार ब्याज दर में कमी लाने में मदद मिलेगी।
  • इसके अलावा निजी पूंजी निर्माण में मदद करने के लिहाज से सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 70,000 करोड़ रुपए के नए पूंजी निवेश की योजना बनाई है। मौजूदा वक्त में निजी क्षेत्र कर्ज़ के दबाव और पूंजी की कमी की समस्या से जूझ रहा है। ऐसे में, पूंजी निर्माण के लिये सरकार को विदेशी पूंजी को बेहतर तरीके से इस्तेमाल करना होगा।
  • इसलिये सरकार कई क्षेत्रों खासकर बीमा, विमानन और एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रही है। एमएसएमई पर विशेष ध्यान देने के साथ-साथ सरकार ने श्रम सुधार की दिशा में भी कई कदम उठाए हैं। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को बल देने के लिहाज से 44 श्रम कानूनों को मिलाकर चार संहिताओं के रूप में बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है।
  • 400 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले छोटे उद्यमों के लिये कॉर्पोरेट कर को घटाकर 25 प्रतिशत कर दिया गया है। सरकार ने रेलवे के आधुनिकीकरण के लिये करीब 50 लाख करोड़ रुपए के निवेश की ज़रूरत बताई है। इस तरह,रेलवे के संसाधनों में बढ़ोत्तरी के लिये सार्वजनिक निजी भागीदारी (PPP) का प्रस्ताव किया गया है।

इस सम्बन्ध में मुख्य चुनौतियाँ

  • जलवायु परिवर्तन ने मॉनसून की रफ्तार को बिगाड़ रखा है जिसका असर भारतीय कृषि को भुगतान पड़ रहा है। साथ ही, भारतीय अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा हिस्सा रखने वाले सेवा क्षेत्र में हालात बहुत अच्छे नहीं हैं। भारत का ऊर्जा क्षेत्र मुश्किलों के दौर से गुज़र रहा है तथा इस क्षेत्र को संरचनात्मक स्तर पर सुधार की आवश्यकता है।
  • केंद्र को राज्य सरकारों के साथ मिलकर टैरिफ नीति में सुधार करने की ज़रूरत है ताकि उद्योगों एवं बड़े उपभोक्ताओं को इसका लाभ प्राप्त हो सके, साथ ही कृषि क्षेत्र एवं घरेलू उपभोक्ताओं के लिये टैरिफ की दरों में वृद्धि भी की जानी ज़रूरी है। कृषि क्षेत्र पहले से ही अधिक बिजली उपयोग के कारण सिंचाई संकट से जूझ रहा है। परिवहन के क्षेत्र में भारत में वैश्विक स्तर के इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी है, साथ ही अभी भी ग्रामीण एवं दूरदराज़ के क्षेत्र कनेक्टिविटी से दूर हैं।
  • भारत का रेलवे विश्व के कुछ सबसे बड़े रेलवे मार्गों में शामिल है फिर भी इसमें सुधार की आवश्यकता है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि रेलवे के आधुनिकीकरण के लिये लगभग 50 लाख करोड़ रूपए के निवेश की आवश्यकता है। इसी प्रकार उच्च गुणवत्ता के सड़क मार्ग, बंदरगाहों की क्षमता में वृद्धि तथा इनको रेल एवं सड़क के ज़रिये देश के विभिन्न आर्थिक प्रतिष्ठानों से जोड़ना भी ज़रूरी है। इस प्रकार से भारत की परिवहन क्षमता में वृद्धि हो सकेगी जिससे अर्थव्यवस्था तीव्र गति से वृद्धि कर सकेगी।
  • भारत में टेलिकॉम सेक्टर भी कई समस्याओं से जूझ रह है। अन्य देश जहाँ 5G का उपयोग आरंभ कर चुके है भारत में अभी इसके लिये ज़रुरी प्रयास भी नहीं किये जा सके हैं। पहले ही TRAI एवं सरकार की स्पेक्ट्रम और इसकी बेस कीमतों की नीति के कारण टेलिकॉम सेक्टर संघर्ष कर रहा है। भारत नेट परियोजना जो भारत में स्थानीय स्तर तक इंटरनेट सेवा पहुँचाने के लिये आरंभ की गई थी, अभी भी पूर्ण नहीं हो सकी है।

Conclusion :

यह माना जा रहा है कि 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये भारत को GDP के लगभग 8 प्रतिशत की वृद्धि दर की आवश्यकता होगी। वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था की गति धीमी हैं, साथ ही इस स्थिति में उच्च आर्थिक वृद्धि दर को प्राप्त करना एक कठिन लक्ष्य साबित हो सकता हैं। लेकिन मौजूदा हालातों को देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि अर्थव्यवस्था के लिए चुनौतियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। लेकिन फिर भी 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सपना कोई असंभव बात नहीं है। शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार, बेरोज़गारी, आर्थिक असमानता, महिलाओं की स्थिति, कुपोषण, जातिगत भेदभाव, गरीबी जैसे भी कई ज़रूरी मुद्दे हैं जिनको हल करना आवश्यक है। इन समस्याओं को दूर करके ही भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल हो सकेगा।

Essay On : भारत में धार्मिक सदभाव का महत्व

Introduction :

भारत एक बहु-धार्मिक, बहुभाषी और बहु-नस्लीय देश है और विविधताओं के बीच हमेशा संस्कृति की एकता से घिरा रहा है। यहां विभिन्न धर्मों और समुदायों के लोग साथ-साथ रहते हैं। भारत हमेशा से ही एकता का प्रतिक माना जाता रहा है एवं एकता ही मानव कल्याण का आधारभूत तत्व है, इसके बिना विश्व शांति का सपना साकार नहीं हो सकता।  भारत किसी धर्म की शिफारिश नहीं करता और न ही यहाँ का कोई राष्ट्रीय धर्म है। भारत उन नागरिकों का घर है जिनकी विभिन् धार्मिक मान्यताय हैं। धर्मनिरपेक्षता का सिद्धांत उन्हें बिना किसी प्रतिबंध के अपने धर्म का प्रचार और प्रसार करने की अनुमति देता है।

यहां धार्मिक विविधता एवं धार्मिक स्वतंत्रता को क़ानून तथा समाज दोनों द्वारा मान्यता प्रदान की गयी है। भारतीय सविधान के अनुच्छेद 25 से 28 में धार्मिक स्वतंत्रता को मौलिक अधिकार के रूप में उल्लेखित किया गया है। भारत में प्रत्येक नागरिक को किसी भी धर्म को चुनने एवं उनका पालन करने की स्वतंत्रता है। भारत में विभिन्न धार्मिक संप्रदाय के लोग परस्पर मिलजुल कर रहते है जो हमारी सदभावना को दर्शाता है। भारत 1.3 अरब से अधिक लोगों का देश है, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं।  लेकिन हमारे देश में अल्पसंख्यकों की बड़ी आबादी भी है, जिसमें लगभग 21 करोड़ मुसलमान हैं, जो इसे इंडोनेशिया के बाद दुनिया की दूसरी सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी बनाते वाला देश हैं।

  • यहां लाखों ईसाई, सिख, जैन और बौद्ध धर्म के लोग भी हैं। हाल ही में, धार्मिक समुदायों के बीच संघर्ष काफी बढ़ गया है और इन धार्मिक संघर्षों में हजारों लोग मारे गए हैं। ऐसे में अगर आर्थिक स्थिति बिगड़ती है तो सांप्रदायिक मुद्दों का इस्तेमाल देश को बांटने के लिए किया जा सकता है।
  • कट्टरवाद से लड़ने में मीडिया ने सकारात्मक भूमिका निभाई है। लेकिन इस मुद्दे को शांत करने की प्रवृत्ति देखी जाती है। आजकल अखबारों पर ज्यादातर फोकस मनोरंजन, फैशन, व्यावसाय, फिल्मों, उपभोक्ता संस्कृति और खेल पर है।
  • राष्ट्रीय और स्थानीय समाचार पत्रों और टेलीविजन चैनलों के प्रकाशकों और संपादकों के बीच एक रचनात्मक अभियान उन कहानियों को प्रकाशित करके उत्साह को बनाए रख सकता है जहां धार्मिक सदभाव और भाईचारे को दिखया गया हो। अंतर-धार्मिक आयोजनों की अधिक कवरेज कर के आपसी सहयोग की भावना का विकाश किया जा सकता है।
  • वर्तमान में प्रस्तावित कट्टरवाद विरोधी कानून को लागू करने की समस्याओं या स्कूलों और कॉलेजों के लिए एक अंतर-धार्मिक पाठ्यक्रम के निर्माण से संबंधित मुद्दों पर स्टोरी बनाई जा सकती हैं।
  • विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच प्रभावी संचार चैनलों के माध्यम से संघर्ष समाधान के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है ताकि अफवाहों को ख़त्म किया जा सके और समस्याओं को बड़ा होने से पहले हल किया जा सके। पुलिस, मीडिया, धार्मिक और सामुदायिक नेताओं के साथ संचार भी महत्वपूर्ण है।
  • स्कूलों और कॉलेजों में सक्रिय भूमिका निभाने और अंतर-धार्मिक शिक्षा शुरू करने का समय आ गया है जो पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देगा ।

Conclusion :

हम वैकल्पिक पाठ्यचर्या सामग्री बनाने की दिशा में काम करना चाहिए, जो धार्मिक इतिहास के बारे में अधिक संतुलित दृष्टिकोण प्रस्तुत कर सके, साथ ही सभी धार्मिक परंपराओं के सम्मान को बढ़ावा दे। प्रत्येक नागरिक को अपनी पसंद के धर्म का पालन करने का अधिकार है और असहिष्णुता इस अधिकार के लिए खतरा है। समानता, स्वीकृति के साथ, सांप्रदायिक सद्भाव को शामिल करती है। हमें साम्प्रदायिक सद्भाव के महत्व को फैलाना चाहिए और सभी को जागरूक करना चाहिए। धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार हमारी रक्षा करता है, लेकिन साथ ही हमें विभिन्न धर्मों के प्रति सहिष्णुता और सम्मान का निर्माण करना चाहिए। हमारे देश के लिए सांप्रदायिक सद्भाव जरूरी है।

read more
Essays

Essay on importance of religious harmony

Essay on importance of religious harmony in Hindi

Introduction :

भारत एक बहु-धार्मिक, बहुभाषी और बहु-नस्लीय देश है और विविधताओं के बीच हमेशा संस्कृति की एकता से घिरा रहा है। यहां विभिन्न धर्मों और समुदायों के लोग साथ-साथ रहते हैं। भारत हमेशा से ही एकता का प्रतिक माना जाता रहा है एवं एकता ही मानव कल्याण का आधारभूत तत्व है, इसके बिना विश्व शांति का सपना साकार नहीं हो सकता। भारत किसी धर्म की शिफारिश नहीं करता और न ही यहाँ का कोई राष्ट्रीय धर्म है। भारत उन नागरिकों का घर है जिनकी विभिन् धार्मिक मान्यताय हैं। धर्मनिरपेक्षता का सिद्धांत उन्हें बिना किसी प्रतिबंध के अपने धर्म का प्रचार और प्रसार करने की अनुमति देता है। यहां धार्मिक विविधता एवं धार्मिक स्वतंत्रता को क़ानून तथा समाज दोनों द्वारा मान्यता प्रदान की गयी है।

  • भारतीय सविधान के अनुच्छेद 25 से 28 में धार्मिक स्वतंत्रता को मौलिक अधिकार के रूप में उल्लेखित किया गया है। भारत में प्रत्येक नागरिक को किसी भी धर्म को चुनने एवं उनका पालन करने की स्वतंत्रता है।
  • भारत में विभिन्न धार्मिक संप्रदाय के लोग परस्पर मिलजुल कर रहते है जो हमारी सदभावना को दर्शाता है। भारत 1.3 अरब से अधिक लोगों का देश है, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं।
  • लेकिन हमारे देश में अल्पसंख्यकों की बड़ी आबादी भी है, जिसमें लगभग 21 करोड़ मुसलमान हैं, जो इसे इंडोनेशिया के बाद दुनिया की दूसरी सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी बनाते वाला देश हैं।
  • यहां लाखों ईसाई, सिख, जैन और बौद्ध धर्म के लोग भी हैं। हाल ही में, धार्मिक समुदायों के बीच संघर्ष काफी बढ़ गया है और इन धार्मिक संघर्षों में हजारों लोग मारे गए हैं। ऐसे में अगर आर्थिक स्थिति बिगड़ती है तो सांप्रदायिक मुद्दों का इस्तेमाल देश को बांटने के लिए किया जा सकता है।
  • कट्टरवाद से लड़ने में मीडिया ने सकारात्मक भूमिका निभाई है। लेकिन इस मुद्दे को शांत करने की प्रवृत्ति देखी जाती है। आजकल अखबारों पर ज्यादातर फोकस मनोरंजन, फैशन, व्यावसाय, फिल्मों, उपभोक्ता संस्कृति और खेल पर है।
  • राष्ट्रीय और स्थानीय समाचार पत्रों और टेलीविजन चैनलों के प्रकाशकों और संपादकों के बीच एक रचनात्मक अभियान उन कहानियों को प्रकाशित करके उत्साह को बनाए रख सकता है जहां धार्मिक सदभाव और भाईचारे को दिखया गया हो। अंतर-धार्मिक आयोजनों की अधिक कवरेज कर के आपसी सहयोग की भावना का विकाश किया जा सकता है।
  • वर्तमान में प्रस्तावित कट्टरवाद विरोधी कानून को लागू करने की समस्याओं या स्कूलों और कॉलेजों के लिए एक अंतर-धार्मिक पाठ्यक्रम के निर्माण से संबंधित मुद्दों पर स्टोरी बनाई जा सकती हैं।
  • विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच प्रभावी संचार चैनलों के माध्यम से संघर्ष समाधान के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है ताकि अफवाहों को ख़त्म किया जा सके और समस्याओं को बड़ा होने से पहले हल किया जा सके। पुलिस, मीडिया, धार्मिक और सामुदायिक नेताओं के साथ संचार भी महत्वपूर्ण है।

Conclusion :

स्कूलों और कॉलेजों में सक्रिय भूमिका निभाने और अंतर-धार्मिक शिक्षा शुरू करने का समय आ गया है जो पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देगा । हम वैकल्पिक पाठ्यचर्या सामग्री बनाने की दिशा में काम करना चाहिए, जो धार्मिक इतिहास के बारे में अधिक संतुलित दृष्टिकोण प्रस्तुत कर सके, साथ ही सभी धार्मिक परंपराओं के सम्मान को बढ़ावा दे। प्रत्येक नागरिक को अपनी पसंद के धर्म का पालन करने का अधिकार है और असहिष्णुता इस अधिकार के लिए खतरा है। समानता, स्वीकृति के साथ, सांप्रदायिक सद्भाव को शामिल करती है। हमें साम्प्रदायिक सद्भाव के महत्व को फैलाना चाहिए और सभी को जागरूक करना चाहिए। धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार हमारी रक्षा करता है, लेकिन साथ ही हमें विभिन्न धर्मों के प्रति सहिष्णुता और सम्मान का निर्माण करना चाहिए। हमारे देश के लिए सांप्रदायिक सद्भाव जरूरी है।

Essay on importance of religious harmony in Hindi

Introduction :

India is a multi-religious, multilingual and multi-racial country and always enjoyed the unity of culture among diversities. Here people of different religions and communities live side by side. भारत एक बहु-धार्मिक, बहुभाषी और बहु-नस्लीय देश है और विविधताओं के बीच हमेशा संस्कृति की एकता से घिरा रहा है। यहां विभिन्न धर्मों और समुदायों के लोग साथ-साथ रहते हैं।

India does not advocate any religion, nor does it have any national religion. India is home to citizens who have different religious affiliations. The principle of secularism allows them to practice and preach their religion without any restriction. भारत किसी धर्म की शिफारिश नहीं करता और न ही यहाँ का कोई राष्ट्रीय धर्म है। भारत उन नागरिकों का घर है जिनकी विभिन्न धार्मिक संबद्धताएँ हैं। धर्मनिरपेक्षता का सिद्धांत उन्हें बिना किसी प्रतिबंध के अपने धर्म का अभ्यास और प्रचार करने की अनुमति देता है।

  • India is a country of more than 1.3 billion people, the majority of whom are Hindus. But we also have large populations of minorities, with about 150 million Muslims, making this the second largest Muslim population in the world, after Indonesia. There are also many millions of Christians, Sikhs, Jains and Buddhists. भारत 1.3 अरब से अधिक लोगों का देश है, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं। लेकिन हमारे देश में अल्पसंख्यकों की बड़ी आबादी भी है, जिसमें लगभग 21 करोड़ मुसलमान हैं, जो इसे इंडोनेशिया के बाद दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी बनाते हैं। यहां लाखों ईसाई, सिख, जैन और बौद्ध भी हैं।
  • In recent decades, the conflict between religious communities have grown substantially and thousands of people have been killed in these religious conflicts. If the economic situation deteriorates, then communal issues can be used to divide the nation and divide the poor. हाल के दशकों में, धार्मिक समुदायों के बीच संघर्ष काफी बढ़ गया है और इन धार्मिक संघर्षों में हजारों लोग मारे गए हैं। अगर आर्थिक स्थिति बिगड़ती है तो ऐसे में सांप्रदायिक मुद्दों का इस्तेमाल देश को बांटने और गरीबों को बांटने के लिए किया जा सकता है।
  • The media has by and large played a positive role in fighting fundamentalism. But there is a tendency to put the issue on the backburner. Much of the focus on newspapers these days is on entertainment, fashion, commercial films, consumer culture, and sports. Even politics gets less coverage than any of these other issues. कट्टरवाद से लड़ने में मीडिया ने सकारात्मक भूमिका निभाई है। लेकिन इस मुद्दे को शांत करने की प्रवृत्ति देखी जाती है। आजकल अखबारों पर ज्यादातर फोकस मनोरंजन, फैशन, व्यावसायिक फिल्मों, उपभोक्ता संस्कृति और खेल पर है। इनमें से किसी भी अन्य मुद्दे की तुलना में राजनीति को भी कम कवरेज मिलता है।
  • A creative campaign among publishers and editors of national and local newspapers and television channels can keep the enthusiasm upbeat by publishing stories where Hindus have helped Muslims in times of dire need or vice-versa, or cases where Christians have helped Muslims and Hindus. There can be more coverage of inter-religious events. राष्ट्रीय और स्थानीय समाचार पत्रों और टेलीविजन चैनलों के प्रकाशकों और संपादकों के बीच एक रचनात्मक अभियान उन कहानियों को प्रकाशित करके उत्साह को बनाए रख सकता है जहां हिंदुओं ने जरूरत के समय या इसके विपरीत, या ऐसे मामलों में जहां ईसाइयों ने मुसलमानों और हिंदुओं की मदद की है। अंतर-धार्मिक आयोजनों की अधिक कवरेज कर के आपसी सहयोग की भावना का विकाश किया जा सकता है।
  • Stories can be done on the problems of implementing anti-fundamentalist legislation that is now being proposed, or issues concerning the formulation of a inter-religious syllabus for schools and colleges. वर्तमान में प्रस्तावित कट्टरवाद विरोधी कानून को लागू करने की समस्याओं या स्कूलों और कॉलेजों के लिए एक अंतर-धार्मिक पाठ्यक्रम के निर्माण से संबंधित मुद्दों पर स्टोरी बनाई जा सकती हैं।
  • One of the most important methods of conflict resolution is through effective communication channels between different religious communities so that rumours can be squashed and problems solved before they become too big. Communication with police, the media, religious and community leaders is also vital. विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच प्रभावी संचार चैनलों के माध्यम से संघर्ष समाधान के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक है ताकि अफवाहों को ख़त्म किया जा सके और समस्याओं को बड़ा होने से पहले हल किया जा सके। पुलिस, मीडिया, धार्मिक और सामुदायिक नेताओं के साथ संचार भी महत्वपूर्ण है।

Conclusion :

The time has come to play a pro-active role in schools and colleges and introduce inter-religious education that can promote communal harmony as part of the curriculum. स्कूलों और कॉलेजों में सक्रिय भूमिका निभाने और अंतर-धार्मिक शिक्षा शुरू करने का समय आ गया है जो पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ावा देगा ।

We intend to work towards creating alternative curriculam material, which present a more balanced view of religious history, as well as promote respect for all religious traditions. हम वैकल्पिक पाठ्यचर्या सामग्री बनाने की दिशा में काम करना चाहिए, जो धार्मिक इतिहास के बारे में अधिक संतुलित दृष्टिकोण प्रस्तुत कर सके, साथ ही सभी धार्मिक परंपराओं के सम्मान को बढ़ावा दे।

read more
Essays

Essay on domestic tourism opportunities and challenges

Essay on domestic tourism opportunities and challenges

Introduction :

Tourism is one of the most important socio-economic activities and is the world’s largest and fastest growing industry. Tourism in India has immense potential of developing into a high profit making industry. India is a popular tourist destination and has been successful in attracting domestic and international tourists. पर्यटन एक महत्वपूर्ण सामाजिक-आर्थिक गतिविधि है और यह दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेजी से बढ़ता उद्योग है। भारत में पर्यटन में उच्च लाभ कमाने वाले उद्योग के रूप में विकसित होने की अपार संभावनाएं हैं। भारत एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है और घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करने में सफल रहा है।

In India, temple towns, historical monuments and sea beaches were traditionally sought out as tourist attractions. The hill stations, historical sites, architecture and monuments, beaches and places of religious interests make India a preferred destination for the tourists from all over the world. भारत में मंदिरों, ऐतिहासिक स्मारकों और समुद्री तटों को पारंपरिक रूप से पर्यटकों के आकर्षण के रूप में देखा जाता था। हिल स्टेशन, ऐतिहासिक स्थल, वास्तुकला और स्मारक, समुद्र तट और धार्मिक स्थल भारत को दुनिया भर के पर्यटकों के लिए एक पसंदीदा स्थान बनाते हैं।

  • The root of tourism in India can be traced to pilgrimage. In the early stages, pilgrimage-based tourism was only of domestic nature but during recent years, a large number of foreign tourists have also started visiting places of pilgrimage. The World Travel and Tourism Council have identified India as one of the foremost growth centres in the world in the coming decade. भारत में पर्यटन की जड़ तीर्थयात्रा में पाई जा सकती है। प्रारंभिक दौर में तीर्थ-आधारित पर्यटन केवल घरेलू प्रकृति का था लेकिन हाल के वर्षों में बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटकों ने भी तीर्थ स्थलों का दौरा करना शुरू कर दिया है। विश्व यात्रा और पर्यटन परिषद ने आने वाले दशक में भारत को दुनिया के अग्रणी विकास केंद्रों में से एक के रूप में पहचाना है।
  • Domestic tourism is estimated to be much higher than international tourism and has also been rising rapidly. Better connectivity of transport and communication, improved standard of living and value for money to the foreign tourists has led to the increase in the domestic as well as international tourists. घरेलू पर्यटन अंतरराष्ट्रीय पर्यटन की तुलना में काफी अधिक होने का अनुमान है और यह तेजी से बढ़ भी रहा है। परिवहन और संचार की बेहतर कनेक्टिविटी, बेहतर जीवन स्तर और विदेशी पर्यटकों के कारण घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों में वृद्धि हुई है।
  • The Government of India is taking keen interest in promoting different forms of tourism such as, ‘rural tourism’, ‘eco tourism’, ‘spiritual tourism’, ‘spa tourism’, and ‘adventure tourism’ etc. Medical tourism has formed an important source of revenue for the healthcare sector. भारत सरकार पर्यटन के विभिन्न रूपों जैसे ‘ग्रामीण पर्यटन’, ‘पारिस्थितिकी पर्यटन’, ‘आध्यात्मिक पर्यटन’, ‘स्पा पर्यटन’ और ‘साहसिक पर्यटन’ आदि को बढ़ावा देने में गहरी दिलचस्पी ले रही है। चिकित्सा पर्यटन ने स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण पर्यटन का गठन किया है।
  • Most of the foreigners from the Western countries such as US, UK, Canada, and neighbouring countries are turning towards India for the affordable world class health care services and treatment. पश्चिमी देशों जैसे यूएस, यूके, कनाडा और पड़ोसी देशों के अधिकांश विदेशी सस्ती विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं और उपचार के लिए भारत की ओर रुख कर रहे हैं।
  • The ‘Incredible India’ campaign by the Government of India is instrumental in promoting India as a holistic tourist destination in the domestic and international markets. There are specialised international media campaigns under’ ‘Incredible India’. Celebrities have been roped in to make ‘Incredible India’ a success even in foreign lands. भारत सरकार का ‘इनक्रेडिबल भारत’ अभियान घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भारत को एक समग्र पर्यटन स्थल के रूप में बढ़ावा देने में सहायक है। ‘अतुल्य भारत’ के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय मीडिया अभियान हैं। ‘इनक्रेडिबल भारत’ को विदेशों में भी सफल बनाने के लिए मशहूर हस्तियों को शामिल किया गया है।
  • Besides, the ministry has launched ‘Clean India’ campaign under which cleanliness has become an indispensible norm at all the tourist destinations. Regular studies are being undertaken to analyse the market, identify the key factors, income figures, holiday habits and psyche of people in order to identify the key drivers in the tourism industry. इसके अलावा, मंत्रालय ने ‘स्वच्छ भारत’ अभियान शुरू किया है जिसके तहत सभी पर्यटन स्थलों पर स्वच्छता एक अनिवार्य मानदंड बन गया है। पर्यटन उद्योग में प्रमुख चालकों की पहचान करने के लिए बाजार का विश्लेषण करने, प्रमुख कारकों, आय के आंकड़ों, छुट्टियों की आदतों और लोगों के मानस की पहचान करने के लिए नियमित अध्ययन किए जा रहे हैं।
  • The government has made the facility of e-Tourist Visa available to the citizens of 150 countries arriving at 16 designated International airports in India. The visa has a validity of 60 days and the procedures are much easier. सरकार ने भारत में 16 नामित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर पहुंचने वाले 150 देशों के नागरिकों के लिए ई-पर्यटक वीजा की सुविधा उपलब्ध कराई है। वीजा की वैधता 60 दिनों की होती है और प्रक्रियाएं बहुत आसान होती हैं।
  • The concept of heritage hotels has gained popularity in India as the tourists get the experience of the exotic life style. Many historical havelis, castles, and forts built during the ancient times have been converted into heritage hotels. As expected, they have turned out to be major tourist attractions. हेरिटेज होटलों की अवधारणा ने भारत में लोकप्रियता हासिल की है क्योंकि पर्यटकों को विदेशी जीवन शैली का अनुभव मिलता है। प्राचीन काल में बनी कई ऐतिहासिक हवेलियों, महलों और किलों को हेरिटेज होटलों में तब्दील कर दिया गया है। जैसा कि अपेक्षित था, वे प्रमुख पर्यटक आकर्षण बन गए हैं।
  • The tourism industry has become one of the major contributors to the GDP of the country. It has the potential to generate mass employment and raise the income levels thereby contribute significantly to the economic development of the country. पर्यटन उद्योग देश के सकल घरेलू उत्पाद में प्रमुख योगदानकर्ताओं में से एक बन गया है। इसमें बड़े पैमाने पर रोजगार पैदा करने और आय के स्तर को बढ़ाने की क्षमता है जिससे देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान होता है।
  • Tourism has played an important role in the revival of India’s art and culture. The foreigners are fascinated by the rich culture and heritage of India. Seeing the keen interest of tourists in the rich culture and heritage of India, the government is taking steps to preserve it.  पर्यटन ने भारत की कला और संस्कृति के पुनरुद्धार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विदेशी भारत की समृद्ध संस्कृति और विरासत से मोहित हैं। भारत की समृद्ध संस्कृति और विरासत में पर्यटकों की गहरी दिलचस्पी को देखते हुए सरकार इसे संरक्षित करने के लिए कदम उठा रही है।

Conclusion :

Tourism is the largest service industry in our country and has the potential to stimulate economic growth of the country. To achieve its target, it is necessary to develop the tourism infrastructure, viz. the proper maintenance of the tourist destinations, railway stations, airports and rest houses are very necessary. पर्यटन हमारे देश का सबसे बड़ा सेवा उद्योग है और इसमें देश के आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने की क्षमता है। अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, पर्यटन के बुनियादी ढांचे को विकसित करना आवश्यक है, अर्थात पर्यटन स्थलों, रेलवे स्टेशनों, हवाई अड्डों और विश्राम गृहों का उचित रखरखाव बहुत आवश्यक है।

Apart from that More and more efficient facilities for tourist in terms of accommodation, recreation, transport, shopping and development of new tourist spots is the need of the hour. इसके अलावा पर्यटकों के लिए आवास, मनोरंजन, परिवहन, खरीदारी और नए पर्यटन स्थलों के विकास के मामले में अधिक से अधिक कुशल सुविधाएं समय की मांग है।

read more
Essays

Essay on Prevention and Mitigation Of Natural Disasters

Essay on Prevention and Mitigation Of Natural Disasters

Introduction :

A disaster is a result of natural or man-made causes that leads to sudden disruption of normal life, causing severe damage to life and property to an extent that available social and economic protection mechanisms are inadequate to cope. /आपदा प्राकृतिक या मानव निर्मित कारणों का परिणाम है जो सामान्य जीवन में अचानक व्यवधान पैदा करता है, जिससे जीवन और संपत्ति को इस हद तक गंभीर नुकसान होता है कि उपलब्ध सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा तंत्र सामना करने के लिए अपर्याप्त हो जाते है । It is an undesirable occurrence resulting from forces that are largely outside human control. It strikes quickly with little or no warning and requires major efforts in providing statutory emergency service. / यह एक अवांछनीय घटना है जो उन ताकतों से उत्पन्न होती है जो काफी हद तक मानव नियंत्रण से बाहर हैं। यह बहुत कम या बिना किसी चेतावनी के हमला करता है और वैधानिक आपातकालीन सेवा प्रदान करने के लिए बड़े प्रयासों की आवश्यकता होती है।

Natural disasters can be broadly classified into categories including geophysical such as earthquakes and volcanic eruptions; hydrological such as floods; meteorological such as hurricanes; climatological such as heat and cold waves and droughts; and biological such as epidemics. / प्राकृतिक आपदाओं को व्यापक रूप से भू-भौतिकीय जैसे भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट सहित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है; हाइड्रोलॉजिकल जैसे बाढ़; मौसम संबंधी जैसे तूफान; जलवायु संबंधी जैसे गर्मी और ठंडी लहरें और सूखा; और जैविक जैसे महामारी ।

Causes for Occurrence of Disaster / आपदा के कारण –

  • Removal of trees and forest cover from a watershed area have caused, soil erosion, expansion of flood plain area in upper and middle course of rivers and groundwater depletion/ वाटरशेड क्षेत्र से पेड़ों और वनों को हटाने से मिट्टी का कटाव, नदियों के ऊपरी और मध्य मार्ग में बाढ़ के मैदान का विस्तार और भूजल की कमी हुई है।
  • Exploitation of land use, development of infrastructure, rapid urbanization and technological development have caused increasing pressure over the natural resources / भूमि उपयोग के दोहन, बुनियादी ढांचे के विकास, तेजी से शहरीकरण और तकनीकी विकास के कारण प्राकृतिक संसाधनों पर दबाव बढ़ रहा है।
  • War, nuclear power aspirations, fight between countries to become super power and conquering land, sea and skies. These have resulted into wide range of disaster events such as Hiroshima nuclear explosion, growing militarisation of oceans and outer space. युद्ध, परमाणु ऊर्जा आकांक्षाएं, महाशक्ति बनने के लिए देशों के बीच लड़ाई और भूमि, समुद्र और आसमान पर विजय प्राप्त करना। इनके परिणामस्वरूप हिरोशिमा परमाणु विस्फोट, महासागरों के बढ़ते सैन्यीकरण और बाहरी अंतरिक्ष जैसी आपदा घटनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला हुई है।

Impacts of Disaster / आपदा के प्रभाव –

  • Disaster impacts individuals physically through loss of life, injury, health, disability as well as psychologically / आपदा व्यक्ति को जीवन की हानि, चोट, स्वास्थ्य, विकलांगता के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक रूप से, शारीरिक रूप से प्रभावित करती है।
  • Disaster results in huge economic loss due to destruction of property, human settlements and infrastructure etc / आपदा के परिणामस्वरूप संपत्ति, मानव बस्तियों और बुनियादी ढांचे आदि के विनाश के कारण भारी आर्थिक नुकसान होता है।
  • Disaster can alter the natural environment, loss of habitat to many plants and animals and cause ecological stress that can result in biodiversity loss / आपदा प्राकृतिक पर्यावरण को बदल सकती है, कई पौधों और जानवरों के आवास का नुकसान हो सकता है और पारिस्थितिक तनाव पैदा कर सकता है जिसके परिणामस्वरूप जैव विविधता का नुकसान हो सकता है।
  • After natural disasters, food and other natural resources like water often becomes scarce resulting into food and water scarcity / प्राकृतिक आपदाओं के बाद, भोजन और पानी जैसे अन्य प्राकृतिक संसाधन अक्सर दुर्लभ हो जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप भोजन और पानी की कमी हो जाती है।
  • The disaster results in displacement of people, and displaced population often face several challenges in new settlements, in this process poorer becomes more poor / आपदा के परिणामस्वरूप लोगों का विस्थापन होता है, और विस्थापित आबादी को अक्सर नई बस्तियों में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, इस प्रक्रिया में गरीब और अधिक गरीब हो जाता है।

Disaster Risk Management/ आपदा जोखिम प्रबंधन –

Disaster Risk Management implies the systematic process of using administrative decisions, organisation, operational skills, and capacities to implement policies, strategies and coping capacities of the society and communities to lessen the impact of natural hazards and related environmental and technological disasters. / आपदा जोखिम प्रबंधन का तात्पर्य प्राकृतिक खतरों और संबंधित पर्यावरणीय और तकनीकी आपदाओं के प्रभाव को कम करने के लिए समाज और समुदायों की नीतियों, रणनीतियों और मुकाबला करने की क्षमताओं को लागू करने के लिए प्रशासनिक निर्णयों, संगठन, परिचालन कौशल और क्षमताओं का उपयोग करने की व्यवस्थित प्रक्रिया से है।

1) Pre-Disaster risk reduction –

  • Mitigation – To eliminate or reduce the impacts and risks of hazards through proactive measures taken before an emergency or disaster occurs/ किसी आपात स्थिति या आपदा आने से पहले किए गए सक्रिय उपायों के माध्यम से खतरों के प्रभावों और जोखिमों को समाप्त करना या कम करना।
  • Preparedness –  To take steps to prepare and reduce the effects of disasters / आपदाओं के प्रभाव को तैयार करने और कम करने के लिए कदम उठाना।

2) Post-Disaster risk reduction –

  • Rescue: Providing warning, evacuation, search, rescue, providing immediate assistance / चेतावनी, निकासी, खोज, बचाव प्रदान करना, तत्काल सहायता प्रदान करना।
  • RelifeTo respond to communities who become victims of disaster, providing relief measures such as food packets, water, medicines, temporary accommodation, relief camps etc. / आपदा का शिकार होने वाले समुदायों को राहत के उपाय जैसे भोजन, पानी, दवाएं, अस्थायी आवास, राहत शिविर आदि उपलब्ध कराना।
  • Recovery: This stage emphasises upon recovery of victims of disaster, recovery of damaged infrastructure and repair of the damages caused / यह चरण आपदा के पीड़ितों, क्षतिग्रस्त बुनियादी ढांचे और नुकसान की मरम्मत पर जोर देता है।
read more
Essays

Essay on Mushrooming Old Age Home

Essay on Mushrooming Old Age Home

Introduction :

A man’s life is normally divided into five stages namely: infancy, childhood, adolescence, adulthood and old age. In each of these stages an individual’s finds himself in different situations and faces different problems. Old age is viewed as an unavoidable, undesirable and problem ridden phase of life. /मनुष्य के जीवन को सामान्य रूप से पाँच चरणों में विभाजित किया जाता है: शैशव, बचपन, किशोरावस्था, वयस्कता और बुढ़ापा। इनमें से प्रत्येक चरण में एक व्यक्ति खुद को विभिन्न स्थितियों में पाता है और विभिन्न समस्याओं का सामना करता है। वृद्धावस्था को जीवन के एक अपरिहार्य, अवांछनीय और समस्या ग्रस्त चरण के रूप में देखा जाता है।

  • Old age is a period of physical decline. The skin becomes rough and looses its elasticity. Wrinkles are formed and the veins show out prominently on the skin. Changes in the nervous system have a marked influence on the brain. / बुढ़ापा शारीरिक पतन का काल है। त्वचा खुरदरी हो जाती है और अपनी लोच खो देती है। झुर्रियां हो जाती हैं और नसें त्वचा पर दिखाई देने लगती हैं। तंत्रिका तंत्र में परिवर्तन का मस्तिष्क पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।
  • The old are more accident prone because of their slow reaction to dangers resulting in malfunctioning of the sense organs and declining mental abilities, the capacity to work decreases / वृद्ध अधिक दुर्घटना प्रवण होते हैं क्योंकि खतरों के प्रति उनकी धीमी प्रतिक्रिया के कारण इंद्रिय अंगों के खराब होने और मानसिक क्षमताओं में गिरावट आती है, काम करने की क्षमता भी कम हो जाती है।
  • Older people suffer from senile dementia. They develop symptoms like poor memory, intolerance of change, disorientation, rest lessens, insomnia, failure of judgement, a gradual formation of delusion and hallucinations, extreme-mental depression and agitation / वृद्ध लोग मनोभ्रंश से पीड़ित हो जाते  हैं। उनमें याददाश्त कम होना, परिवर्तन के प्रति असहिष्णुता, भटकाव, आराम कम होना, अनिद्रा, निर्णय की विफलता, धीरे-धीरे भ्रम और मतिभ्रम, अत्यधिक मानसिक अवसाद जैसे लक्षण विकसित होते हैं।
  • This is also associated with symptoms such as weakness, fatigue, dizziness, headache, depression, memory defect. Due to urbanisation, modernisation the joint families have shattered. People are busy with their jobs, and they hardly have any time and interest to look after the older members of the family/ यह कमजोरी, थकान, चक्कर आना, सिरदर्द, अवसाद, स्मृति दोष जैसे लक्षणों का भी कारन है। शहरीकरण, आधुनिकीकरण के कारण संयुक्त परिवार बिखर गए हैं। लोग अपने काम में व्यस्त हैं, और परिवार के बड़े सदस्यों की देखभाल करने के लिए उनके पास शायद ही समय और रुचि है।
  • Therefore, they leave their parents in old age homes. Also, many insensitive people, abandon their parents, and as a result of which various NGOs and governmental organisations rescue them and admit them to old age homes ‘/ इसलिए, वे अपने माता-पिता को वृद्धाश्रम में छोड़ देते हैं। साथ ही, कई असंवेदनशील लोग अपने माता-पिता को छोड़ देते हैं, और जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न गैर-सरकारी संगठन और सरकारी संगठन उन्हें बचाते हैं और उन्हें वृद्धाश्रम में भर्ती कर देते हैं।

Conclusion :

People are also adopting these new lifestyles and in a way, adjusting or compromising with life. However, it is important not to forget that we have to take care of the parents during their old age because they have taken care of us and raised us with a lot of love and affection since childhood. / लोग भी इन नई जीवनशैली को अपना रहे हैं और एक तरह से जीवन के साथ एडजस्ट या समझौता कर रहे हैं। हालांकि, यह नहीं भूलना महत्वपूर्ण है कि हमें माता-पिता के बुढ़ापे के दौरान उनका ख्याल रखना है क्योंकि उन्होंने बचपन से ही हमारा ख्याल रखा है और हमें बहुत प्यार और स्नेह से पाला है।

We should not be selfish and seek their blessings by providing them physical, social and emotional support. On the part of the parents, it is important to get prepared for the worst, in the case shortly and should not live with a lot of hopes, but make good savings to lead independent life during the old age, in case their children abandoned them, or any mishap occurs. /हमें स्वार्थी नहीं होना चाहिए और उन्हें शारीरिक, सामाजिक और भावनात्मक समर्थन प्रदान करके उनका आशीर्वाद लेना चाहिए। माता-पिता की ओर से, जल्द ही सबसे खराब स्थिति के लिए तैयार होना महत्वपूर्ण है और बहुत उम्मीदों के साथ नहीं जीना चाहिए, बुढ़ापे के दौरान स्वतंत्र जीवन जीने के लिए अच्छी बचत करें, अगर उनके बच्चों ने उन्हें छोड़ दिया या कोई अनहोनी हो जाती है।

We should make sure there should be no old age home at all. People should get all love, care, attention and support from their own family. In this way, we can become good human beings and seek their blessings. /हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई वृद्धाश्रम न हो। लोगों को अपने ही परिवार से सारा प्यार, देखभाल, ध्यान और समर्थन मिलना चाहिए। इस तरह हम अच्छे इंसान बन सकते हैं और उनका आशीर्वाद ले सकते हैं।

read more
Essays

Complaint letter to shopkeeper against defected garments

Complaint letter to shopkeeper against defected garments

Question : You are Ravi/Meenakshi of Buxer Road, West Bengal- 208546. You have ordered some readymade garments from ‘Phenix Garments’ shop in your area and have found that they are unsatisfactory (for example: wrong colour or mis fit). Write a letter to the shopkeeper telling him what is wrong and asking him what he can do to put things right.

Buxer Road

West Bengal- 208546

8th Jan, 2022

The Shopkeeper

Phenix Garments

West Bengal

Subject: Complaint against the delivered garments which are not of fine quality.

Respected Sir,

This letter is with reference to the delivery of garments ordered to you dated Jan 3, 2022. I took the delivery of the garments yesterday from your warehouse.

I feel really sorry to say that the quality of the garments is not up to the mark. The quality of the fabric is low in comparison to the sample shown to us. Moreover, a few of the pieces are mis fit. I am highly worried about the garments delivered by you as most of them are not really well. Please acknowledge this letter as to what you can do to make the garments okay and put things right.

It would be my pleasure if you could provide me a fresh lot of garments in exchange of the delivered ones as we have not accepted that garments . Kindly take necessary actions in this regard and provide the fresh consignment as early as possible.

Thanking you

Yours faithfully

Ravi/Meenakshi

Hindi Question : आप बक्सर रोड, पश्चिम बंगाल- 208546 के रहने वाले रवि/मीनाक्षी हैं। आपने अपने क्षेत्र में ‘फीनिक्स गारमेंट्स’ की दुकान से कुछ रेडीमेड कपड़ों का ऑर्डर दिया है और पाया है कि वे असंतोषजनक हैं उदाहरण के लिए: गलत रंग या फिटिंग ठीक नहीं है। दुकानदार को एक पत्र लिखकर बताएं कि कपड़ों में क्या दिक्कत है और उससे पूछें कि वह इसको ठीक करने के लिए क्या कर सकते है।

बक्सर रोड

पश्चिम बंगाल- 208546

30 दिसंबर, 2021

दुकानदार महोदय

फेनिक्स गारमेंट्स

पश्चिम बंगाल

विषय: ख़राब गुणवत्ता वाले वस्त्रों के सम्बन्ध में शिकायत पत्र

आदरणीय महोदय,

यह पत्र 25 दिसंबर, 2021 को आपको ऑर्डर किए गए कपड़ों की डिलीवरी के संदर्भ में है। मुझे कल आपके गोदाम से कपड़ों की डिलीवरी मिली थी।

मुझे यह कहते हुए खेद हो रहा है कि आपके द्वारा भेजे गए कपड़ों की गुणवत्ता सही नहीं है। हमें दिखाए गए नमूने की तुलना में इन कपड़ों की गुणवत्ता में बहुत फर्क है। इसके अलावा, कुछ कपड़ो की फिटिंग भी सही नहीं हैं। मैं आपके द्वारा भेजे गए माल (कन्साइनमेंट) को लेकर बहुत चिंतित हूं क्योंकि उनमें से अधिकांश वास्तव में ठीक नहीं हैं।

कृपया इस पत्र को स्वीकार करें और इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करें और जल्द से जल्द नया कन्साइनमेंट उपलब्ध कराएं।

धन्यवाद

सादर

रवि/मीनाक्षी

read more
Essays

Essay on India in Tokyo Olympics 2021 in Hindi

Essay on India in Tokyo Olympics 2021 in Hindi

Introduction :

“ओलंपिक खेलों में सबसे महत्वपूर्ण चीज जीतना नहीं बल्कि भाग लेना है” यह कथन दर्शाता है कि जीवन में जीतना ही सबकुछ नहीं होता बल्कि पूरी ताकत से लड़ना है। ओलंपिक दुनिया के बेहतरीन खेल आयोजनों में से एक है जो चार साल में एक बार आयोजित किया जाता है। इस साल ओलंपिक का आयोजन जापान के टोक्यो में हुआ । ओलंपिक खेलो के आयोजन से खिलाड़ियों को पुरे विश्व मेंअपनी प्रतिभा दिखाने और अपने देश को गौरवान्वित करने का अवसर मिलता है। यह वह मंच है जो दुनिया के विभिन्न देशों के बीच एकता को प्रोत्साहित करता है और भाईचारे को बढ़ावा देता है।

  • टोक्यो ओलंपिक का आयोजन 23 जुलाई से हुआ और 8 अगस्त 2021 को समाप्त हो गया। टोक्यो ओलंपिक में, भारत ने पिछले रियो ओलंपिक की तुलना में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है।
  • टोक्यो ओलंपिक में भारत ने सात पदक जीते हैं और पदक तालिका में 48वां स्थान हासिल किया है जो पिछले चार दशकों में कहीं बेहतर है।
  • भारत ने सात पदकों में से एक स्वर्ण हासिल किया जो भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने हासिल किया इसके अलावा दो रजत और चार कांस्य पदक भी हासिल हुए है।
  • पैरालंपिक श्रेणी में भारतीय एथलीटों ने उल्लेखनीय काम किया है। इस श्रेणी में भारत ने 19 पदक हासिल किए हैं जिसमें पांच स्वर्ण, आठ रजत और छह कांस्य पदक शामिल हैं।
  • वैसे तो टोक्यो ओलंपिक में हमारे देश का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा, लेकिन और भी बेहतर हो सकता है अगर हमारे देश के संबंधित अधिकारी और युवा खेल के प्रति अपना नजरिया बदलें।
  • हमारे देश में क्रिकेट के प्रति लोगो का जुनून देखने लायक हैं पर अन्य खेलो के प्रति भी हमें ध्यान देने की जरुरत हैं। हलाकि भारत के खिलाडीयो ने कम संसाधनो के बावजूद भी अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन अगर इनपर बजट और बढ़ा दिया जाये तो इनके प्रदर्शन में और निखार आएगा,
  • जिससे आगामी प्रतियोगिताओ में इससे वे इससे भी ज्यादा पदक जीत सकेंगे। इसके अलावा भ्रष्टाचार और राजनीतिक हस्तक्षेप भी इस दिशा में प्रमुख कारण हैं इसलिए अब तक हमारे पास केवल 35 पदक ही हैं।

Conclusion :

वर्तमान समय में, सरकार खेलो इंडिया प्रोग्राम, फिट इंडिया और कम एंड प्ले स्कीम आदि जैसी विभिन्न योजनाओ के माध्यम से इस क्षेत्र में सराहनीय प्रयास कर रही है। लेकिन भारत की वर्तमान स्थिति को देखते हुए ये पर्याप्त नहीं है। सबसे पहले हमें खेल के प्रति अपना नजरिया बदलना होगा और इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए सही उम्र में सही प्रतिभा की पहचान करनी होगी। लोगों को खेल के महत्व के प्रति जागरूक करने के लिए सरकार को और अधिक योजनाओं और कार्यक्रमों को लागू करना चाहिए। इस सम्बन्ध में यह कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा कि “विश्वास ही सफलता की कुंजी है।” अगर हमे विश्वास हैं, तो हम कुछ भी हासिल कर सकते हैं !

फिट इंडिया मूवमेंट पर निबंध

Introduction :

भारत के लोगों के में फिटनेस और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए, प्रसिद्ध हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद की जयंती और राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 29 अगस्त, 2019 को फिट इंडिया मूवमेंट का शुभारंभ किया। फिट इंडिया मूवमेंट का उद्देश्य भारतीयों को स्वस्थ और फिट जीवन शैली के लिए फिटनेस गतिविधियों और खेल को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने के लिए प्रोत्साहित करना है। प्रधानमंत्री ने फिट इंडिया पर अपने भाषण के दौरान कहा कि फिटनेस केवल एक शब्द नहीं है बल्कि स्वस्थ जीवन जीने का एक तरीका है।

हमारा राष्ट्र केवल तभी फिट होगा जब इसके प्रत्येक नागरिक फिट होगे। उन्होंने कहा, “मैं आपको फिट देखना चाहता हूं और आपको फिटनेस के प्रति जागरूक करना चाहता हूं और हम एक साथ फिट इंडिया के लक्ष्य को पूरा करेंगे ।” इस आंदोलन का उद्देश्य लोगों को स्वस्थ भविष्य के लिए अधिक सक्रिय जीवन शैली के लिए प्रोत्साहित करना है। लोगों को नियमित रूप से व्यायाम करने, मनोरंजक खेल खेलने और फिट रहने के लिए योग करने के लिए कहा गया।

  • बदलते समय के साथ-साथ भारत के लोगों के जीवन स्तर पर भी बड़ा बदलाव आया है।लोगों का रहन-सहन, खान-पान व जीवन जीने के तौर तरीके पहले जैसे नहीं रहे।
  • असमय भोजन,जंक फ़ूड,शाररिक व्यायाम न करना या अन्य वजहों से कई बीमारियें हो रही हैं।जिसने बड़े,बुजुर्गों व युवाओं को ही नहीं,यहां तक कि छोटे-छोटे बच्चों को भी अपनी की चपेट में ले लिया हैं।
  • आजकल छोटे-छोटे बच्चों को भी डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर,दिल की बीमारी व मोटापे आदि की शिकायत हो रही है।लेकिन इनमें से कई बीमारियों को हम अपने जीवन में छोटे-छोटे बदलाव कर दूर कर सकते हैं।

वैश्विक स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार

  • विकसित देशों में गैर-संक्रामक बीमारियां औसतन 55 वर्ष की उम्र में लोगों में देखी जा रही हैं।जबकि भारत में यह अधिकतर 45 वर्ष की उम्र में ही नागरिकों को अपनी चपेट में ले रही हैं।
  • भारत में दिल के रोगियों की संख्या लगभग 5.45 करोड़ हैं।जबकि 13.5 करोड़ लोग मोटापे का शिकार है।
  • भारत में हर 10 में से एक व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है।जबकि हर पांचवें व्यक्ति को हाइपरटेंशन की समस्या है।इस वक्त देश में 24.5% पुरुष तथा 20% महिलाएं हाइपरटेंशन का शिकार हैं।और भारत में लगभग 1.63 करोड़  मौतों हाइपरटेंशन की वजह से होती है।
  • भारत में पिछले दो दशकों में दो तिहाई गैर-संक्रामक रोग के मरीज बढ़े हैं।1990 में देश में कुल मौतों से 37.09% गैर संक्रामक रोगों से हो रही थी।लेकिन आज यह 62% तक पहुंच गई है।
  • भारत में कुल आबादी का लगभग 10% आबादी मानसिक रोगी है।यानि किसी ने किसी मानसिक परेशानी की गिरिफ्त में है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने फिट इंडिया अभियान (Fit India Movement) को शुरू करते हुए लोगों को स्वस्थ व फिट रहने के कुछ मन्त्र दिये, जैसे

  • बॉडी फिट है तो माइंड हिट।
  • फिटनेस एक शब्द नहीं, बल्कि स्वस्थ और समृद्ध जीवन की एक जरूरी शर्त है।
  • इसमें जीरो इन्वेस्टमेंट(Investment) है।लेकिन Return असीमित है।
  • जो लोग सफल है उनका एक ही मंत्र है फिटनेस पर उनका फोकस।
  • सफलता और फिटनेस का रिश्ता भी एक दूसरे से जुड़ा है।खेल,फिल्म, हर क्षेत्र के हीरो फिट रहते हैं।
  • किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए मानसिक और शारीरिक फिटनेस का होना जरूरी है
  • शरीर के लिए लिफ्ट या एस्केलेटर्स के बजाय बल्कि सीढ़ी का उपयोग करना सही होता है।लेकिन यह तभी हो पाएगा जब आप फिट हैं।
  • किसी भी क्षेत्र के व्यक्ति को मेंटल और फिजिकल तौर पर फिट होना जरूरी है।चाहे बोर्डरूम हो या बॉलीवुड।जो फिट है वह आसमान छूता है।
  • आज Lifestyle Diseases, Lifestyle Disorder की वजह से हैं।लेकिन Lifestyle Disorder को हम Lifestyle में बदलाव करके ठीक कर सकते हैं।
  • कुछ दशक पहले तक एक सामान्य व्यक्ति 8-10 किलोमीटर तक पैदल चल ही लेता था।कुछ ना कुछ फिटनेस के लिए करता ही था।लेकिन आज नई टेक्नोलॉजी की वजह से नए साधन बाजार में आए और व्यक्ति का पैदल चलना काफी कम हो गया।
  • भारत सरकार Fit India Movement को सफल बनाने के लिए कई विभागों के साथ मिलकर काम करेंगी।इनमें खेल मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, पंचायती राज मंत्रालय, ग्रामीण विकास मंत्रालय आदि प्रमुख हैं। 
  • फिट इंडिया अभियान का मुख्य मकसद स्वास्थ्य के प्रति देश के लोगों को जागरूक करना है।इसीलिए इस अभियान को भी सरकार स्वच्छता अभियान की ही तरह आगे बढ़ाएगी। 

Conclusion :

अधिकांश रोगों का मूल कारण जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां हैं और ऐसी कई बीमारियां हैं जिन्हें हमारी जीवनशैली में छोटे-छोटे बदलाव करके दूर किया जा सकता है। अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, चीन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों ने पहले ही अपने अभियानों के साथ स्वस्थ और फिट राष्ट्र के लिए मार्ग प्रशस्त करने का लक्ष्य रखा है। फिट इंडिया मूवमेंट को देश के हर कोने तक पहुंचना चाहिए। हमें इस आंदोलन की जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए और फिट इंडिया को सफल बनाने का प्रयास करना चाहिए।

समाज के प्रति युवाओं की भूमिका पर निबंध

Introduction :

युवाओं को प्रत्येक देश की सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति माना जाता है क्योंकि उनकी बुद्धिमता और कड़ी मेहनत देश को सफलता और समृद्धि की राह पर ले जाती है। जैसा कि प्रत्येक नागरिक का राष्ट्र के प्रति कुछ उत्तरदायित्व होता है, वैसे ही युवाओं का भी है। प्रत्येक राष्ट्र के निर्माण में इनका बहुत ही महत्त्वपूर्ण योगदान होता हैं। युवा एक ऐसे व्यक्ति को कहते है जिसकी उम्र 15 से 30 वर्ष के बीच में होती है। चूंकि युवा हर समाज की रीढ़ होते हैं और इसलिए वे समाज के भविष्य का निर्धारण करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अन्य सभी आयु वर्ग जैसे कि बच्चे, किशोर, मध्यम आयु वर्ग और वरिष्ठ नागरिक युवाओं पर भरोसा करते हैं और उनसे बहुत उम्मीदें रखते हैं।

समाज में युवाओं पर अत्यधिक निर्भरता के कारण, हम सभी युवाओं की हमारे परिवारों, समुदायों और देश के भविष्य के प्रति बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारियाँ है। युवा अपने नेतृत्व, नवाचार और विकास कौशल द्वारा समाज की वर्तमान स्थिति को नवीनीकृत कर सकते हैं। युवाओं से देश की वर्तमान तकनीक, शिक्षा प्रणाली और राजनीति में बदलाव लाने की उम्मीद की जाती है। उनपर समाज में हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और नैतिक मूल्यों को बनाए रखने का भी उत्तरदायित्व है। यही कारण है कि देश के विकास के लिए युवाओं की सक्रिय भागीदारी की अत्यधिक आवश्यकता होती है।

  • हमारे राष्ट्र के लिए कई परिवर्तन, विकास, समृद्धि और सम्मान लाने में युवा सक्रिय रूप से शामिल हुए हैं। इस सबका मुख्य उद्देश्य उन्हें एक सकारात्मक दिशा में प्रशिक्षित करना है।
  • युवा पीढ़ी के उत्थान के लिए कई संगठन काम कर रहे हैं क्योंकि वे बड़े होकर राष्ट्र निर्माण में सहायक बनेंगे। गरीब और विकासशील देश अभी भी युवाओं के समुचित विकास और शिक्षण में पिछड़े हुए हैं।
  • एक बच्चे के रूप में प्रत्येक व्यक्ति, अपने जीवन में कुछ बनने का सपने देखता है, बच्चा अपनी शिक्षा पूरी करता है और कुछ हासिल करने के लिए कुछ कौशल प्राप्त करता है।
  • युवाओं में त्वरित शिक्षा, रचनात्मकता, कौशल होता है। वे हमारे समाज और राष्ट्र में परिवर्तन लाने की शक्ति रखते हैं।
  • युवा उस चिंगारी के साथ बड़ा होता है, जो कुछ भी कर सकता है।
  • समाज में कई नकारात्मक कुरीतियाँ और कार्य किए जाते हैं। युवाओं में समाज परिवर्तन और लिंग तथा सामाजिक समानता की अवधारणा को लाने की क्षमता है।
  • समाज में व्याप्त कई मुद्दों पर काम करके युवा दूसरों के लिए एक आदर्श बन सकते हैं।

युवा की भूमिका

  • युवाओं को राष्ट्र की आवाज माना जाता है। युवा राष्ट्र के लिए कच्चे माल या संसाधन की तरह होते हैं। जिस तरह के आकार में वे हैं, उनके उसी तरीके से उभरने की संभावना होती है।
  • राष्ट्र द्वारा विभिन्न अवसरों और सशक्त युवा प्रक्रियाओं को अपनाया जाना चाहिए, जो युवाओं को विभिन्न धाराओं और क्षेत्रों में करियर बनाने में सक्षम बनाएगा।
  • युवा लक्ष्यहीन, भ्रमित और दिशाहीन होते हैं और इसलिए वे मार्गदर्शन और समर्थन के अधीन होते हैं, ताकि वे सफल होने के लिए अपना सही मार्ग प्रशस्त कर सकें।
  • युवा हमेशा अपने जीवन में कई असफलताओं का सामना करते हैं और हर बार ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि एक पूर्ण अंत है, लेकिन वो फिर से कुछ नए लक्ष्य के साथ खोज करने के लिए एक नए दृष्टिकोण के साथ उठता है।
  • एक युवा मन प्रतिभा और रचनात्मकता से भरा हुआ है। यदि वे किसी मुद्दे पर अपनी आवाज उठाते हैं, तो परिवर्तन लाने में सफल होते हैं।

भारत में युवाओं की प्रमुख समस्याएं

  • कई युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान नहीं की जाती है; यहां तक ​​कि कई लोग गरीबी और बेरोजगारी तथा अनपढ़ अभिभावकों के वजह से स्कूलों नहीं जा पाते हैं। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को स्कूल जाने और उच्च शिक्षा हासिल करने का मौका मिले।
  • बालिका शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि देश में कई ऐसे हिस्से हैं जहां लड़कियां स्कूल जाने और पढ़ाई से वंचित है। लेकिन युवा, लड़के और लड़कियों दोनों का गठन करते हैं। जब समाज का एक वर्ग उपेक्षित हो, तो समग्र विकास कैसे हो सकता है?
  • अधिकांश युवाओं को गलत दिशा में खींच लिया गया है; उन्हें अपने जीवन और करियर को नष्ट करने से रोका जाना चाहिए।
  • कई युवाओं में कौशल की कमी देखी गयी है, और इसलिए सरकार को युवाओं के लिए कुछ कौशल और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को लागू करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए ताकि वे आगे एक या उससे अधिक अवसरों से लाभान्वित हो सकें।
  • भारत में अधिकांश लोग गांवों में रहते हैं, इसलिए शिक्षा और अवसरों की सभी सुविधाओं तक उनकी उचित पहुंच नहीं है।
  • कुछ युवाओं द्वारा वित्तीय संकट और सामाजिक असमानता की समस्या होती है।
  • ऐसे कई बच्चे हैं जो प्रतिभा के साथ पैदा हुए हैं, लेकिन अपर्याप्त संसाधनों के चलते, वे अपनी प्रतिभा के साथ आगे नहीं बढ़ सके।
  • उनमें से कई को पारिवारिक आवश्यकताओं के कारण पैसा कमाने के लिए अपनी प्रतिभा से हटकर अन्य काम करना पड़ता है, लेकिन उन्हें उस काम से प्यार नहीं है जो वे कर रहे हैं।
  • बेरोजगारी की समस्या युवाओं की सबसे बड़ी समस्या है।
  • जन्मजात प्रतिभा वाले कुछ बच्चे होते हैं, लेकिन संसाधन की कमी या उचित प्रशिक्षण नहीं होने के कारण, वे अपनी आशा और प्रतिभा भी खो देते हैं।
  • इस प्रकार, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को उचित शिक्षा की सुविधा प्रदान की जाए। प्रशिक्षण और कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किए जाने चाहिए। युवाओं को कई अवसर प्रदान किया जाना चाहिए। उन्हें निर्णय लेने की प्रक्रियाओं और राजनीतिक मामलों में समान रूप से भाग लेना चाहिए।
  • कुशल समूहों को काम प्रदान करने के लिए कई रोजगार योजनाएं चलानी चाहिए।

Conclusion :

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम किस क्षेत्र में प्रगति करना चाहते हैं क्योंकि हर जगह युवाओं की आवश्यकता है। हमारे युवाओं को अपनी आंतरिक शक्तियों और समाज में उनकी भूमिका के बारे में पता होना चाहिए। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हर किसी को खुद को योग्य साबित करने के लिए समान मौका मिल सके। युवाओं के पास एक अलग दृष्टिकोण है जो पुरानी पीढ़ियों के पास नहीं था जिसके द्वारा वे हमारे देश में विकाश और समृद्धि ला सकते है।

आत्मनिर्भर भारत पर निबंध

Introduction :

आपदा को अवसर में बदलने के लिए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की गयी। पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज देने की भी घोषणा की है जो कि भारत की जीडीपी का 10% है।  इस पैकेज का उद्देश्य अर्थव्यवस्था में तरलता लाकर आत्मनिर्भर भारत मिशन के उद्देश्यों को पूरा करना है। इस योजना का उद्देश्य 130 करोड़ भारतवासियों को आत्मनिर्भर बनाना है ताकि देश का हर नागरिक संकट की इस घड़ी में कदम से कदम मिलाकर चल सके और कोविड-19 की महामारी को हराने में अपना योगदान दे सके।

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश के लॉक डाउन की स्थिति चल रही है जिसका सबसे ज्यादा बुरा असर देश के सुक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों , श्रमिकों ,मजदूरों और किसानो पर पड़ रहा है इन सभी नागरिको को लाभ पहुंचाने के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री जी ने देश के सुक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों, श्रमिकों ,मजदूरों और किसानो को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आर्थिक पैकेज का ऐलान कर दिया।

  • पूरे विश्व मे केवल भारत ही ऐसा देश है जहां सबसे अधिक प्राकृतिक संसाधन पाये जाते है, जो कि बिना किसी देश की मदद से जीवन से लेकर राष्ट्र निर्माण की वस्तुएं बना सकता है और आत्मनिर्भर के सपने को पूरा कर सकता है।
  • हालाकि भारत को आत्मनिर्भर बनाने का सपना नया है। यह सपना महात्मा गांधी ने आजादी के बाद ही स्वदेशी वस्तुओं के इस्तेमाल और आत्मनिर्भरता पर जोर दिया था, पर गरीबी और भुखमरी के कारण उनका सपना साकार न हो सका।
  • करोना महामारी के कारण पिछले कई महीनों से सारा विश्व बन्द पड़ा है, जिसके कारण छोटे लोगों से लेकर पूंजीपतियों तक को भारी नुकसान और परेशानीयों का सामना करना पड रहा है।
  • खासतौर से हमारे छोटे और मध्यम वर्ग के परिवारों को कमाने खाने की समस्या काफी बढ़ गयी है। कोरोना महामारी के कारण किसी भी देश से सामानों का आदान-प्रदान बन्द है।
  • इसलिए मई के महीने मे तालाबन्दी के दौरान हमारे प्रधानमंत्री ने देश को आत्मनिर्भर बनने का आह्वाहन किया है। उन्होने “लोकल फॉर वोकल” का भी नारा दिया। जिसका अर्थ है कि लोकल मे बनी वस्तुओं का उपयोग और उनका प्रचार करना और एक पहचान के रुप मे आगे बढ़ना।
  • महामारी के दौरान ही चीन ने भारत के डोकलाम सीमा क्षेत्र मे कब्जा करने की कोशिश की, जिसमे भारत के लगभग 20 जवान शहीद हो गए। सीमा के इस विवाद मे भारत के सैनिकों की क्षति के कारण देश के हर कोने से चीनी सामान को बैन करने की माँग के साथ ही, चीनी सामानो को बन्द कर दिया गया और प्रधानमंत्री ने सारे देश को आत्मनिर्भर बनने का मंत्र दिया। उन्होने कहा कि आत्मनिर्भर बनकर घरेलु चीजों का इस्तेमाल करें ताकि हमारा राष्ट्र मजबूती के साथ खड़ा हो सके।
  • पिछले कुछ महीनों से विश्व कोरोना वायरस महामारी के कारण बन्द पड़ा है। इसके कारण सारे विश्व मे वित्तीय संकट के बादल छाएं है।
  • इसी कड़ी मे भारत ने खुद को आत्मनिर्भर बनाने और राष्ट्र को आगे ले जाने फैसला किया है। विश्व बन्दी के कारण सारे विश्व के उत्पादों पर भारी असर हुआ है, इसलिए भारत ने स्वयं को आत्मनिर्भर बनाकर देश की तरक्की पर अपना कदम आगे बढ़ाया है।

आत्मनिर्भर भारत फायदे

  • आत्मनिर्भर भारत से हमारे देश मे उद्योगों की संख्या मे वृद्धि होगी।
  • हमारे देश को और देशो से सहायता कम लेनी होगी।
  • हमारे देश मे रोजगार के अधिक अवसर पैदा होगें।
  • इससे देश मे बेरोजगारी के साथ-साथ गरीबी से मुक्ति मे सहायता मिलेगी।
  • भारत की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत हो सकेगी।
  • आत्मनिर्भर बनने के साथ भारत चीजों का भंड़ारण काफी अधिक कर सकता है।
  • देश आगे चलकर अन्य देशों से आयात कम और निर्यात ज्यादा कर सकेगा।
  • आपदा की स्थिति मे भारत बाहरी देशों से मदद की मांग कम होगी।
  • देश मे स्वदेशी वस्तुओं का निर्माण कर देश की तरक्की को शीर्ष तक ले जाने मे सहायता मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत की घोषणा के तहत भारत के प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भरता के लिए पांच महत्वपूर्ण चीजे बाताई है।

  1. इंटेंट यानी इरादा करना।
  2. इन्क्लूजन या समावेश करना।
  3. निवेश या इन्वेस्टमेन्ट करना।
  4. इन्फ्रास्ट्रक्चर यानी सार्वजनिक ढ़ाचे को मजबूत करना।
  5. नयी चीजों का खोज करना।
  • इस महामारी के दौरान कुछ हद तक हमने आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार किया है और बिना अन्य देश की मदद से इस महामारी से लड़ने के लिए हमने देश मे ही चीजों का निर्माण करना शुरु कर दिया है।
  • जहां हमने पीपीई किट, वेन्टिलेटर, सेनेटाइजर और के.एन-95 मास्क का निर्माण अपने देश मे ही शुरु कर दिया है। पहले यही चीजे हमे विदेशों से मंगानी पड़ती थी। इन सभी चीजों का निर्माण भारत मे करना ही आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ने का पहला कदम है। इनके उत्पादन से हमे अन्य देशों की मदद भी नही लेनी पड़ रही है, और भारत आत्मनिर्भरता की ओर आगे कदम बढ़ा रहा है।
  • आत्मनिर्भरता की ओर भारत ने पीपीई किट, वैन्टिलेटर इत्यादि चीजों को बनाकर आत्मनिर्भरता की ओर  अपना पहला कदम बढ़ा दिया है और हमे भी इसमे अपना योगदान देकर आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करना होगा।
  • हमे ज्यादा से ज्यादा स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करने की आवश्यकता है। जिससे कि हम अपने देश को आत्मनिर्भर और अपने राष्ट्र को आगे बढ़ाने मे अपना योगदान कर सके।

Conclusion :

आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों की आय को दोगुना करने और कोविड-19 की आपदा के मद्देनजर किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए एक बेहतर कदम है। यह मिशन हमारे देश को आयात निर्भरता में कमी करने एवं वैश्विक बाजारों में स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के महत्व पर भी जोर देगा। इस अभियान के अंतर्गत देश के मजदूर श्रमिक किसान लघु उद्योग कुटीर उद्योग मध्यमवर्गीय उद्योग सभी पर विशेष ध्यान दिया जाएगा जो कि भारत के गरीब नागरिको की आजीविका का साधन है।

भारत में बेरोजगारी की समस्या

Introduction :

बेरोजगारी भारत में एक अहम मुद्दा बनता जा रहा है  जब कोई व्यक्ति काम करने योग्य हो और काम करने की इच्छा भी रखे किन्तु उसे काम का अवसर प्राप्त न हो तो वह बेरोजगार कहलाता हैं। आज हमारे देश मे लाखो लोग बेरोजगार है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नौकरियाँ सीमित हैं और नौकरी पाने वालो की संख्या असीमित। भारत में बेरोजगारी की स्थिति एक गंभीर सामाजिक समस्या है। शिक्षा का अभाव और रोजगार के अवसरों की कमी ऐसे कारक हैं जो बेरोज़गारी का प्रमुख कारण हैं। बेरोज़गारी न केवल देश के आर्थिक विकास में बाधा डालती है बल्कि व्यक्तिगत और पूरे समाज पर भी एक साथ कई तरह के नकारात्मक प्रभाव डालती है।

2011 की जनगणना के अनुसार युवा आबादी का 20 प्रतिशत जिसमें 4.7 करोड़ पुरूष और 2.6 करोड़ महिलाएं पूर्ण रूप से बेरोजागार हैं। यह युवा 25 से 29 वर्ष की आयु समूह से हैं। यही कारण है कि जब कोई सरकारी नौकरी निकलती है तो आवेदको की संख्या लाखों मे होती हैं। तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या भारत मे बेरोजगारी का प्रमुख कारण हैं। वर्तमान शिक्षा प्रणाली भी दोषपूर्ण है। बेरोजगारी को दूर करने में जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण आवश्यक है। जिस अनुपात में रोजगार से साधन बढ़ते है, उससे कई गुना जनसंख्या में वृद्धि हो  जाती है।

  • सबसे खराब स्थिति तो वह है जब पढ़े-लिखे युवकों को भी रोजगार नहीं मिलता शिक्षित युवकों की यह बेरोजगारी देश के लिए सर्वाधिक चिन्तनीय है, क्योंकि ऐसे युवक जिस तनाव और अवसाद से गुजरते हैं, उससे उनकी आशाएं टूट जाती हैं और वे गुमराह होकर उग्रवादी, आतंकवादी तक बन जाते हैं।
  • पंजाब, कश्मीर और असम के आतंकवादी संगठनों में कार्यरत उग्रवादियों में अधिकांश इसी प्रकार के शिक्षित बेरोजगार युवक हैं। बेरोजगारी देश की आर्थिक स्थिति को डाँवाडोल कर देती है। इससे राष्ट्रीय आय में कमी आती है, उत्पादन घट जाता है और देश में राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हो जाती है।
  • बेरोजगारी से क्रय शक्ति घट जाती है, जीवन स्तर गिर जाता है जिसका दुष्प्रभाव परिवार एवं बच्चों पर पड़ता है। बेरोजगारी मानसिक तनाव को जन्म देती है जिससे समाज एवं सरकार के प्रति कटुता के भाव जाग्रत होते हैं परिणामतः व्यक्ति का सोच नकारात्मक हो जाता है और वह समाज विरोधी एवं देश विरोधी कार्य करने में भी संकोच नहीं करता।

बेरोजगारी के कारण

  • भारत में बढ़ती हुई इस बेरोजगारी के प्रमुख कारणों में से एक है— तेजी से बढ़ती जनसंख्या। पिछले पाँच दशकों में देश की जनसंख्या लगभग चार गुनी हो गई है। सन् 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की आबादी 125 करोड को पार कर गई है।
  • यद्यपि सरकार ने विभिन्न योजनाओं के द्वारा रोजगार को अनेक नए अवसर सुलभ कराए हैं, तथापि जिस अनुपात में जनसंख्या वृद्धि हुई है उस अनुपात में रोजगार के अवसर सुलभ करा पाना सम्भव नहीं हो सका, परिणामतः बेरोजगारों की फौज बढ़ती गई।
  • प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में बेरोजगारों की वृद्धि हो रही है। बढ़ती हुई बेरोजगारी से प्रत्येक बुद्धि-सम्पन्न व्यक्ति चिन्तित है। हमारी शिक्षा पद्धति भी दोषपूर्ण है जो रोजगारपरक नहीं है।
  • कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से लाखों स्नातक प्रतिवर्ष निकलते हैं। किन्तु उनमें से कुछ ही रोजगार पाने का सौभाग्य प्राप्त कर पाते हैं। उनकी डिग्री रोजी-रोटी को जुटा पाने में उनकी सहायता नहीं कर पाती।
  • वैज्ञानिक एवं तकनीकी प्रगति ने उद्योगों का मशीनीकरण कर दिया है परिणामतः आदमी के स्थान पर मशीन से काम लिया जाने लगा। मशीन आदमी की तुलना में अधिक कुशलता से एवं अधिक गुणवत्ता से कम कीमत पर कार्य सम्पन्न कर देती है, अतः स्वाभाविक रूप से आदमी को हटाकर मशीन से काम लिया जाने लगा।
  • फिर एक मशीन सैकड़ों श्रमिकों का काम अकेले ही कर देती है। परिणामतः औद्योगिक क्षेत्रों में बेकारी पनप गई। लघु उद्योग एवं कुटीर उद्योगों की खस्ता हालत ने भी बेरोजगारी में वृद्धि की है।

बेरोजगारी दूर करने के उपाय

भारत एक विकासशील राष्ट्र है, किन्तु आर्थिक संकट से घिरा हुआ है। उसके पास इतनी क्षमता भी नहीं है कि वह अपने संसाधनों से प्रत्येक व्यक्ति को रोजगार सुलभ करा सके। ऐसी स्थिति में न तो यह कल्पना की जा सकती है है कि वह प्रत्येक व्यक्ति को बेरोजगारी भत्ता दे सकता है और न ही यह सम्भव है, किन्तु सरकार का यह कर्तव्य अवश्य है कि वह बेरोजगारी को दूर करने के लिए ठोस कदम उठाए। यद्यपि बेरोजगारी की समस्या भारत में सुरसा के मुख की तरह बढ़ती जा रही है फिर भी हर समस्या का निदान तो होता ही है।

  • भारत में वर्तमान में जनसंख्या वृद्धि 2.1% वार्षिक है जिसे रोकना अत्यावश्यक है। अब ‘हम दो हमारे दो’ का युग भी बीत चुका, अब तो ‘एक दम्पति एक सन्तान’ का नारा ही महत्वपूर्ण होगा, इसके लिए यदि सरकार को कड़ाई भी करनी पड़े तो वोट बैंक की चिन्ता किए बिना उसे इस ओर सख्ती करनी होगी। यह कठोरता भले ही किसी भी प्रकार की हो।
  • देश में आधारभूत उद्योगों के पर्याप्त विनियोग के पश्चात् उपभोग वस्तुओं से सम्बन्धित उद्योगों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। इन उद्योगों में उत्पादन के साथ ही वितरण परिवहन, आदि में रोजगार उपलब्ध होंगे।
  • शिक्षा को रोजगारोन्मुख बनाना आवश्यक है। हमारी शिक्षा पद्धति भी दोषपूर्ण है जो रोजगारपरक नहीं है। कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से लाखों स्नातक प्रतिवर्ष निकलते हैं। किन्तु उनमें से कुछ ही रोजगार पाने का सौभाग्य प्राप्त कर पाते हैं। उनकी डिग्री रोजी-रोटी को जुटा पाने में उनकी सहायता नहीं कर पाती।
  • धन्धों का विकास गांवों में कृषि सहायक उद्योग-धन्धों का विकास किया जाना आवश्यक है। इससे क्रषक खाली समय में अनेक कार्य कर सकेंगे। बागवानी, दुग्ध उत्पादन, मत्स्य अथवा मुर्गी पालन, पशुपालन, दुग्ध व्यवसाय, आदि ऐसे ही धन्धे है।
  • कुटीरोद्योग एवं लघु उद्योगों के विकास से ग्रामीण एवं शहरी दोनों ही क्षेत्रों में रोजगार के अवसर सुलभ कराए जा सकते हैं।
  • आज स्थिति यह है कि एक ओर विशिष्ट प्रकार के दक्ष श्रमिक नहीं मिल रहे हैं तो दूसरे प्रकार के दक्ष श्रमिकों को कार्य नहीं मिल रहा है।

Conclusion :

बेरोजगारी की दूर करने के सरकार द्वारा अनेक प्रयास किए गए है जिनमे राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम, ग्रामीण भूमिहीन रोजगार गारंटी कार्यक्रम, जवाहर रोजगार योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना आदि कार्यक्रम शामिल है। लेकिन अभी भी कुछ सख्त कदम उठाने बाकि है। बेरोजगारी को दूर करना देश का सबसे प्रमुख उद्देश्य होना चाहिए। नागरिकों को अधिक नौकरियों के निर्माण के साथ ही रोजगार के लिए सही कौशल प्राप्त करने के लिए प्रयास करना चाहिए।

read more
1 2 3 4 5 30
Page 3 of 30
error: Content is protected !!