close

Blog

Essays

Essay on Commonwealth Games 2022 | Commonwealth Games 2022 in english

Essay on Commonwealth Games 2022 | Commonwealth Games 2022 in english

Introduction :

“We are stronger together than we are alone”. This statement signifies the importance of unity. The commonwealth games is a multisport event which is held in every four years for athletes belonging to the commonwealth of nations. The first commonwealth games held in 1930. Recently 2022 commonwealth games were played in Birmingham, United Kingdom from 28th July to 8th August 2022. The motto of the 2022 commonwealth games is “Games for Everyone”.

  • The next commonwealth games is scheduled to be held in the  Australian state of Victoria from 17th to 29th March 2026.
  • The opening ceremony of 2022 Commonwealth games were held at ‘Alexander Stadium’ Birmingham which focussed on the theme “Vivid and Vibrant Confidence”.
  • This year 72 nations and 5054 athletes took part in 280 events. Out of 280 events our country won 61 medals which become the 4th best country in the world. Medals include 22 gold, 16 silver and 23 bronze.
  • Most of the gold medalist players in this event were female whose names are PV Sindhu, Sakshi Malik, Mirabai Chanu and Vinesh Phogat etc.
  • There were so many events but this time five new events were introduced to keep an eye on i.e. (1) T20 Cricket (Women),(2) Judo (3) Basketball (3×3) (4) Wheelchair Basketball (3×3) and (5) Para Table Tennis. Australia topped the medal count and India secured the 4th rank with total 61 medals including 22 gold medals.
  • This game is also referred as ‘The friendly games’. Every country is celebrating this event and there is a lot to celebrate and to be proud to be a part of this event.

Conclusion :

These types of events give strength to our young one’s to do something for our country. It also gives positive impact on our society’s thinking towards sports. Sports activities should be encouraged in schools & colleges by organizing these activities on regular basis. Parents should also understand the importance of sports activities. As these games give country’s best talents out and also encourage young talents to dream high in the field of sports.

read more
Essays

Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav in hindi

आजादी का अमृत महोत्सव | Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav | Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav in hindi

Introduction :

“एक राष्ट्र की शक्ति उसके लोगो के दिल और आत्मा में बसती है।” ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का आगाज़ उपयुक्त पंक्तियों में  निहित है। “आज़ादी का अमृत महोत्सव” एक भव्य उत्सव है जो हमारे देश की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर मनाया जा रहा हैं। इस “महोत्सव” की शुरुआत हमारे प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 12 मार्च, 2021 को की। 12 मार्च की तारीख इसलिए चुनी गई क्योंकि गांधी जी ने उसी दिन 1930 में ऐतिहासिक दांडी मार्च की शुरआत की था। जवाहरलाल नेहरू, गांधी जी, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस जैसे हमारे महान देशभक्त नेताओं के अथक प्रयासों के बाद हमें आजादी मिली है।

  • आज हम सभी इस महोत्सव के द्वारा 1857 के स्वतंत्रता संग्राम, महात्मा गांधी जी के “सत्याग्रह” जैसी सभी ऐतिहासिक घटनाओं को याद कर रहे हैं।
  • 75 सप्ताह के काउंटडाउन के साथ यह 15 अगस्त 2023 को समाप्त हो जाएगा। इस आयोजन के उपलप्छ में सभी राज्यों, केंद्र शाशित प्रदेशो, भारतीय दुतवासो पर जश्न मनाया गया साथ ही देश की एकता का सन्देश विश्व को पहुंचाया जा रहा है।
  • हमारे पीएम नरेंद्र मोदी जी ने इस अवसर पर “हर घर तिरंगा” अभियान शुरू किया। देश के सभी नागरिकों ने अपने घर पर तिरंगा फहराया और इस ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ अभियान का हिस्सा बनने पर गर्व महसूस किया।
  • लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक, सरदार वल्लभ भाई पटेल बिपिन चंद्र पाल आदि जैसे हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान और बलिदान को दर्शाने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न प्रदर्शनियां भी आयोजित की गयी।

Conclusion :

राष्ट्रवाद और देशभक्ति की भावना पैदा करने के लिए, नागरिकों को राष्ट्रगान रिकॉर्ड करने और इसे “rastragaan.in” की वेबसाइट पर अपलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। इन सभी कार्यक्रमों को सरकार द्वारा “विजन इंडिया @ 2047” को ध्यान में रखते हुए किया गया है जब हम स्वतंत्रता की एक शताब्दी पूरी कर लेंगे। साथ ही भारत को और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए अगले 25 वर्षों को “अमृत काल” कहा गया है। यह “महोत्सव” निश्चित रूप से सभी पीढ़ी के लिए राष्ट्र निर्माण में अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगा। हमें भी एकजुट होकर अपने देश को महाशक्ति बनाने की पहल करनी चाहिए।

read more
Essays

Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav

Short Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav | Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav in english

Introduction :

“The more difficult the victory, the greater the happiness in winning.” These lines indicate the joy which we got after getting something difficult. “Azadi ka Amrit Mahotsav” is a  grand celebration that indicates that our nation has completed 75 years of independence. This “Mahotsav” was officially inaugurated by our Prime Minister Narendra Modi on 12th March, 2021. The date 12th March was chosen because Mahatma Gandhi started the historical Dandi March on the same day in 1930. We have got independence after tireless efforts by our great patriotic leaders like Jawarharlal Nehru, Gandhi Ji, Bhagat Singh and Subhash Chandra Bose.

  • Today we all are commemorating all the historical events such as the freedom struggle of 1857, Mahatma Gandhi’s “Satyagraha”
  • Lokmanya Tilak’s “Purna Swaraj” and “Delhi March” under the leadership of Netaji Subhas Chandra Bose.
  • The official journey of “Azadi ka Amrit Mahotsav” started on 12th Match 2021 which started a 75 week countdown to our 75th anniversary of independence.
  • And it will end next year 0n 15th August 2023. Our PM Narendra Modi also launched “Har Ghar Tiranga” campaign on this occasion.
  • All citizen of the country hoisted tricolor on his house and being proud on being a part of this ‘Azadi ka Amrit Mahotsav’ campaign.
  • Various exhibitions are also held in different parts of the country to depict the contribution and sacrifice of our freedom fighters like Lala Lajpat Rai, Bal Gangadhar Tilak, Sardar Vallabhai Patel Bipin Chandra Pal etc.

Conclusion :

To instill a spirit of nationalism and patriotism, citizens are encouraged to record National Anthem and upload it on website like “rastragaan.in”. All these activities have been undertaken by the government keeping  in mind “Vision India @ 2047” when we complete a century of independence. Also the next 25 years have been termed as “Amrit Kaal” for encouraging India to grow further. This “Mahotsava” will surely act as a catalyst for all generation to give their best in nation building. We should also unite and take initiative for making our country a superpower.

Long Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav | Essay on Azadi Ka Amrit Mahotsav in english

Introduction :

Azadi Ka Amrit Mahotsav is an initiative of the Government of India to celebrate and commemorate 75 years of progressive India and the glorious history of its people, culture and achievements through numerous programmes like [email protected], [email protected], Actions @75, [email protected] etc. which mainly focus on what has been achieved so far and its significance and what can be achieved in the coming future to take India to the heights. Azadi Ka Amrit Mahotsav is an initiative of the Government of India to celebrate and honour 75 years of progressive India and the glorious history of its people, culture and achievements through numerous programmes such as [email protected], [email protected], Actions @75, [email protected] etc., which mainly focus on what has been achieved so far and its significance and what can be achieved in the coming future to take India to the heights.

Azadi Ka Amrit Mahotsav is an initiative of the Government of India to celebrate and appreciate 75 years of progressive India and the glorious history of its people, culture and achievements through numerous programmes like [email protected], [email protected], Actions @75, [email protected], etc., which focus primarily on what has been achieved so far and its significance and what can be achieved in the coming future to take India to the heights.

  • Azadi ka Amrit Mahotsav aims to chart a visionary path for India through its five prepared pillars: Struggle for Independence, Ideas of 75 Years, Achievements of 75 Years, Actions of 75 Years and Resolutions of 75 Years.
  • Through these pillars, the great journey of India’s independence will be revisited and remembered. Along with this, a roadmap for strengthening India’s social, economic and political power is also provided.
  • Such celebrations are important to make people aware of the importance of this freedom and its value and to instill in them a sense of patriotism.
  • We are now able to live freely with all rights because someone has fought a long battle for this independence, and now it is our duty to understand these sacrifices and respect the sufferings by becoming a reasonable citizen of the country and playing an active role in its development and progress.

Conclusion :

To this end, several events will be held during the Mohatsav to keep the sense of patriotism alive throughout the festival. During the events, the exiles among the freedom fighters are introduced and each milestone and national vacation is associated with the commemoration of 75 years of independence. It is only through our collective determination, wellthought out action plans and determined efforts that all the adopted plans can be realized to make India stronger than before.

read more
Essays

Essay on Agnipath Yojna in Hindi

Short Essay on Agnipath Yojna in Hindi | Essay on Agnipath Yojna for SSC CGL | Agnipath Yojna for SSC CHSL

Introduction :

सशस्त्र बलों में सैनिकों की भर्ती के लिए सरकार ने 14 जून 2022 को ‘अग्निपथ योजना’ नाम से एक योजना शुरू की। इस योजना के तहत युवाओं को चार साल की अवधि के लिए भारतीय सशस्त्र बलों में सेवा का अवसर मिल रहा है। इस योजना के माध्यम से सशस्त्र बलों में शामिल होने वाले युवाओं को ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा। इस योजना के तहत, लगभग 45,000 से 50,000 सैनिकों की वार्षिक आधार पर भर्ती की जाएगी और अधिकांश केवल चार वर्षों में सेवा छोड़ देंगे।

  • हालांकि, चार वर्षों के बाद, बैच के केवल 25% सैनिको को ही 15 वर्षों की अवधि के लिए उनकी संबंधित सेवाओं में वापस भर्ती किया जाएगा। 17.5 वर्ष से 23 वर्ष की आयु के युवा इस योजना में आवेदन कर सकते है। इससे भारतीय सशस्त्र बलों की औसत आयु प्रोफ़ाइल में लगभग 4 से 5 वर्ष की कमी आने की उम्मीद है।
  • सशस्त्र बलों में आज औसत आयु 32 वर्ष है, जो छह से सात वर्षों में घटकर 26 हो जाएगी। 4 साल की सेवा के पूरा होने पर, अग्निवीरों को 11.71 लाख रुपये का एकमुश्त ‘सेवा निधि’ पैकेज का भुगतान किया जाएगा।
  • उन्हें चार साल के लिए 48 लाख रुपये का जीवन बीमा कवर भी मिलेगा। मृत्यु के मामले में, भुगतान 1 करोड़ रुपये से अधिक होगा, जिसमें असेवित कार्यकाल के लिए वेतन भी शामिल है। इस योजना के बहुत सारे फायदों के बावजूद कुछ नुकसान भी हैं।
  • अग्निपथ योजना के तहत चार साल का कार्यकाल समाप्त होने पर अग्निवीरो को लगभग 11 लाख रुपये की एकमुश्त राशि दी जाएगी। हालांकि, उन्हें कोई पेंशन लाभ नहीं दिया जाएगा। इनमे से अधिकांश लोगो के लिए, दूसरी नौकरी की तलाश करना आवश्यक हो जाएगा ताकि वे अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर सके।

Conclusion :

थल सेना, नौसेना और वायु सेना में शामिल होने वाले युवाओं को तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाएगा लेकिन चार साल पूरे करने के बाद वे इस ज्ञान का उपयोग नहीं कर सकेंगे। इस योजना का मुख्य उद्देश्य “भविष्य के लिए तैयार” सैनिक बनाना है। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और इसके कारण ऐसे सैनिकों को चार साल की सेवा के दौरान हासिल कौशल और अनुभव के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। इससे हमारी अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव होगा जो हमारे देश की उत्पादकता और समग्र विकास में भी सहायक होगी।

Long Essay on Agnipath Yojna in english and Hindi

Introduction :

Under this scheme, around 45,000 to 50,000 soldiers will be recruited annually, and most will leave the service in just four years. However, after four years, only 25% of the batch will be recruited back into their respective services, for a period of 15 years. / (इस योजना के तहत, लगभग 45,000 से 50,000 सैनिकों की सालाना भर्ती की जाएगी, और अधिकांश केवल चार वर्षों में सेवा छोड़ देंगे। हालांकि, चार वर्षों के बाद, बैच के केवल 25% सैनिकों को ही 15 वर्षों की अवधि के लिए उनकी संबंधित सेवाओं में वापस भर्ती किया जाएगा)

Under this scheme, around 45,000 to 50,000 soldiers will be recruited annually, and most will leave the service in just four years. However, after four years, only 25% of the batch will be recruited back into their respective services, for a period of 15 years. /(इस योजना के तहत, लगभग 45,000 से 50,000 सैनिकों की सालाना भर्ती की जाएगी, और अधिकांश केवल चार वर्षों में सेवा छोड़ देंगे। हालांकि, चार वर्षों के बाद, बैच के केवल 25% सैनिकों को ही 15 वर्षों की अवधि के लिए उनकी संबंधित सेवाओं में वापस भर्ती किया जाएगा)

This recruitment is only for personnel below officer ranks those who do not join the forces as commissioned officers. Commissioned officers are the army’s highest ranked officers. Commissioned officers hold an exclusive rank in the Indian armed forces. They often hold a commission under the president’s sovereign power and are officially instructed to protect the country. / (यह भर्ती केवल अधिकारी रैंक से नीचे के कर्मियों के लिए है जो कमीशन अधिकारी के रूप में सेना में शामिल नहीं होते हैं। कमीशन अधिकारी सेना के सर्वोच्च रैंक वाले अधिकारी होते हैं। कमीशन अधिकारी भारतीय सशस्त्र बलों में एक विशेष रैंक रखते हैं। वे अक्सर राष्ट्रपति की संप्रभु शक्ति के तहत एक आयोग रखते हैं और उन्हें आधिकारिक तौर पर देश की रक्षा करने का निर्देश दिया जाता है)

Aspirants between the ages of 17.5 years and 23 years will be eligible to apply. It is expected to bring down the average age profile of the Indian Armed Forces by about 4 to 5 years. The scheme envisions that, the average age in the forces is 32 years today, which will go down to 26 in six to seven years. There are lots of benefits for Agniveers. (17.5 वर्ष से 23 वर्ष की आयु के उम्मीदवार इसके अंतर्गत आवेदन करने के पात्र होंगे। इससे भारतीय सशस्त्र बलों की औसत आयु प्रोफ़ाइल में लगभग 4 से 5 वर्ष की कमी आने की उम्मीद है। इस योजना में यह कल्पना की गई है कि आज सशस्त्र बलों में औसत आयु 32 वर्ष है, जो छह से सात वर्षों में घटकर 26 हो जाएगी। इससे अंतर्गत अग्निवीरों के लिए बहुत सारे लाभ हैं)

Upon the completion of the 4-years of service, a one-time ‘Seva Nidhi’ package of Rs 11.71 lakhs will be paid to the Agniveers that will include their accrued interest thereon. They will also get a Rs 48 lakh life insurance cover for the four years. In case of death, the payout will be over Rs 1 crore, including pay for the unserved tenure. (4 साल की सेवा के पूरा होने पर, 11.71 लाख रुपये की ‘सेवा निधि’ पैकेज का भुगतान अग्निवीरों को किया जाएगा, जिसमें उनका अर्जित ब्याज भी शामिल है। उन्हें चार साल के लिए 48 लाख रुपये का जीवन बीमा कवर भी मिलेगा। मृत्यु के मामले में, 1 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान होगा, जिसमें बिना सेवा के कार्यकाल का वेतन भी शामिल है)

The government will help rehabilitate soldiers who leave the services after four years. They will be provided with skill certificates and bridge courses. Inspite of lots of benefits there are some disadvantages too. Those who hired under the ‘Agnipath’ scheme will be given a one-time lumpsum of around Rs 11 lakh when they end their four-year tenure. (सरकार चार साल बाद सेवा छोड़ने वाले सैनिकों के पुनर्वास में मदद करेगी। उन्हें स्किल सर्टिफिकेट और ब्रिज कोर्स प्रदान किए जाएंगे। इसके बहुत सारे फायदों के बावजूद कुछ नुकसान भी हैं। अग्निपथ योजना के तहत जवानो को चार साल का कार्यकाल समाप्त होने पर लगभग 11 लाख रुपये की राशि दी जाएगी।)

However, they do not receive any pension benefits. For most, seeking a second job is essential to support themselves and their families. The jawans joining the Army, Navy and Air Force will be given technical training so that they are able to support the ongoing operations.  (हालांकि, उन्हें कोई पेंशन लाभ नहीं मिलता है। अधिकांश के लिए, दूसरी नौकरी की तलाश करना स्वयं को और अपने परिवार का पेट पालने के लिए आवश्यक है। थल सेना, नौसेना और वायु सेना में शामिल होने वाले जवानों को तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वे चल रहे अभियानों में सहयोग कर सकें।)

Conclusion :

But these soldiers will leave after four years, which could create a void. Although it will create “future-ready” soldiers. It will also increase employment opportunities and because of the skills and experience acquired during the four-year service such soldiers will get employment in various fields. This will also lead to availability of a higher-skilled workforce to the economy which will be helpful in productivity and overall growth of our country. (लेकिन ये सैनिक चार साल बाद चले जाएंगे, जो पूर्ण रूप से बेकार साबित हो सकता है। हालांकि इससे “भविष्य के लिए तैयार” सैनिक बनेंगे। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और चार साल की सेवा के दौरान प्राप्त कौशल और अनुभव के कारण ऐसे सैनिकों को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार मिलेगा। इससे अर्थव्यवस्था के लिए उच्च कुशल कार्यबल की उपलब्धता भी होगी जो हमारे देश की उत्पादकता और समग्र विकास में सहायक होगी)

read more
Essays

Agnipath Yojna essay in english

Short Essay on Agnipath Yojna in english | Essay on Agnipath Yojna for SSC CGL | Agnipath Yojna for SSC CHSL

Introduction :

For the recruitment of soldiers into the armed forces the government has launched a scheme named ‘Agnipath Yojna’ on 14 June 2022. It allows patriotic and motivated youth to serve in Indian Armed Forces for a period of four years. The youth joining the armed forces via this scheme will be called Agniveer. Under this scheme, around 45,000 to 50,000 soldiers will be recruited on annual basis and most will leave the service in just four years. However, after four years, only 25% of the batch will be recruited back into their respective services, for a period of 15 years.

  • Aspirants between the ages of 17.5 years and 23 years will be eligible to apply. It is expected to bring down the average age profile of the Indian Armed Forces by about 4 to 5 years.
  • The average age in the forces is 32 years today, which will go down to 26 in six to seven years. Upon the completion of the 4-years of service, a one-time ‘Seva Nidhi’ package of Rs 11.71 lakhs will be paid to the Agniveers.
  • They will also get a Rs 48 lakh life insurance cover for the four years. In case of death, the payout will be over Rs 1 crore, including pay for the unserved tenure. Inspite of lots of benefits there are some disadvantages too.
  • Those who hired under the ‘Agnipath’ scheme will be given a one-time lumpsum of around Rs 11 lakh when they end their four-year tenure. However, they do not receive any pension benefits. For most, seeking a second job is essential to support themselves and their families.
  • The youth joining the Army, Navy and Air Force will be provided technical training but after completing four years it will be of no use.

Conclusion :

The main purpose of this scheme is to create “future-ready” soldiers. . It will also increase employment opportunities and because of The skills and experience acquired during the four-year service such soldiers will get employment in various fields. This will also lead to availability of a higher-skilled workforce to the economy which will be helpful in productivity and overall growth of our country.

Long Essay on Agnipath Yojna in english and Hindi

Introduction :

Under this scheme, around 45,000 to 50,000 soldiers will be recruited annually, and most will leave the service in just four years. However, after four years, only 25% of the batch will be recruited back into their respective services, for a period of 15 years. / (इस योजना के तहत, लगभग 45,000 से 50,000 सैनिकों की सालाना भर्ती की जाएगी, और अधिकांश केवल चार वर्षों में सेवा छोड़ देंगे। हालांकि, चार वर्षों के बाद, बैच के केवल 25% सैनिकों को ही 15 वर्षों की अवधि के लिए उनकी संबंधित सेवाओं में वापस भर्ती किया जाएगा)

Under this scheme, around 45,000 to 50,000 soldiers will be recruited annually, and most will leave the service in just four years. However, after four years, only 25% of the batch will be recruited back into their respective services, for a period of 15 years. /(इस योजना के तहत, लगभग 45,000 से 50,000 सैनिकों की सालाना भर्ती की जाएगी, और अधिकांश केवल चार वर्षों में सेवा छोड़ देंगे। हालांकि, चार वर्षों के बाद, बैच के केवल 25% सैनिकों को ही 15 वर्षों की अवधि के लिए उनकी संबंधित सेवाओं में वापस भर्ती किया जाएगा)

This recruitment is only for personnel below officer ranks those who do not join the forces as commissioned officers. Commissioned officers are the army’s highest ranked officers. Commissioned officers hold an exclusive rank in the Indian armed forces. They often hold a commission under the president’s sovereign power and are officially instructed to protect the country. / (यह भर्ती केवल अधिकारी रैंक से नीचे के कर्मियों के लिए है जो कमीशन अधिकारी के रूप में सेना में शामिल नहीं होते हैं। कमीशन अधिकारी सेना के सर्वोच्च रैंक वाले अधिकारी होते हैं। कमीशन अधिकारी भारतीय सशस्त्र बलों में एक विशेष रैंक रखते हैं। वे अक्सर राष्ट्रपति की संप्रभु शक्ति के तहत एक आयोग रखते हैं और उन्हें आधिकारिक तौर पर देश की रक्षा करने का निर्देश दिया जाता है)

Aspirants between the ages of 17.5 years and 23 years will be eligible to apply. It is expected to bring down the average age profile of the Indian Armed Forces by about 4 to 5 years. The scheme envisions that, the average age in the forces is 32 years today, which will go down to 26 in six to seven years. There are lots of benefits for Agniveers. (17.5 वर्ष से 23 वर्ष की आयु के उम्मीदवार इसके अंतर्गत आवेदन करने के पात्र होंगे। इससे भारतीय सशस्त्र बलों की औसत आयु प्रोफ़ाइल में लगभग 4 से 5 वर्ष की कमी आने की उम्मीद है। इस योजना में यह कल्पना की गई है कि आज सशस्त्र बलों में औसत आयु 32 वर्ष है, जो छह से सात वर्षों में घटकर 26 हो जाएगी। इससे अंतर्गत अग्निवीरों के लिए बहुत सारे लाभ हैं)

Upon the completion of the 4-years of service, a one-time ‘Seva Nidhi’ package of Rs 11.71 lakhs will be paid to the Agniveers that will include their accrued interest thereon. They will also get a Rs 48 lakh life insurance cover for the four years. In case of death, the payout will be over Rs 1 crore, including pay for the unserved tenure. (4 साल की सेवा के पूरा होने पर, 11.71 लाख रुपये की ‘सेवा निधि’ पैकेज का भुगतान अग्निवीरों को किया जाएगा, जिसमें उनका अर्जित ब्याज भी शामिल है। उन्हें चार साल के लिए 48 लाख रुपये का जीवन बीमा कवर भी मिलेगा। मृत्यु के मामले में, 1 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान होगा, जिसमें बिना सेवा के कार्यकाल का वेतन भी शामिल है)

The government will help rehabilitate soldiers who leave the services after four years. They will be provided with skill certificates and bridge courses. Inspite of lots of benefits there are some disadvantages too. Those who hired under the ‘Agnipath’ scheme will be given a one-time lumpsum of around Rs 11 lakh when they end their four-year tenure. (सरकार चार साल बाद सेवा छोड़ने वाले सैनिकों के पुनर्वास में मदद करेगी। उन्हें स्किल सर्टिफिकेट और ब्रिज कोर्स प्रदान किए जाएंगे। इसके बहुत सारे फायदों के बावजूद कुछ नुकसान भी हैं। अग्निपथ योजना के तहत जवानो को चार साल का कार्यकाल समाप्त होने पर लगभग 11 लाख रुपये की राशि दी जाएगी।)

However, they do not receive any pension benefits. For most, seeking a second job is essential to support themselves and their families. The jawans joining the Army, Navy and Air Force will be given technical training so that they are able to support the ongoing operations.  (हालांकि, उन्हें कोई पेंशन लाभ नहीं मिलता है। अधिकांश के लिए, दूसरी नौकरी की तलाश करना स्वयं को और अपने परिवार का पेट पालने के लिए आवश्यक है। थल सेना, नौसेना और वायु सेना में शामिल होने वाले जवानों को तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि वे चल रहे अभियानों में सहयोग कर सकें।)

Conclusion :

But these soldiers will leave after four years, which could create a void. Although it will create “future-ready” soldiers. It will also increase employment opportunities and because of the skills and experience acquired during the four-year service such soldiers will get employment in various fields. This will also lead to availability of a higher-skilled workforce to the economy which will be helpful in productivity and overall growth of our country. (लेकिन ये सैनिक चार साल बाद चले जाएंगे, जो पूर्ण रूप से बेकार साबित हो सकता है। हालांकि इससे “भविष्य के लिए तैयार” सैनिक बनेंगे। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और चार साल की सेवा के दौरान प्राप्त कौशल और अनुभव के कारण ऐसे सैनिकों को विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार मिलेगा। इससे अर्थव्यवस्था के लिए उच्च कुशल कार्यबल की उपलब्धता भी होगी जो हमारे देश की उत्पादकता और समग्र विकास में सहायक होगी)

 

 

read more
Essays

टोक्यो ओलंपिक में भारत पर निबंध

टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन पर निबंध | Essay on India in Tokyo Olympics 2021 in Hindi

Introduction :

“ओलंपिक खेलों में सबसे महत्वपूर्ण चीज जीतना नहीं बल्कि भाग लेना है” यह कथन दर्शाता है कि जीवन में जीतना ही सबकुछ नहीं होता बल्कि पूरी ताकत से लड़ना है। ओलंपिक दुनिया के बेहतरीन खेल आयोजनों में से एक है जो चार साल में एक बार आयोजित किया जाता है। इस साल ओलंपिक का आयोजन जापान के टोक्यो में हुआ । ओलंपिक खेलो के आयोजन से खिलाड़ियों को पुरे विश्व मेंअपनी प्रतिभा दिखाने और अपने देश को गौरवान्वित करने का अवसर मिलता है। यह वह मंच है जो दुनिया के विभिन्न देशों के बीच एकता को प्रोत्साहित करता है और भाईचारे को बढ़ावा देता है।

  • टोक्यो ओलंपिक का आयोजन 23 जुलाई से हुआ और 8 अगस्त 2021 को समाप्त हो गया। टोक्यो ओलंपिक में, भारत ने पिछले रियो ओलंपिक की तुलना में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है।
  • टोक्यो ओलंपिक में भारत ने सात पदक जीते हैं और पदक तालिका में 48वां स्थान हासिल किया है जो पिछले चार दशकों में कहीं बेहतर है।
  • भारत ने सात पदकों में से एक स्वर्ण हासिल किया जो भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने हासिल किया इसके अलावा दो रजत और चार कांस्य पदक भी हासिल हुए है।
  • पैरालंपिक श्रेणी में भारतीय एथलीटों ने उल्लेखनीय काम किया है। इस श्रेणी में भारत ने 19 पदक हासिल किए हैं जिसमें पांच स्वर्ण, आठ रजत और छह कांस्य पदक शामिल हैं।
  • वैसे तो टोक्यो ओलंपिक में हमारे देश का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा, लेकिन और भी बेहतर हो सकता है अगर हमारे देश के संबंधित अधिकारी और युवा खेल के प्रति अपना नजरिया बदलें।
  • हमारे देश में क्रिकेट के प्रति लोगो का जुनून देखने लायक हैं पर अन्य खेलो के प्रति भी हमें ध्यान देने की जरुरत हैं। हलाकि भारत के खिलाडीयो ने कम संसाधनो के बावजूद भी अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन अगर इनपर बजट और बढ़ा दिया जाये तो इनके प्रदर्शन में और निखार आएगा,
  • जिससे आगामी प्रतियोगिताओ में इससे वे इससे भी ज्यादा पदक जीत सकेंगे। इसके अलावा भ्रष्टाचार और राजनीतिक हस्तक्षेप भी इस दिशा में प्रमुख कारण हैं इसलिए अब तक हमारे पास केवल 35 पदक ही हैं।

Conclusion :

वर्तमान समय में, सरकार खेलो इंडिया प्रोग्राम, फिट इंडिया और कम एंड प्ले स्कीम आदि जैसी विभिन्न योजनाओ के माध्यम से इस क्षेत्र में सराहनीय प्रयास कर रही है। लेकिन भारत की वर्तमान स्थिति को देखते हुए ये पर्याप्त नहीं है। सबसे पहले हमें खेल के प्रति अपना नजरिया बदलना होगा और इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए सही उम्र में सही प्रतिभा की पहचान करनी होगी। लोगों को खेल के महत्व के प्रति जागरूक करने के लिए सरकार को और अधिक योजनाओं और कार्यक्रमों को लागू करना चाहिए। इस सम्बन्ध में यह कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा कि “विश्वास ही सफलता की कुंजी है।” अगर हमे विश्वास हैं, तो हम कुछ भी हासिल कर सकते हैं !

फिट इंडिया मूवमेंट पर निबंध

Introduction :

भारत के लोगों के में फिटनेस और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए, प्रसिद्ध हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद की जयंती और राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 29 अगस्त, 2019 को फिट इंडिया मूवमेंट का शुभारंभ किया। फिट इंडिया मूवमेंट का उद्देश्य भारतीयों को स्वस्थ और फिट जीवन शैली के लिए फिटनेस गतिविधियों और खेल को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने के लिए प्रोत्साहित करना है। प्रधानमंत्री ने फिट इंडिया पर अपने भाषण के दौरान कहा कि फिटनेस केवल एक शब्द नहीं है बल्कि स्वस्थ जीवन जीने का एक तरीका है।

हमारा राष्ट्र केवल तभी फिट होगा जब इसके प्रत्येक नागरिक फिट होगे। उन्होंने कहा, “मैं आपको फिट देखना चाहता हूं और आपको फिटनेस के प्रति जागरूक करना चाहता हूं और हम एक साथ फिट इंडिया के लक्ष्य को पूरा करेंगे ।” इस आंदोलन का उद्देश्य लोगों को स्वस्थ भविष्य के लिए अधिक सक्रिय जीवन शैली के लिए प्रोत्साहित करना है। लोगों को नियमित रूप से व्यायाम करने, मनोरंजक खेल खेलने और फिट रहने के लिए योग करने के लिए कहा गया।

  • बदलते समय के साथ-साथ भारत के लोगों के जीवन स्तर पर भी बड़ा बदलाव आया है।लोगों का रहन-सहन, खान-पान व जीवन जीने के तौर तरीके पहले जैसे नहीं रहे।
  • असमय भोजन,जंक फ़ूड,शाररिक व्यायाम न करना या अन्य वजहों से कई बीमारियें हो रही हैं।जिसने बड़े,बुजुर्गों व युवाओं को ही नहीं,यहां तक कि छोटे-छोटे बच्चों को भी अपनी की चपेट में ले लिया हैं।
  • आजकल छोटे-छोटे बच्चों को भी डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर,दिल की बीमारी व मोटापे आदि की शिकायत हो रही है।लेकिन इनमें से कई बीमारियों को हम अपने जीवन में छोटे-छोटे बदलाव कर दूर कर सकते हैं।

वैश्विक स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार

  • विकसित देशों में गैर-संक्रामक बीमारियां औसतन 55 वर्ष की उम्र में लोगों में देखी जा रही हैं।जबकि भारत में यह अधिकतर 45 वर्ष की उम्र में ही नागरिकों को अपनी चपेट में ले रही हैं।
  • भारत में दिल के रोगियों की संख्या लगभग 5.45 करोड़ हैं।जबकि 13.5 करोड़ लोग मोटापे का शिकार है।
  • भारत में हर 10 में से एक व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है।जबकि हर पांचवें व्यक्ति को हाइपरटेंशन की समस्या है।इस वक्त देश में 24.5% पुरुष तथा 20% महिलाएं हाइपरटेंशन का शिकार हैं।और भारत में लगभग 1.63 करोड़  मौतों हाइपरटेंशन की वजह से होती है।
  • भारत में पिछले दो दशकों में दो तिहाई गैर-संक्रामक रोग के मरीज बढ़े हैं।1990 में देश में कुल मौतों से 37.09% गैर संक्रामक रोगों से हो रही थी।लेकिन आज यह 62% तक पहुंच गई है।
  • भारत में कुल आबादी का लगभग 10% आबादी मानसिक रोगी है।यानि किसी ने किसी मानसिक परेशानी की गिरिफ्त में है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने फिट इंडिया अभियान (Fit India Movement) को शुरू करते हुए लोगों को स्वस्थ व फिट रहने के कुछ मन्त्र दिये, जैसे

  • बॉडी फिट है तो माइंड हिट।
  • फिटनेस एक शब्द नहीं, बल्कि स्वस्थ और समृद्ध जीवन की एक जरूरी शर्त है।
  • इसमें जीरो इन्वेस्टमेंट(Investment) है।लेकिन Return असीमित है।
  • जो लोग सफल है उनका एक ही मंत्र है फिटनेस पर उनका फोकस।
  • सफलता और फिटनेस का रिश्ता भी एक दूसरे से जुड़ा है।खेल,फिल्म, हर क्षेत्र के हीरो फिट रहते हैं।
  • किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए मानसिक और शारीरिक फिटनेस का होना जरूरी है
  • शरीर के लिए लिफ्ट या एस्केलेटर्स के बजाय बल्कि सीढ़ी का उपयोग करना सही होता है।लेकिन यह तभी हो पाएगा जब आप फिट हैं।
  • किसी भी क्षेत्र के व्यक्ति को मेंटल और फिजिकल तौर पर फिट होना जरूरी है।चाहे बोर्डरूम हो या बॉलीवुड।जो फिट है वह आसमान छूता है।
  • आज Lifestyle Diseases, Lifestyle Disorder की वजह से हैं।लेकिन Lifestyle Disorder को हम Lifestyle में बदलाव करके ठीक कर सकते हैं।
  • कुछ दशक पहले तक एक सामान्य व्यक्ति 8-10 किलोमीटर तक पैदल चल ही लेता था।कुछ ना कुछ फिटनेस के लिए करता ही था।लेकिन आज नई टेक्नोलॉजी की वजह से नए साधन बाजार में आए और व्यक्ति का पैदल चलना काफी कम हो गया।
  • भारत सरकार Fit India Movement को सफल बनाने के लिए कई विभागों के साथ मिलकर काम करेंगी।इनमें खेल मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, पंचायती राज मंत्रालय, ग्रामीण विकास मंत्रालय आदि प्रमुख हैं। 
  • फिट इंडिया अभियान का मुख्य मकसद स्वास्थ्य के प्रति देश के लोगों को जागरूक करना है।इसीलिए इस अभियान को भी सरकार स्वच्छता अभियान की ही तरह आगे बढ़ाएगी। 

Conclusion :

अधिकांश रोगों का मूल कारण जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां हैं और ऐसी कई बीमारियां हैं जिन्हें हमारी जीवनशैली में छोटे-छोटे बदलाव करके दूर किया जा सकता है। अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, चीन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों ने पहले ही अपने अभियानों के साथ स्वस्थ और फिट राष्ट्र के लिए मार्ग प्रशस्त करने का लक्ष्य रखा है। फिट इंडिया मूवमेंट को देश के हर कोने तक पहुंचना चाहिए। हमें इस आंदोलन की जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए और फिट इंडिया को सफल बनाने का प्रयास करना चाहिए।

समाज के प्रति युवाओं की भूमिका पर निबंध

Introduction :

युवाओं को प्रत्येक देश की सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति माना जाता है क्योंकि उनकी बुद्धिमता और कड़ी मेहनत देश को सफलता और समृद्धि की राह पर ले जाती है। जैसा कि प्रत्येक नागरिक का राष्ट्र के प्रति कुछ उत्तरदायित्व होता है, वैसे ही युवाओं का भी है। प्रत्येक राष्ट्र के निर्माण में इनका बहुत ही महत्त्वपूर्ण योगदान होता हैं। युवा एक ऐसे व्यक्ति को कहते है जिसकी उम्र 15 से 30 वर्ष के बीच में होती है। चूंकि युवा हर समाज की रीढ़ होते हैं और इसलिए वे समाज के भविष्य का निर्धारण करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अन्य सभी आयु वर्ग जैसे कि बच्चे, किशोर, मध्यम आयु वर्ग और वरिष्ठ नागरिक युवाओं पर भरोसा करते हैं और उनसे बहुत उम्मीदें रखते हैं।

समाज में युवाओं पर अत्यधिक निर्भरता के कारण, हम सभी युवाओं की हमारे परिवारों, समुदायों और देश के भविष्य के प्रति बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारियाँ है। युवा अपने नेतृत्व, नवाचार और विकास कौशल द्वारा समाज की वर्तमान स्थिति को नवीनीकृत कर सकते हैं। युवाओं से देश की वर्तमान तकनीक, शिक्षा प्रणाली और राजनीति में बदलाव लाने की उम्मीद की जाती है। उनपर समाज में हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और नैतिक मूल्यों को बनाए रखने का भी उत्तरदायित्व है। यही कारण है कि देश के विकास के लिए युवाओं की सक्रिय भागीदारी की अत्यधिक आवश्यकता होती है।

  • हमारे राष्ट्र के लिए कई परिवर्तन, विकास, समृद्धि और सम्मान लाने में युवा सक्रिय रूप से शामिल हुए हैं। इस सबका मुख्य उद्देश्य उन्हें एक सकारात्मक दिशा में प्रशिक्षित करना है।
  • युवा पीढ़ी के उत्थान के लिए कई संगठन काम कर रहे हैं क्योंकि वे बड़े होकर राष्ट्र निर्माण में सहायक बनेंगे। गरीब और विकासशील देश अभी भी युवाओं के समुचित विकास और शिक्षण में पिछड़े हुए हैं।
  • एक बच्चे के रूप में प्रत्येक व्यक्ति, अपने जीवन में कुछ बनने का सपने देखता है, बच्चा अपनी शिक्षा पूरी करता है और कुछ हासिल करने के लिए कुछ कौशल प्राप्त करता है।
  • युवाओं में त्वरित शिक्षा, रचनात्मकता, कौशल होता है। वे हमारे समाज और राष्ट्र में परिवर्तन लाने की शक्ति रखते हैं।
  • युवा उस चिंगारी के साथ बड़ा होता है, जो कुछ भी कर सकता है।
  • समाज में कई नकारात्मक कुरीतियाँ और कार्य किए जाते हैं। युवाओं में समाज परिवर्तन और लिंग तथा सामाजिक समानता की अवधारणा को लाने की क्षमता है।
  • समाज में व्याप्त कई मुद्दों पर काम करके युवा दूसरों के लिए एक आदर्श बन सकते हैं।

युवा की भूमिका

  • युवाओं को राष्ट्र की आवाज माना जाता है। युवा राष्ट्र के लिए कच्चे माल या संसाधन की तरह होते हैं। जिस तरह के आकार में वे हैं, उनके उसी तरीके से उभरने की संभावना होती है।
  • राष्ट्र द्वारा विभिन्न अवसरों और सशक्त युवा प्रक्रियाओं को अपनाया जाना चाहिए, जो युवाओं को विभिन्न धाराओं और क्षेत्रों में करियर बनाने में सक्षम बनाएगा।
  • युवा लक्ष्यहीन, भ्रमित और दिशाहीन होते हैं और इसलिए वे मार्गदर्शन और समर्थन के अधीन होते हैं, ताकि वे सफल होने के लिए अपना सही मार्ग प्रशस्त कर सकें।
  • युवा हमेशा अपने जीवन में कई असफलताओं का सामना करते हैं और हर बार ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि एक पूर्ण अंत है, लेकिन वो फिर से कुछ नए लक्ष्य के साथ खोज करने के लिए एक नए दृष्टिकोण के साथ उठता है।
  • एक युवा मन प्रतिभा और रचनात्मकता से भरा हुआ है। यदि वे किसी मुद्दे पर अपनी आवाज उठाते हैं, तो परिवर्तन लाने में सफल होते हैं।

भारत में युवाओं की प्रमुख समस्याएं

  • कई युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान नहीं की जाती है; यहां तक ​​कि कई लोग गरीबी और बेरोजगारी तथा अनपढ़ अभिभावकों के वजह से स्कूलों नहीं जा पाते हैं। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को स्कूल जाने और उच्च शिक्षा हासिल करने का मौका मिले।
  • बालिका शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि देश में कई ऐसे हिस्से हैं जहां लड़कियां स्कूल जाने और पढ़ाई से वंचित है। लेकिन युवा, लड़के और लड़कियों दोनों का गठन करते हैं। जब समाज का एक वर्ग उपेक्षित हो, तो समग्र विकास कैसे हो सकता है?
  • अधिकांश युवाओं को गलत दिशा में खींच लिया गया है; उन्हें अपने जीवन और करियर को नष्ट करने से रोका जाना चाहिए।
  • कई युवाओं में कौशल की कमी देखी गयी है, और इसलिए सरकार को युवाओं के लिए कुछ कौशल और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को लागू करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए ताकि वे आगे एक या उससे अधिक अवसरों से लाभान्वित हो सकें।
  • भारत में अधिकांश लोग गांवों में रहते हैं, इसलिए शिक्षा और अवसरों की सभी सुविधाओं तक उनकी उचित पहुंच नहीं है।
  • कुछ युवाओं द्वारा वित्तीय संकट और सामाजिक असमानता की समस्या होती है।
  • ऐसे कई बच्चे हैं जो प्रतिभा के साथ पैदा हुए हैं, लेकिन अपर्याप्त संसाधनों के चलते, वे अपनी प्रतिभा के साथ आगे नहीं बढ़ सके।
  • उनमें से कई को पारिवारिक आवश्यकताओं के कारण पैसा कमाने के लिए अपनी प्रतिभा से हटकर अन्य काम करना पड़ता है, लेकिन उन्हें उस काम से प्यार नहीं है जो वे कर रहे हैं।
  • बेरोजगारी की समस्या युवाओं की सबसे बड़ी समस्या है।
  • जन्मजात प्रतिभा वाले कुछ बच्चे होते हैं, लेकिन संसाधन की कमी या उचित प्रशिक्षण नहीं होने के कारण, वे अपनी आशा और प्रतिभा भी खो देते हैं।
  • इस प्रकार, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को उचित शिक्षा की सुविधा प्रदान की जाए। प्रशिक्षण और कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किए जाने चाहिए। युवाओं को कई अवसर प्रदान किया जाना चाहिए। उन्हें निर्णय लेने की प्रक्रियाओं और राजनीतिक मामलों में समान रूप से भाग लेना चाहिए।
  • कुशल समूहों को काम प्रदान करने के लिए कई रोजगार योजनाएं चलानी चाहिए।

Conclusion :

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम किस क्षेत्र में प्रगति करना चाहते हैं क्योंकि हर जगह युवाओं की आवश्यकता है। हमारे युवाओं को अपनी आंतरिक शक्तियों और समाज में उनकी भूमिका के बारे में पता होना चाहिए। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हर किसी को खुद को योग्य साबित करने के लिए समान मौका मिल सके। युवाओं के पास एक अलग दृष्टिकोण है जो पुरानी पीढ़ियों के पास नहीं था जिसके द्वारा वे हमारे देश में विकाश और समृद्धि ला सकते है।

आत्मनिर्भर भारत पर निबंध

Introduction :

आपदा को अवसर में बदलने के लिए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की गयी। पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज देने की भी घोषणा की है जो कि भारत की जीडीपी का 10% है।  इस पैकेज का उद्देश्य अर्थव्यवस्था में तरलता लाकर आत्मनिर्भर भारत मिशन के उद्देश्यों को पूरा करना है। इस योजना का उद्देश्य 130 करोड़ भारतवासियों को आत्मनिर्भर बनाना है ताकि देश का हर नागरिक संकट की इस घड़ी में कदम से कदम मिलाकर चल सके और कोविड-19 की महामारी को हराने में अपना योगदान दे सके।

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश के लॉक डाउन की स्थिति चल रही है जिसका सबसे ज्यादा बुरा असर देश के सुक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों , श्रमिकों ,मजदूरों और किसानो पर पड़ रहा है इन सभी नागरिको को लाभ पहुंचाने के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री जी ने देश के सुक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्योगों, श्रमिकों ,मजदूरों और किसानो को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आर्थिक पैकेज का ऐलान कर दिया।

  • पूरे विश्व मे केवल भारत ही ऐसा देश है जहां सबसे अधिक प्राकृतिक संसाधन पाये जाते है, जो कि बिना किसी देश की मदद से जीवन से लेकर राष्ट्र निर्माण की वस्तुएं बना सकता है और आत्मनिर्भर के सपने को पूरा कर सकता है।
  • हालाकि भारत को आत्मनिर्भर बनाने का सपना नया है। यह सपना महात्मा गांधी ने आजादी के बाद ही स्वदेशी वस्तुओं के इस्तेमाल और आत्मनिर्भरता पर जोर दिया था, पर गरीबी और भुखमरी के कारण उनका सपना साकार न हो सका।
  • करोना महामारी के कारण पिछले कई महीनों से सारा विश्व बन्द पड़ा है, जिसके कारण छोटे लोगों से लेकर पूंजीपतियों तक को भारी नुकसान और परेशानीयों का सामना करना पड रहा है।
  • खासतौर से हमारे छोटे और मध्यम वर्ग के परिवारों को कमाने खाने की समस्या काफी बढ़ गयी है। कोरोना महामारी के कारण किसी भी देश से सामानों का आदान-प्रदान बन्द है।
  • इसलिए मई के महीने मे तालाबन्दी के दौरान हमारे प्रधानमंत्री ने देश को आत्मनिर्भर बनने का आह्वाहन किया है। उन्होने “लोकल फॉर वोकल” का भी नारा दिया। जिसका अर्थ है कि लोकल मे बनी वस्तुओं का उपयोग और उनका प्रचार करना और एक पहचान के रुप मे आगे बढ़ना।
  • महामारी के दौरान ही चीन ने भारत के डोकलाम सीमा क्षेत्र मे कब्जा करने की कोशिश की, जिसमे भारत के लगभग 20 जवान शहीद हो गए। सीमा के इस विवाद मे भारत के सैनिकों की क्षति के कारण देश के हर कोने से चीनी सामान को बैन करने की माँग के साथ ही, चीनी सामानो को बन्द कर दिया गया और प्रधानमंत्री ने सारे देश को आत्मनिर्भर बनने का मंत्र दिया। उन्होने कहा कि आत्मनिर्भर बनकर घरेलु चीजों का इस्तेमाल करें ताकि हमारा राष्ट्र मजबूती के साथ खड़ा हो सके।
  • पिछले कुछ महीनों से विश्व कोरोना वायरस महामारी के कारण बन्द पड़ा है। इसके कारण सारे विश्व मे वित्तीय संकट के बादल छाएं है।
  • इसी कड़ी मे भारत ने खुद को आत्मनिर्भर बनाने और राष्ट्र को आगे ले जाने फैसला किया है। विश्व बन्दी के कारण सारे विश्व के उत्पादों पर भारी असर हुआ है, इसलिए भारत ने स्वयं को आत्मनिर्भर बनाकर देश की तरक्की पर अपना कदम आगे बढ़ाया है।

आत्मनिर्भर भारत फायदे

  • आत्मनिर्भर भारत से हमारे देश मे उद्योगों की संख्या मे वृद्धि होगी।
  • हमारे देश को और देशो से सहायता कम लेनी होगी।
  • हमारे देश मे रोजगार के अधिक अवसर पैदा होगें।
  • इससे देश मे बेरोजगारी के साथ-साथ गरीबी से मुक्ति मे सहायता मिलेगी।
  • भारत की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत हो सकेगी।
  • आत्मनिर्भर बनने के साथ भारत चीजों का भंड़ारण काफी अधिक कर सकता है।
  • देश आगे चलकर अन्य देशों से आयात कम और निर्यात ज्यादा कर सकेगा।
  • आपदा की स्थिति मे भारत बाहरी देशों से मदद की मांग कम होगी।
  • देश मे स्वदेशी वस्तुओं का निर्माण कर देश की तरक्की को शीर्ष तक ले जाने मे सहायता मिलेगी।

आत्मनिर्भर भारत की घोषणा के तहत भारत के प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भरता के लिए पांच महत्वपूर्ण चीजे बाताई है।

  1. इंटेंट यानी इरादा करना।
  2. इन्क्लूजन या समावेश करना।
  3. निवेश या इन्वेस्टमेन्ट करना।
  4. इन्फ्रास्ट्रक्चर यानी सार्वजनिक ढ़ाचे को मजबूत करना।
  5. नयी चीजों का खोज करना।
  • इस महामारी के दौरान कुछ हद तक हमने आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार किया है और बिना अन्य देश की मदद से इस महामारी से लड़ने के लिए हमने देश मे ही चीजों का निर्माण करना शुरु कर दिया है।
  • जहां हमने पीपीई किट, वेन्टिलेटर, सेनेटाइजर और के.एन-95 मास्क का निर्माण अपने देश मे ही शुरु कर दिया है। पहले यही चीजे हमे विदेशों से मंगानी पड़ती थी। इन सभी चीजों का निर्माण भारत मे करना ही आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ने का पहला कदम है। इनके उत्पादन से हमे अन्य देशों की मदद भी नही लेनी पड़ रही है, और भारत आत्मनिर्भरता की ओर आगे कदम बढ़ा रहा है।
  • आत्मनिर्भरता की ओर भारत ने पीपीई किट, वैन्टिलेटर इत्यादि चीजों को बनाकर आत्मनिर्भरता की ओर  अपना पहला कदम बढ़ा दिया है और हमे भी इसमे अपना योगदान देकर आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करना होगा।
  • हमे ज्यादा से ज्यादा स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करने की आवश्यकता है। जिससे कि हम अपने देश को आत्मनिर्भर और अपने राष्ट्र को आगे बढ़ाने मे अपना योगदान कर सके।

Conclusion :

आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों की आय को दोगुना करने और कोविड-19 की आपदा के मद्देनजर किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए एक बेहतर कदम है। यह मिशन हमारे देश को आयात निर्भरता में कमी करने एवं वैश्विक बाजारों में स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के महत्व पर भी जोर देगा। इस अभियान के अंतर्गत देश के मजदूर श्रमिक किसान लघु उद्योग कुटीर उद्योग मध्यमवर्गीय उद्योग सभी पर विशेष ध्यान दिया जाएगा जो कि भारत के गरीब नागरिको की आजीविका का साधन है।

भारत में बेरोजगारी की समस्या

Introduction :

बेरोजगारी भारत में एक अहम मुद्दा बनता जा रहा है  जब कोई व्यक्ति काम करने योग्य हो और काम करने की इच्छा भी रखे किन्तु उसे काम का अवसर प्राप्त न हो तो वह बेरोजगार कहलाता हैं। आज हमारे देश मे लाखो लोग बेरोजगार है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नौकरियाँ सीमित हैं और नौकरी पाने वालो की संख्या असीमित। भारत में बेरोजगारी की स्थिति एक गंभीर सामाजिक समस्या है। शिक्षा का अभाव और रोजगार के अवसरों की कमी ऐसे कारक हैं जो बेरोज़गारी का प्रमुख कारण हैं। बेरोज़गारी न केवल देश के आर्थिक विकास में बाधा डालती है बल्कि व्यक्तिगत और पूरे समाज पर भी एक साथ कई तरह के नकारात्मक प्रभाव डालती है।

2011 की जनगणना के अनुसार युवा आबादी का 20 प्रतिशत जिसमें 4.7 करोड़ पुरूष और 2.6 करोड़ महिलाएं पूर्ण रूप से बेरोजागार हैं। यह युवा 25 से 29 वर्ष की आयु समूह से हैं। यही कारण है कि जब कोई सरकारी नौकरी निकलती है तो आवेदको की संख्या लाखों मे होती हैं। तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या भारत मे बेरोजगारी का प्रमुख कारण हैं। वर्तमान शिक्षा प्रणाली भी दोषपूर्ण है। बेरोजगारी को दूर करने में जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण आवश्यक है। जिस अनुपात में रोजगार से साधन बढ़ते है, उससे कई गुना जनसंख्या में वृद्धि हो  जाती है।

  • सबसे खराब स्थिति तो वह है जब पढ़े-लिखे युवकों को भी रोजगार नहीं मिलता शिक्षित युवकों की यह बेरोजगारी देश के लिए सर्वाधिक चिन्तनीय है, क्योंकि ऐसे युवक जिस तनाव और अवसाद से गुजरते हैं, उससे उनकी आशाएं टूट जाती हैं और वे गुमराह होकर उग्रवादी, आतंकवादी तक बन जाते हैं।
  • पंजाब, कश्मीर और असम के आतंकवादी संगठनों में कार्यरत उग्रवादियों में अधिकांश इसी प्रकार के शिक्षित बेरोजगार युवक हैं। बेरोजगारी देश की आर्थिक स्थिति को डाँवाडोल कर देती है। इससे राष्ट्रीय आय में कमी आती है, उत्पादन घट जाता है और देश में राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हो जाती है।
  • बेरोजगारी से क्रय शक्ति घट जाती है, जीवन स्तर गिर जाता है जिसका दुष्प्रभाव परिवार एवं बच्चों पर पड़ता है। बेरोजगारी मानसिक तनाव को जन्म देती है जिससे समाज एवं सरकार के प्रति कटुता के भाव जाग्रत होते हैं परिणामतः व्यक्ति का सोच नकारात्मक हो जाता है और वह समाज विरोधी एवं देश विरोधी कार्य करने में भी संकोच नहीं करता।

बेरोजगारी के कारण

  • भारत में बढ़ती हुई इस बेरोजगारी के प्रमुख कारणों में से एक है— तेजी से बढ़ती जनसंख्या। पिछले पाँच दशकों में देश की जनसंख्या लगभग चार गुनी हो गई है। सन् 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की आबादी 125 करोड को पार कर गई है।
  • यद्यपि सरकार ने विभिन्न योजनाओं के द्वारा रोजगार को अनेक नए अवसर सुलभ कराए हैं, तथापि जिस अनुपात में जनसंख्या वृद्धि हुई है उस अनुपात में रोजगार के अवसर सुलभ करा पाना सम्भव नहीं हो सका, परिणामतः बेरोजगारों की फौज बढ़ती गई।
  • प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में बेरोजगारों की वृद्धि हो रही है। बढ़ती हुई बेरोजगारी से प्रत्येक बुद्धि-सम्पन्न व्यक्ति चिन्तित है। हमारी शिक्षा पद्धति भी दोषपूर्ण है जो रोजगारपरक नहीं है।
  • कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से लाखों स्नातक प्रतिवर्ष निकलते हैं। किन्तु उनमें से कुछ ही रोजगार पाने का सौभाग्य प्राप्त कर पाते हैं। उनकी डिग्री रोजी-रोटी को जुटा पाने में उनकी सहायता नहीं कर पाती।
  • वैज्ञानिक एवं तकनीकी प्रगति ने उद्योगों का मशीनीकरण कर दिया है परिणामतः आदमी के स्थान पर मशीन से काम लिया जाने लगा। मशीन आदमी की तुलना में अधिक कुशलता से एवं अधिक गुणवत्ता से कम कीमत पर कार्य सम्पन्न कर देती है, अतः स्वाभाविक रूप से आदमी को हटाकर मशीन से काम लिया जाने लगा।
  • फिर एक मशीन सैकड़ों श्रमिकों का काम अकेले ही कर देती है। परिणामतः औद्योगिक क्षेत्रों में बेकारी पनप गई। लघु उद्योग एवं कुटीर उद्योगों की खस्ता हालत ने भी बेरोजगारी में वृद्धि की है।

बेरोजगारी दूर करने के उपाय

भारत एक विकासशील राष्ट्र है, किन्तु आर्थिक संकट से घिरा हुआ है। उसके पास इतनी क्षमता भी नहीं है कि वह अपने संसाधनों से प्रत्येक व्यक्ति को रोजगार सुलभ करा सके। ऐसी स्थिति में न तो यह कल्पना की जा सकती है है कि वह प्रत्येक व्यक्ति को बेरोजगारी भत्ता दे सकता है और न ही यह सम्भव है, किन्तु सरकार का यह कर्तव्य अवश्य है कि वह बेरोजगारी को दूर करने के लिए ठोस कदम उठाए। यद्यपि बेरोजगारी की समस्या भारत में सुरसा के मुख की तरह बढ़ती जा रही है फिर भी हर समस्या का निदान तो होता ही है।

  • भारत में वर्तमान में जनसंख्या वृद्धि 2.1% वार्षिक है जिसे रोकना अत्यावश्यक है। अब ‘हम दो हमारे दो’ का युग भी बीत चुका, अब तो ‘एक दम्पति एक सन्तान’ का नारा ही महत्वपूर्ण होगा, इसके लिए यदि सरकार को कड़ाई भी करनी पड़े तो वोट बैंक की चिन्ता किए बिना उसे इस ओर सख्ती करनी होगी। यह कठोरता भले ही किसी भी प्रकार की हो।
  • देश में आधारभूत उद्योगों के पर्याप्त विनियोग के पश्चात् उपभोग वस्तुओं से सम्बन्धित उद्योगों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। इन उद्योगों में उत्पादन के साथ ही वितरण परिवहन, आदि में रोजगार उपलब्ध होंगे।
  • शिक्षा को रोजगारोन्मुख बनाना आवश्यक है। हमारी शिक्षा पद्धति भी दोषपूर्ण है जो रोजगारपरक नहीं है। कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से लाखों स्नातक प्रतिवर्ष निकलते हैं। किन्तु उनमें से कुछ ही रोजगार पाने का सौभाग्य प्राप्त कर पाते हैं। उनकी डिग्री रोजी-रोटी को जुटा पाने में उनकी सहायता नहीं कर पाती।
  • धन्धों का विकास गांवों में कृषि सहायक उद्योग-धन्धों का विकास किया जाना आवश्यक है। इससे क्रषक खाली समय में अनेक कार्य कर सकेंगे। बागवानी, दुग्ध उत्पादन, मत्स्य अथवा मुर्गी पालन, पशुपालन, दुग्ध व्यवसाय, आदि ऐसे ही धन्धे है।
  • कुटीरोद्योग एवं लघु उद्योगों के विकास से ग्रामीण एवं शहरी दोनों ही क्षेत्रों में रोजगार के अवसर सुलभ कराए जा सकते हैं।
  • आज स्थिति यह है कि एक ओर विशिष्ट प्रकार के दक्ष श्रमिक नहीं मिल रहे हैं तो दूसरे प्रकार के दक्ष श्रमिकों को कार्य नहीं मिल रहा है।

Conclusion :

बेरोजगारी की दूर करने के सरकार द्वारा अनेक प्रयास किए गए है जिनमे राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम, ग्रामीण भूमिहीन रोजगार गारंटी कार्यक्रम, जवाहर रोजगार योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना आदि कार्यक्रम शामिल है। लेकिन अभी भी कुछ सख्त कदम उठाने बाकि है। बेरोजगारी को दूर करना देश का सबसे प्रमुख उद्देश्य होना चाहिए। नागरिकों को अधिक नौकरियों के निर्माण के साथ ही रोजगार के लिए सही कौशल प्राप्त करने के लिए प्रयास करना चाहिए।

read more
Essays

Essay on Importance Of Games & Sports in Hindi

वर्तमान समय में खेल और खेलों का महत्व पर हिन्दी में निबंध | Essay on Importance Of Games & Sports in Hindi

Introduction :

“सफलता वहीं है जहां तैयारी और अवसर मिलते हैं।” यह कथन खेल के महत्व को दर्शाता है क्योंकि तैयारी को अवसर मिलने पर सफलता मिल जाती है। खेल हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे हमें स्वस्थ रखने के लिए एक अच्छा व्यायाम साबित होते हैं। सुखी और सफल जीवन के लिए शारीरिक और मानसिक फिटनेस बेहद जरूरी है। शारीरिक रूप से कमजोर होने पर व्यक्ति कभी भी मानसिक रूप से मजबूत नहीं हो सकता। इसलिए सभी को अपनी सेहत पर पूरा ध्यान देना चाहिए। जब भी हम अपनी दिनचर्या से ऊब जाते हैं, तो खेल हमें खुशी और आनंद की अनुभूति कराते हैं।

  • हॉकी, फुटबॉल और क्रिकेट जैसे खेलों से हमारे भीतर सहयोग और टीम भावना का विकास होता है। टेबल टेनिस और बैडमिंटन जैसे खेलों में बहुत अधिक ध्यान और हाथ एवं आँख के समन्वय की आवश्यकता होती है जो शारीरिक व्यायाम के अलावा एक तरह का मानसिक व्यायाम भी है। टोक्यो ओलंपिक में हम पहले ही अपने देश का शानदार प्रदर्शन देख चुके हैं।
  • इसमें हमने सात पदक जीते और पदक तालिका में 48वां स्थान हासिल किया। नीरज चोपड़ा की जबरदस्त परफॉर्मेंस ने सभी को हैरान कर दिया है। पैरालंपिक श्रेणी में भारत ने 19 पदक हासिल किए हैं जिसमें पांच स्वर्ण, आठ रजत और छह कांस्य पदक शामिल हैं।
  • हमारी सरकार ने वर्तमान समय में खेल और फिटनेस के महत्व को दर्शाते हुए ‘खेलो इंडिया यूथ गेम्स’ और ‘फिट इंडिया मूवमेंट’ जैसे खेलों को बढ़ावा देने के लिए कई पहल शुरू की हैं। इसके अलावा खेल संस्कृति और अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए राज्यो में आपसी टूर्नामेंट आयोजित किए जाते हैं।
  • स्कूलों में खेल के रूप में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और फिटनेस उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि समग्र विकास के लिए शिक्षा। नीरज चोपड़ा, विराट कोहली और साइना नेहवाल जैसे लोग अधिक से अधिक लोगों को खेल खेलने और शौक के अलावा इसे एक पेशे के रूप में देखने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।
  • ओडिशा में पहला खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम खेला गया। हालांकि, भारत जो चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है, उसे इस क्षेत्र में और अधिक एक्सपोजर की जरूरत है।

 Conclusion :

लड़कियों को भी और समर्थन की जरूरत है ताकि वे भी पीटी उषा और मैरी कॉम की तरह हमारे देश को गौरवान्वित कर सकें। हमारी नई शिक्षा नीति में भी खेलों के लिए अवसर प्रदान किये गए है और इसे स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। केंद्र और राज्य सरकारों को एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए और इस क्षेत्र में बेहतर अवसर देने का प्रयास करना चाहिए ताकि लोग खेल को करियर विकल्प के रूप में चुन सकें और हमारे देश को गौरवान्वित कर सकें।

Other Related Essays..

समाज के प्रति युवाओं की भूमिका पर निबंध

Introduction :

युवाओं को प्रत्येक देश की सबसे महत्वपूर्ण संपत्ति माना जाता है क्योंकि उनकी बुद्धिमता और कड़ी मेहनत देश को सफलता और समृद्धि की राह पर ले जाती है। जैसा कि प्रत्येक नागरिक का राष्ट्र के प्रति कुछ उत्तरदायित्व होता है, वैसे ही युवाओं का भी है। प्रत्येक राष्ट्र के निर्माण में इनका बहुत ही महत्त्वपूर्ण योगदान होता हैं। युवा एक ऐसे व्यक्ति को कहते है जिसकी उम्र 15 से 30 वर्ष के बीच में होती है। चूंकि युवा हर समाज की रीढ़ होते हैं और इसलिए वे समाज के भविष्य का निर्धारण करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अन्य सभी आयु वर्ग जैसे कि बच्चे, किशोर, मध्यम आयु वर्ग और वरिष्ठ नागरिक युवाओं पर भरोसा करते हैं और उनसे बहुत उम्मीदें रखते हैं।

समाज में युवाओं पर अत्यधिक निर्भरता के कारण, हम सभी युवाओं की हमारे परिवारों, समुदायों और देश के भविष्य के प्रति बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारियाँ है। युवा अपने नेतृत्व, नवाचार और विकास कौशल द्वारा समाज की वर्तमान स्थिति को नवीनीकृत कर सकते हैं। युवाओं से देश की वर्तमान तकनीक, शिक्षा प्रणाली और राजनीति में बदलाव लाने की उम्मीद की जाती है।

उनपर समाज में हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और नैतिक मूल्यों को बनाए रखने का भी उत्तरदायित्व है। यही कारण है कि देश के विकास के लिए युवाओं की सक्रिय भागीदारी की अत्यधिक आवश्यकता होती है।

  • हमारे राष्ट्र के लिए कई परिवर्तन, विकास, समृद्धि और सम्मान लाने में युवा सक्रिय रूप से शामिल हुए हैं। इस सबका मुख्य उद्देश्य उन्हें एक सकारात्मक दिशा में प्रशिक्षित करना है।
  • युवा पीढ़ी के उत्थान के लिए कई संगठन काम कर रहे हैं क्योंकि वे बड़े होकर राष्ट्र निर्माण में सहायक बनेंगे। गरीब और विकासशील देश अभी भी युवाओं के समुचित विकास और शिक्षण में पिछड़े हुए हैं।
  • एक बच्चे के रूप में प्रत्येक व्यक्ति, अपने जीवन में कुछ बनने का सपने देखता है, बच्चा अपनी शिक्षा पूरी करता है और कुछ हासिल करने के लिए कुछ कौशल प्राप्त करता है।
  • युवाओं में त्वरित शिक्षा, रचनात्मकता, कौशल होता है। वे हमारे समाज और राष्ट्र में परिवर्तन लाने की शक्ति रखते हैं।
  • युवा उस चिंगारी के साथ बड़ा होता है, जो कुछ भी कर सकता है।
  • समाज में कई नकारात्मक कुरीतियाँ और कार्य किए जाते हैं। युवाओं में समाज परिवर्तन और लिंग तथा सामाजिक समानता की अवधारणा को लाने की क्षमता है।
  • समाज में व्याप्त कई मुद्दों पर काम करके युवा दूसरों के लिए एक आदर्श बन सकते हैं।

युवा की भूमिका

  • युवाओं को राष्ट्र की आवाज माना जाता है। युवा राष्ट्र के लिए कच्चे माल या संसाधन की तरह होते हैं। जिस तरह के आकार में वे हैं, उनके उसी तरीके से उभरने की संभावना होती है।
  • राष्ट्र द्वारा विभिन्न अवसरों और सशक्त युवा प्रक्रियाओं को अपनाया जाना चाहिए, जो युवाओं को विभिन्न धाराओं और क्षेत्रों में करियर बनाने में सक्षम बनाएगा।
  • युवा लक्ष्यहीन, भ्रमित और दिशाहीन होते हैं और इसलिए वे मार्गदर्शन और समर्थन के अधीन होते हैं, ताकि वे सफल होने के लिए अपना सही मार्ग प्रशस्त कर सकें।
  • युवा हमेशा अपने जीवन में कई असफलताओं का सामना करते हैं और हर बार ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि एक पूर्ण अंत है, लेकिन वो फिर से कुछ नए लक्ष्य के साथ खोज करने के लिए एक नए दृष्टिकोण के साथ उठता है।
  • एक युवा मन प्रतिभा और रचनात्मकता से भरा हुआ है। यदि वे किसी मुद्दे पर अपनी आवाज उठाते हैं, तो परिवर्तन लाने में सफल होते हैं।

भारत में युवाओं की प्रमुख समस्याएं

  • कई युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान नहीं की जाती है; यहां तक ​​कि कई लोग गरीबी और बेरोजगारी तथा अनपढ़ अभिभावकों के वजह से स्कूलों नहीं जा पाते हैं। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को स्कूल जाने और उच्च शिक्षा हासिल करने का मौका मिले।
  • बालिका शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि देश में कई ऐसे हिस्से हैं जहां लड़कियां स्कूल जाने और पढ़ाई से वंचित है। लेकिन युवा, लड़के और लड़कियों दोनों का गठन करते हैं। जब समाज का एक वर्ग उपेक्षित हो, तो समग्र विकास कैसे हो सकता है?
  • अधिकांश युवाओं को गलत दिशा में खींच लिया गया है; उन्हें अपने जीवन और करियर को नष्ट करने से रोका जाना चाहिए।
  • कई युवाओं में कौशल की कमी देखी गयी है, और इसलिए सरकार को युवाओं के लिए कुछ कौशल और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को लागू करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए ताकि वे आगे एक या उससे अधिक अवसरों से लाभान्वित हो सकें।
  • भारत में अधिकांश लोग गांवों में रहते हैं, इसलिए शिक्षा और अवसरों की सभी सुविधाओं तक उनकी उचित पहुंच नहीं है।
  • कुछ युवाओं द्वारा वित्तीय संकट और सामाजिक असमानता की समस्या होती है।
  • ऐसे कई बच्चे हैं जो प्रतिभा के साथ पैदा हुए हैं, लेकिन अपर्याप्त संसाधनों के चलते, वे अपनी प्रतिभा के साथ आगे नहीं बढ़ सके।
  • उनमें से कई को पारिवारिक आवश्यकताओं के कारण पैसा कमाने के लिए अपनी प्रतिभा से हटकर अन्य काम करना पड़ता है, लेकिन उन्हें उस काम से प्यार नहीं है जो वे कर रहे हैं।
  • बेरोजगारी की समस्या युवाओं की सबसे बड़ी समस्या है।
  • जन्मजात प्रतिभा वाले कुछ बच्चे होते हैं, लेकिन संसाधन की कमी या उचित प्रशिक्षण नहीं होने के कारण, वे अपनी आशा और प्रतिभा भी खो देते हैं।
  • इस प्रकार, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रत्येक बच्चे को उचित शिक्षा की सुविधा प्रदान की जाए। प्रशिक्षण और कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किए जाने चाहिए। युवाओं को कई अवसर प्रदान किया जाना चाहिए। उन्हें निर्णय लेने की प्रक्रियाओं और राजनीतिक मामलों में समान रूप से भाग लेना चाहिए।
  • कुशल समूहों को काम प्रदान करने के लिए कई रोजगार योजनाएं चलानी चाहिए।

Conclusion :

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम किस क्षेत्र में प्रगति करना चाहते हैं क्योंकि हर जगह युवाओं की आवश्यकता है। हमारे युवाओं को अपनी आंतरिक शक्तियों और समाज में उनकी भूमिका के बारे में पता होना चाहिए। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हर किसी को खुद को योग्य साबित करने के लिए समान मौका मिल सके। युवाओं के पास एक अलग दृष्टिकोण है जो पुरानी पीढ़ियों के पास नहीं था जिसके द्वारा वे हमारे देश में विकाश और समृद्धि ला सकते है।

फिट इंडिया मूवमेंट पर निबंध

Introduction :

भारत के लोगों के में फिटनेस और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए, प्रसिद्ध हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद की जयंती और राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 29 अगस्त, 2019 को फिट इंडिया मूवमेंट का शुभारंभ किया। फिट इंडिया मूवमेंट का उद्देश्य भारतीयों को स्वस्थ और फिट जीवन शैली के लिए फिटनेस गतिविधियों और खेल को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने के लिए प्रोत्साहित करना है। प्रधानमंत्री ने फिट इंडिया पर अपने भाषण के दौरान कहा कि फिटनेस केवल एक शब्द नहीं है बल्कि स्वस्थ जीवन जीने का एक तरीका है।

हमारा राष्ट्र केवल तभी फिट होगा जब इसके प्रत्येक नागरिक फिट होगे। उन्होंने कहा, “मैं आपको फिट देखना चाहता हूं और आपको फिटनेस के प्रति जागरूक करना चाहता हूं और हम एक साथ फिट इंडिया के लक्ष्य को पूरा करेंगे ।” इस आंदोलन का उद्देश्य लोगों को स्वस्थ भविष्य के लिए अधिक सक्रिय जीवन शैली के लिए प्रोत्साहित करना है। लोगों को नियमित रूप से व्यायाम करने, मनोरंजक खेल खेलने और फिट रहने के लिए योग करने के लिए कहा गया।

  • बदलते समय के साथ-साथ भारत के लोगों के जीवन स्तर पर भी बड़ा बदलाव आया है।लोगों का रहन-सहन, खान-पान व जीवन जीने के तौर तरीके पहले जैसे नहीं रहे।
  • असमय भोजन,जंक फ़ूड,शाररिक व्यायाम न करना या अन्य वजहों से कई बीमारियें हो रही हैं।जिसने बड़े,बुजुर्गों व युवाओं को ही नहीं,यहां तक कि छोटे-छोटे बच्चों को भी अपनी की चपेट में ले लिया हैं।
  • आजकल छोटे-छोटे बच्चों को भी डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर,दिल की बीमारी व मोटापे आदि की शिकायत हो रही है।लेकिन इनमें से कई बीमारियों को हम अपने जीवन में छोटे-छोटे बदलाव कर दूर कर सकते हैं।

भारत में बढ़ती बीमारियों

वैश्विक स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार-

  • विकसित देशों में गैर-संक्रामक बीमारियां औसतन 55 वर्ष की उम्र में लोगों में देखी जा रही हैं।जबकि भारत में यह अधिकतर 45 वर्ष की उम्र में ही नागरिकों को अपनी चपेट में ले रही हैं।
  • भारत में दिल के रोगियों की संख्या लगभग 5.45 करोड़ हैं।जबकि 13.5 करोड़ लोग मोटापे का शिकार है।
  • भारत में हर 10 में से एक व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित है।जबकि हर पांचवें व्यक्ति को हाइपरटेंशन की समस्या है।इस वक्त देश में 24.5% पुरुष तथा 20% महिलाएं हाइपरटेंशन का शिकार हैं।और भारत में लगभग 1.63 करोड़  मौतों हाइपरटेंशन की वजह से होती है।
  • भारत में पिछले दो दशकों में दो तिहाई गैर-संक्रामक रोग के मरीज बढ़े हैं।1990 में देश में कुल मौतों से 37.09% गैर संक्रामक रोगों से हो रही थी।लेकिन आज यह 62% तक पहुंच गई है।
  • भारत में कुल आबादी का लगभग 10% आबादी मानसिक रोगी है।यानि किसी ने किसी मानसिक परेशानी की गिरिफ्त में है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने फिट इंडिया अभियान (Fit India Movement) को शुरू करते हुए लोगों को स्वस्थ व फिट रहने के कुछ मन्त्र दिये, जैसे

  • बॉडी फिट है तो माइंड हिट।
  • फिटनेस एक शब्द नहीं, बल्कि स्वस्थ और समृद्ध जीवन की एक जरूरी शर्त है।
  • इसमें जीरो इन्वेस्टमेंट(Investment) है।लेकिन Return असीमित है।
  • जो लोग सफल है उनका एक ही मंत्र है फिटनेस पर उनका फोकस।
  • सफलता और फिटनेस का रिश्ता भी एक दूसरे से जुड़ा है।खेल,फिल्म, हर क्षेत्र के हीरो फिट रहते हैं।
  • किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए मानसिक और शारीरिक फिटनेस का होना जरूरी है
  • शरीर के लिए लिफ्ट या एस्केलेटर्स के बजाय बल्कि सीढ़ी का उपयोग करना सही होता है।लेकिन यह तभी हो पाएगा जब आप फिट हैं।
  • किसी भी क्षेत्र के व्यक्ति को मेंटल और फिजिकल तौर पर फिट होना जरूरी है।चाहे बोर्डरूम हो या बॉलीवुड।जो फिट है वह आसमान छूता है।
  • आज Lifestyle Diseases, Lifestyle Disorder की वजह से हैं।लेकिन Lifestyle Disorder को हम Lifestyle में बदलाव करके ठीक कर सकते हैं।
  • कुछ दशक पहले तक एक सामान्य व्यक्ति 8-10 किलोमीटर तक पैदल चल ही लेता था।कुछ ना कुछ फिटनेस के लिए करता ही था।लेकिन आज नई टेक्नोलॉजी की वजह से नए साधन बाजार में आए और व्यक्ति का पैदल चलना काफी कम हो गया।
  • भारत सरकार Fit India Movement को सफल बनाने के लिए कई विभागों के साथ मिलकर काम करेंगी।इनमें खेल मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, पंचायती राज मंत्रालय, ग्रामीण विकास मंत्रालय आदि प्रमुख हैं। 

Conclusion :

फिट इंडिया अभियान का मुख्य मकसद स्वास्थ्य के प्रति देश के लोगों को जागरूक करना है।इसीलिए इस अभियान को भी सरकार स्वच्छता अभियान की ही तरह आगे बढ़ाएगी। अधिकांश रोगों का मूल कारण जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां हैं और ऐसी कई बीमारियां हैं जिन्हें हमारी जीवनशैली में छोटे-छोटे बदलाव करके दूर किया जा सकता है। अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, चीन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों ने पहले ही अपने अभियानों के साथ स्वस्थ और फिट राष्ट्र के लिए मार्ग प्रशस्त करने का लक्ष्य रखा है। फिट इंडिया मूवमेंट को देश के हर कोने तक पहुंचना चाहिए। हमें इस आंदोलन की जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए और फिट इंडिया को सफल बनाने का प्रयास करना चाहिए।

सोशल मीडिया की भूमिका पर निबंध

Introduction :

आज के दौर में सोशल मीडिया जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है, सोशल मीडिया वह जगह है जहां हमे किसी भी चीज के बारे में जानने, पढ़ने, समझने और बोलने का मौंका मिलता हैं। सोशल मीडिया का प्रभाव प्रत्येक व्यक्ति पर पड़ता है। सोशल मीडिया के बिना हमारे जीवन की कल्पना करना मुश्किल है, परन्तु इसके अत्यधिक उपयोग के वजह से हमे इसकी कीमत भी चुकानी पड़ती हैं। सोशल मीडिया समाज के सामाजिक विकास में अपना योगदान देता है और कई व्यवसायों को बढ़ाने में भी मदद करता है। हम आसानी से सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी और समाचार प्राप्त कर सकते हैं। किसी भी सामाजिक कारण के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग एक अच्छा साधन है।

सोशल मीडिया लोगों में निराशा और चिंता पैदा करने वाला एक कारक भी है। ये बच्चों में खराब मानसिक विकास का भी कारण बनता जा रहा है। सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग निद्रा को प्रभावित करता हैं। सोशल मीडिया को अच्छा या बुरा कहने के बजाय, हमें अपने लाभ के लिए इसका उपयोग करने के तरीके को खोजना चाहिए। सोशल मीडिया जागरूकता फैलाने और अपराध से लड़ने में एजेंसियों तथा सरकार की मदद कर सकता है।

सोशल मीडिया का महत्व –

  • व्याख्यानो का सीधा प्रसारण:आजकल कई प्रोफेसर अपने व्याख्यान के लिए स्काइप, ट्विटर और अन्य स्थानों पर लाइव वीडियो चैट आयोजित कर रहे हैं। यह छात्रों के साथ-साथ शिक्षक को भी घर बैठे किसी चीज को सीखने और साझा करने में सहायता करता है। सोशल मीडिया की मदद से शिक्षा को आसान और सुविधाजनक बनाया जा सकता है।
  • सहयोग का बढ़ता आदान-प्रदान:चूंकि हम दिन के किसी भी समय सोशल मीडिया का उपयोग कर सकते है और कक्षा के बाद शिक्षक से प्रश्नों का समर्थन और समाधान ले सकते हैं। यह अभ्यास शिक्षक को अपने छात्रों के विकास के और अधिक बारीकी को समझने में भी मदद करता है।
  • शिक्षा कार्यो में आसानी:कई शिक्षक महसूस करते हैं कि सोशल मीडिया का उपयोग उनके कामों को आसान बनाता है। यह शिक्षक को अपनी क्षमताओं कौशल और ज्ञान का विस्तार और पता लगाने में भी सहायता करता है।
  • अधिक अनुशासान:सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर आयोजित कक्षाएं अधिक अनुशासित और संरचित होती हैं क्योंकि वे जानते हैं कि हर कोई इसे देख रहा होता है।
  • शिक्षा में मददगार:सोशल मीडिया छात्रों को ऑनलाइन उपलब्ध कराई गयी कई शिक्षण सामाग्री के माध्यम से उनके ज्ञान को बढ़ाने में मदद करता है। सोशल मीडिया के माध्यम से छात्र वीडियो और चित्र देख सकते हैं, समीक्षाओं की जांच कर सकते हैं और लाइव प्रक्रियाओं को देखते हुए तत्काल अपने संदेह को दूर कर सकते हैं।
  • न केवल छात्र, बल्कि शिक्षक भी इन उपकरणों और शिक्षण सहायता का उपयोग करके अपने व्याख्यान को और अधिक रोचक बना सकते हैं।
  • शिक्षण ब्लॉग और लेखन:छात्र प्रसिद्ध शिक्षकों, प्रोफेसरों और विचारकों द्वारा ब्लॉग, आर्टिकल और लेखन पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ा सकते हैं। इस तरह अच्छी सामग्री व्यापक दर्शकों तक पहुंच सकती है।

सोशल मीडिया के फायदे

  • सोशल मीडिया वास्तव में कई फायदे पहुंचाता है, हम सोशल मीडिया का उपयोग समाज के विकास के लिए भी कर सकते है। हमने पिछले कुछ वर्षों में सूचना और सामग्री का विस्फोट देखा है और हम सोशल मीडिया के ताकत से इंकार नहीं कर सकते है।
  • समाज में महत्वपूर्ण कारणों तथा जागरूकता पैदा करने के लिए सोशल मीडिया का व्यापक रूप से उपयोग किया जा सकता है। सोशल मीडिया एनजीओ और अन्य सामाजिक कल्याण समितियों द्वारा चलाए जा रहे कई महान कार्यों में भी मदद कर सकता है।
  • सोशल मीडिया जागरूकता फैलाने और अपराध से लड़ने में अन्य एजेंसियों तथा सरकार की मदद कर सकता है। कई व्यवसायों में सोशल मीडिया का उपयोग प्रचार और बिक्री के लिए एक मजबूत उपकरण के रुप में किया जा सकता है। सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से कई समुदाय बनाये जाते है जो हमारे समाज के विकास के लिए आवश्यक होते हैं।

सोशल मीडिया के नुकसान

  • साइबर बुलिंग: कई बच्चे साइबर बुलिंग के शिकार बने हैं जिसके कारण उन्हें काफी नुकसान हुआ है।
  • हैकिंग: व्यक्तिगत डेटा का नुकसान जो सुरक्षा समस्याओं का कारण बन सकता है तथा आइडेंटिटी और बैंक विवरण चोरी जैसे अपराध, जो किसी भी व्यक्ति को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • बुरी आदते: सोशल मीडिया का लंबे समय तक उपयोग, युवाओं में इसके लत का कारण बन सकता है। बुरी आदतो के कारण महत्वपूर्ण चीजों जैसे अध्ययन आदि में ध्यान खोना हो सकता है। लोग इससे प्रभावित हो जाते हैं तथा समाज से अलग हो जाते हैं और अपने निजी जीवन को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • घोटाले: कई शिकारी, कमजोर उपयोगकर्ताओं की तलाश में रहते हैं ताकि वे घोटाले कर और उनसे लाभ कमा सके।
  • रिश्ते में धोखाधड़ी: हनीट्रैप्स और अश्लील एमएमएस सबसे ज्यादा ऑनलाइन धोखाधड़ी का कारण हैं। लोगो को इस तरह के झूठे प्रेम-प्रंसगो में फंसाकर धोखा दिया जाता है।
  • स्वास्थ्य समस्याएं: सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बड़े पैमाने पर प्रभावित कर सकता है। अक्सर लोग इसके अत्यधिक उपयोग के बाद आलसी, वसा, आंखों में जलन और खुजली, दृष्टि के नुकसान और तनाव आदि का अनुभव करते हैं।
  • सामाजिक और पारिवारिक जीवन का नुकसान: सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग के कारण लोग परिवार तथा समाज से दुर, फोन जैसे उपकरणों में व्यस्थ हो जाते है।

दुनिया भर में लाखों लोग है जो कि सोशल मीडिया का उपयोग प्रतिदिन करते हैं। इसके सकारात्मक और नकारात्मक पहलूओं का एक मिश्रित उल्लेख दिया गया है। इसमें बहुत सारी ऐसी चीजे है जो हमे सहायता प्रदान करने में महत्वपुर्ण है, तो कुछ ऐसी चीजे भी है जो हमें नुकसान पहुंचा सकती है। कई व्यवसायों में सोशल मीडिया का उपयोग प्रचार और बिक्री के लिए एक मजबूत उपकरण के रुप में किया जा सकता है। सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलुओं में कोई संदेह नहीं है लेकिन उपयोगकर्ताओं को सोशल नेटवर्किंग के उपयोग पर अपने विवेकाधिकार का उपयोग करना चाहिए। यदि सोशल मीडिया का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो ये मानव जाति के लिए वरदान साबित हो सकता है।

read more
Essays

Essay on Urban Employment Crisis in english

Essay on Urban Employment Crisis in english

Introduction :

“Of all aspects of social misery nothing is so heartbreaking as unemployment.” The above statement is quite relevant with respect to the present situation. Unemployment is a serious problem faced by each and every country of the world. It refers to a situation in which a skilled and talented person wanted to do a job but cannot find a proper job. India is one of developing countries which is suffering from a huge unemployment problem. But the unemployment problem in India is not the result of deficiency of demand

  • but the high rate of growth of population. As COVID-19 pandemic has hit the Indian economy hard and with large scale job losses, unemployment is the second biggest worry for urban Indians, after the coronavirus infection.
  • In a survey conducted across India, approximately 87 percent of self-employed respondents in urban areas claimed to have lost their employment due to COVID-19 pandemic.
  • This was highest among casual workers in rural parts of the country. In general, employment loss in urban India was higher than in rural areas during the survey period.
  • According to economists, slow functioning of industries, lack of demand in the market are impacting the overall employment in India. Formal sector jobs in cities will take months to come back.

Conclusion :

Industrial activities have not picked up due to factors like health and labor shortage. The government has announced a special economic package of worth Rs 20 lakh crore which is 10% of India’s GDP in 2019-20 to provide employment benefits to the poor, labourers, migrants both from organized and unorganized sectors who have lost their jobs due to the coronavirus pandemic. The problem of unemployment in India has reached a critical stage but, now the government and local authorities have taken the problem seriously and working on it to reduce it. 

Urban Unemployment In India Essay in english 500 words :

Introduction :

Unemployment is a serious problem faced by each and every country of the world. It refers to a situation in which a skilled and talented person wanted to do a job but cannot find a proper job. India is one of developing countries which is suffering from a huge unemployment problem. But the unemployment problem in India is not the result of deficiency of demand but the high rate of growth of population. As COVID-19 pandemic has hit the Indian economy hard and with large scale job losses, unemployment is the second biggest worry for urban Indians, after the coronavirus infection.

  • Around more than  85 percent of self-employed in urban areas claimed to have lost their employment due to this pandemic as per the a survey. This was highest among casual workers in rural parts of the country.
  • In fact we can say that employment loss in urban areas was higher than that of in rural areas during the period.
  • According to economists, slow functioning of industries, lack of demand in the market are impacting the overall employment in India. Industrial activities have not picked up due to factors like health and labor shortage.
  • The government has announced a special economic package of worth Rs. 20 lakh crore which is 10% of India’s GDP in 2019-20 to provide employment benefits to the poor, labourer, migrants both from organized and unorganized sectors who have lost their jobs due to the coronavirus pandemic.
  • In India, there is much reason for a very large section of the population for being unemployed. Some of these factors are population growth, slow economic growth, slow growth of the economic sector, and fall in the cottage industry.
  • Moreover, these are the major reason for unemployment in India. The situation has become so worse that highly educated persons are ready to do the job of a sweeper.
  • A very significan reason of that a large portion of the population is engaged in the agricultural and allied sector and the sector only provides employment in harvest or plantation time.
  • The govt is taking this problem very seriously and have taken measures to slowly reduce unemployment in India.

Conclusion :

Some of these schemes includes Integrated Rural Development Programme, Jawahar Rozgar Yojana, Employment Assurance Scheme, Nehru Rozgar Yojana, development of organized sector, small and cottage industries, and Jawahar Gram Samridhi Yojana etc. Moreover, the primary reason of unemployment in India is its huge population which demands a large number of jobs every year which the government and authorities are unable to provide. The problem of unemployment in India has reached a critical stage but, now the government and local authorities have taken the problem seriously and working on it to reduce it.

Watch Video

Work from Home – A Solution to Urban Unemployment In India

Introduction :

Work From home is a modern work approach where the employees of a company or firm can do their job from home. Work from home gives flexibility to the employees as well as to the employers as the whole work can be done easily from home. It has opened a new range of possibilities for the business houses and companies for their work. With the outbreak of the covid-19 pandemic, work from home has given some employers the flexibility they need to continue their business operations while considering their staffs and customers health and wellbeing.

  • Prior to covid-19 pandemic, work from home was on the increase as many employers were identifying its benefits that it can improve their business model and also the work life balance of their employees. 
  • It also helps to keep productivity of the employees same or even better as at the same time they can handle their personal work too.
  • In case some of the employees are facing health related issues then work from home can be a great tool for them. That’s why nowadays, most of the IT & other related companies are offering this option to their employees.
  • One advantage of working from home is the freedom. Home workers can organise their work around their home life as they can stop or start work as they wish.
  • For example, if they have children, they can easily arrange to take them and pick them up from school. They can also undertake any other tasks that they need to do during the day, such as doing the shopping, and then finish work later.
  • Overall then, employees have more control over their lives. But work from home may not be suitable for everyone’s ability. Some employees may prefer the structure of working in an office environment.
  • Some staff may prefer personal interaction with colleagues and can find face to face guidance with their manager that help them in completing their tasks.

Conclusion :

Working from home may have a negative impact on the support they need to do their job from their seniors. There could be difficulty in managing home workers and monitoring their performance. The companies can encourage the employees to work from home but can also provide certain rules so that the work can be done effectively from home. Like asking employees to work for the hours they work otherwise in office and maintain a proper work schedule. Working from home can be exciting, empowering and even profitable, provided the employees are realistic with pros and cons as responsibilities also come with freedom. 

Vocal for Local – A boost Unemployment in India

Introduction :

Vocal for Local is an initiative to boost the employment opportunities in India. Our PM Narendra Modi coined the term ‘Vocal for Local’ to encourage the people to promote the local products worldwide. He said in his Independence day speech on 15th August 2020, “The mindset of free India should be ‘vocal for local’. We should appreciate our local products, if we don’t do this then our products will not get the opportunity to do better and will not get encouraged,”

  • Vocal for Local initiative encourages the people to start producing their own products and hence, reducing the use of imported goods.
  • The need of ‘Vocal for Local’ arose during the lockdown  period when all the mediums of transport were on halt and the entire world realize the usefulness of local products.
  • Movements such as the “Vocal For Local” campaign can be the best initiative to give a boost to national economy after covid-19 crisis.
  • The positive effect of Vocal for Local is seen during the festive seasons like Diwali and Dashara. People of the country appreciated local products and purchased local made diya and many other things used in these festivals instead of Chinese products.
  • With good response in Diwali season, we can anticipate that this new initiative will strengthen the local markets in other festive seasons too and take the Indian economy to the next level.
  • As the leading brands of the world were once local brands and they became global brands only when local people started buying and using them.
  • The local people branded them and then start promoting them. Thus, these were the catalysts to make these local products a global brands from local brands.
  • The Vocal for local suggests not only buy local products but also be vocal about promoting local products proudly. The people making local products need support and it is the responsibility of each Indian to buy these products.

Conclusion :

India cannot become self-reliant until it has control over its domestic and global supply chains Thus, there is a need to ensure greater control over certain parts of the global value chain to protect strategic interests, especially in healthcare, agriculture and defence sectors. If all Indians adopt the ‘Vocal for Local’ mantra then a lot of Indian products can easily become global. So, let’s do it by purchasing and promoting local products and make our India self-reliant and self-sufficient.

Unemployment among Migrant Workers during Pandemic in India

Introduction :

A migrant worker is a person who migrates within their home country or outside it for work. Migrant workers do not have the intention to stay permanently in the place where they work. The nationwide lockdown announced on March 24, has caused immense distress to migrant workers around the country. Thousands of migrant workers were walking across India to reunite with their families in their native places. Indian migrant workers during the COVID-19 pandemic have faced multiple hardships.

  • With the closure of factories and workplaces due to the lockdown, millions of migrant workers had to deal with the loss of income, food shortages and uncertainty. 
  • Thousands of them, began walking back home, with no means of transport due to the lockdown. In response, the Government took various measures to help them, and later arranged transport for them.
  • The major states like Maharashtra, Karnataka, Tamil Nadu, Gujarat, Andhra Pradesh, Telangana, Delhi and Kerala are trying to minimise the loss of labour and are prime states for ‘unlocking’ of economic activity.
  • According to the 2011 Census, there are 41 million interstate migrants in India who migrate to other states due to the lack of work opportunities in their home state.
  • Poorer, less educated, and from socially disadvantaged communities, survival draws these migrants to the cities. Meagre pay, extended working hours, and unsafe work conditions characterise their exploited labour.
  • Covid-19 renders most of them jobless in cities with crushing rents and no access to food or water. Without employment, city life is so burdensome that many risk returning to the safety of their villages, in some cases even at the cost of their lives. 
  • The disproportionate impact of state policy also breaches the right to equality under Article 14 of the Constitution and imposes a corresponding duty on the government to mitigate negative effects.
  • The government has also launched an employment scheme named ‘Garib Kalyan Rozgar Abhiyaan’ implementing on a mission mode in 125 days in 116 districts of six states – Bihar, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Rajasthan, Jharkhand and Odisha.
  • The scheme was launched after lakhs of migrant workers returned to their home states following loss of employment in urban areas due to the nationwide lockdown to combat the spread of COVID-19.

Conclusion :

In the long term, India should work towards reducing migrant workers’ vulnerability by amending labour laws. Such amendments should align migrant workers’ conditions with other unorganised sector workers, while also developing norms for food security, repatriation and wage safety in times of emergency. While emergency solutions are urgent, they must pave the way to address more fundamental issues in migrant worker-dominated sectors. The government has already announced schemes like ‘One Nation One Ration Card’ to enable migrant workers and their family members to access PDS benefits from any Fair Price Shop in the country. But they also need cash for their day-to-day needs.

Urban Unemployment Vs Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan

Introduction :

Our Prime Minister Narendra Modi has launched Garib Kalyan Rozgar Abhiyaan which is an employment scheme for migrant workers, who returned to villages from cities during lockdown. This Abhiyaan was launched via video conference on 20th, June 2020 from village Telihar in Bihar in the presence of Chief Ministers of five states Bihar, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Rajasthan, Jharkhand and a minister of Odisha.

  • Under the scheme, the aim will be to reduce the economic impact faced by the rural parts of the country due to nationwide lockdown by providing livelihood support to the rural citizens, especially for the migrant workers.
  • The Central Government has set up a target of 125 days for achieving the targets under the scheme in 116 districts across the country by bringing together about 25 schemes under the Garib Kalyan Rojgar Abhiyan.
  • Industry groups will be formed near villages, towns, and small cities for making make different products from local produce, and packing things.
  • Cold storage facilities to be developed at the cost of 1 lakh crore to store farm produce locally. The Abhiyan also provide modern facilities in rural areas. Laying of fibre cable and provision of internet are also made a part of the Abhiyan.

Conclusion :

This abhiyaan will provide immediate relief to families of migrant workers while creating infrastructure in rural areas. The scheme like Garib Kalyan Rojgar Yojana is much needed one as per the current situation of the migrant workers. However, the success of the program depends upon whether its benefits reach the migrant workers in time. The government should also create a database of migrant workers that could be used in the future to create a social security system for them.

Urban Unemployment Vs Self-Reliant India – Making India Aatmanirbhar

Introduction : 

Prime Minister Narendra Modi recently announced the ‘Atmanirbhar Bharat Abhiyaan’ which is also known as self-reliant India Mission. The aim of this mission is to self reliance or self-sufficiency. PM Modi has also announced to provide an economic stimulus package of 20 lakh crores which is 10% of India’s GDP. This package aims towards achieving the objectives of self-reliant India Mission by injecting more money into the economy. To address COVID-19 outbreak and subsequent lockdown in India which has led to economic slowdown, self-reliant India Mission is launched.

  • The economic package which is 10% of India’s Gross Domestic Product in 2019-20 is announced which include packages already announced at the beginning of the lockdown incorporating measures from the RBI and the payouts under the Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojna.
  • This mission will enable our country to cut down import dependence. It will also focus on substitution and quality goods to gain global market share.
  • The mission focuses on the importance of promoting local products to global markets and involves creation of a helping hand to the whole world.
  • India completely missed out on the ‘third industrial revolution’ comprising electronic goods, micro-processors, personal computers, mobile phones and decentralised manufacturing and global value chains during the so-called lost decads.
  • Today, India is the world’s second largest smartphone market. However, it does not make any of these phones itself, and manufactures only a small fraction of solar photovoltaic cells and modules currently used.
  • With entry of foreign corporations, most Indian private companies retreated into technology imports or collaborations. Even today, most R&D in India is conducted by PSUs, and much of the smaller but rising proportion of private sector R&D is by foreign corporations in information technology and biotechnology or pharma.
  • The second idea is that inviting foreign direct investment and manufacturing by foreign majors would bring new technologies into India’s industrial ecosystem, obviating the need for indigenous efforts towards self-reliance. However, mere setting up of manufacturing facilities in India is no guarantee of absorption of technologies.
  • Countries like Thailand, Malaysia, Indonesia and Vietnam have focused on off-shore manufacturing lower down the value chain and without the thrust on self-reliance. This is useful for job creation but is an unsuitable model for a country of India’s size and aspirations.

Conclusion :

This mission will be implemented in two phases in the phase one it will consider all essential sectors like medical, textiles, electronics, plastics and toys where local manufacturing and exports will be promoted. These are labour intensive sectors thereby it will provide huge employment opportunities in the country. In phase two, it will consider products like gems and jewellery, pharma and steel etc. The progress and objectives of self-reliant India Mission has definitely shown the right path and will save our country from economic slowdown from this lockdown crisis in India.

 

read more
Essays

Essay on Impact of Russia-Ukraine War on World Economy

Essay on Impact of Russia-Ukraine War on World Economy

Introduction :

“Peace cannot be kept by force, it can only be achieved by understanding.” This is a quite famous statement of Albert Einstein that denotes the importance of peace. The invasion of Russia on Ukraine is the largest conventional military attack and have caused economic crisis for this world. The ongoing conflict between Russia and Ukraine has major ramifications for the global economy, which is just recovering from the stress of the covid-19 pandemic.  

  • The International Monetary Fund (IMF) indicated that both Russia and Ukraine are major commodity producers and disruptions there have resulted in increasing global prices, especially that of oil and natural gas. 
  • Ukraine and Russia accounting for around 30% of the global exports for wheat that’s why food prices too have hiked. The IMF pointed out that the entire global economy would feel the effects with slower growth and faster inflation.
  • Inspite of India’s limited direct exposure, the combination of supply disruptions and the ongoing terms of trade will definitely impact the growth of Indian economy that can also result in rise in inflation.
  • The World Bank’s projection pointed out Ukraine’s poverty, will increase from 1.8% in 2021 to 19.8% in 2022. It added that models developed by from the United Nations suggested that a more severe and protracted war could lead to poverty affecting nearly 30% of the population. 
  • The poor countries are likely to suffer most from high food prices because they tend to spend a large proportion of their income on food. The problem of high food prices compounded by high oil prices and expensive fertilizer represent a threat to future crop yields.

Conclusion :

The automobile sector is also expected to be hit hard by the war. Rise in oil prices, continued shortage of semiconductors and chips and other rare earth metals is likely to add to the industry’s problems. Besides, Ukraine is also home to many companies which manufacture such components. The ongoing war between Russia and Ukraine is constantly impacting financial markets, exchange rate, crude and natural gas prices. It is expected that inflation will further worsen and will result in the reduced purchasing power of the common man.

Dounload PDF

Watch Video

Essay on Russia Ukraine conflict in english

Introduction :

“Peace is not absence of conflict, it is the ability to handle conflict by peaceful means.“ This statement can be directly connected with the on going war between Russia and Ukraine. The invasion of Russia on Ukraine in February is the largest conventional military attack and can cause economic crisis for the whole world. Although, India has taken a neutral stance because of its historic partnership with Russia. This alliance is making Russia a pivotal part of India’s nation-building process, especially during its early days of independence.

  • The main cause of concern is Ukraine’s accession to NATO that would cross Russia’s red lines, and poses a continuing security threat to Russia. Russia wants an assurance from the West that Ukraine will never be allowed to join NATO. 
  • The Russia-Ukraine crisis has caused uncertainty in global trade and is impacting oil and other commodities prices to a great extent. Though, India doesn’t have a significant trade with Russia but it stands to lose economically due to supply disruptions caused by western countries.
  • Inspite of India’s limited direct exposure, the combination of supply disruptions and the ongoing terms of trade will definitely impact the growth of Indian economy that can also result in rise in inflation.
  • In reaction to the US’s ban on all oil and gas imports from Russia, Crude oil prices increased to nearly 43% from the beginning of February.
  • This is a huge setback for global economic growth because Russia is one of the largest exporters of crude oil of the world. However, India’s trade consist of only 1% oil imports from Russia, but there can be a great impact in the form of high inflation and slow growth.

Conclusion :

It can be said that more risks could arise if global growth conditions deteriorate further, which would hamper India’s export and capital expenditure as well. The ongoing conflict between Russia and Ukraine may impact financial markets, exchange rate and crude prices. In the short-term, however, this moment will not have any lasting impact on the Indian economy. It is expected that inflation will further worsen and will result in the reduced purchasing power parity of common people.

Dounload Essay PDF

Watch Video

Impact of Rising prices on common man

Introduction :

“Inflation is like toothpaste once it’s out you can hardly get it back in again” This statement indicate the impact of inflation on our economy. The rampant increase in prices is causing anxiety among the people of India. Price rise is a world wide phenomenon and India is no exception to it. Prices of everything are hiking even of the essential goods like gas, pulses, sugar, edible oils, tea, food grains and petrol. When the total demand is greater than total supply of goods and services, it causes prices to rise.

  • The factors such as increase in disposable income, consumer spending, public expenditure, black money are responsible for increasing demand. Price-rise affects different people differently.
  • Although it may not have much affect on the flexible income group. However, maximum hardship is faced by the fixed income groups.
  • It is so because their salaries remain the same but the prices continue to rise. The impact of rising prices can be seen as unfulfillment of basic needs, increase in the prices of petrol and diesel leads to increase in transportation cost,
  • It also causes hunger and malnutrition, no access to healthcare services, migration and much more. India ranks 101st in Global Hunger Index which shows the real condition of poor people in India.
  • The condition of women is not every good as 7 out of 10 women are suffering from anemia in India.
  • In order to curb the problem of price rise there should be the joint effort of the government and the public to control it.
  • There should be more fair price shops, Kendriya Bhandar where the common man can shop for quality goods at low prices.

Conclusion :

The Government and banks must keep a check on hoarding and black marketing. As far as general public is concerned, they must reduce unnecessary expenditure and increase savings. This will reduce disposable income with the people and hence personal consumption expenditure. Government should focus on lowest income group, promote startups, provide skills to youth and try to control the inflation so that the gap between the rich and poor can be reduced as much as possible as it is truly said “growth is possible where there is no difference.”

Essay on Virtual Currencies in India

Introduction :

Bitcoin is a digital currency that is widely known for its creator’s anonymity. It is a kind of virtual currency which was launched as an open source software in 2009. Its creator whose identity to this day remains unknown, goes by the name Satoshi Nakamoto. Since its inception, virtual currency, has grown in both its popularity and its use. It is the first decentralized digital currency, as the system works without a central bank or single administrator. Bitcoin is often referred to as a “virtual currency” or “cryptocurrency.”

  • All transfers of bitcoin are verified and recorded on a public ledger known as the block chain. It is an electronic or digital currency that works on a peer-to-peer basis.
  • Like currency notes, it can be sent from one person to another. The beauty of this cryptocurrency is that if you receive a bitcoin from another, you can be as sure of the payment as you would on receiving physical currency notes, with the same anonymity ascribed to it.
  • This anonymity is lacking in other forms of digital payment such as online banking or e-wallets. You can send bitcoins digitally to anyone who has a bitcoin address anywhere in the globe.
  • One person could have multiple addresses for different purposes. Receivers can get to spend them within minutes of receiving the coins.
  • It is to be noted that cryptocurrency transactions are settled immediately without any third-party approvals.

Conclusion :

With recognition at universal level, cryptocurrencies can be accessed by everyone. As India moves to digitize much of its financial services and parts of its consumer market, cryptocurrencies offer a new, dynamic addition to the Digital India project.

Cashless Economy – Making Indian economy Digital

Introduction :

A cashless economy means the liquidity in the system is exchanged between two parties through either plastic currency or through digital currency i.e online payments. With the advent of blockchain technology, bitcoins have given a whole new meaning for a cashless economy. The concept of bitcoin talks about a decentralized system of finance, but that is not the point of discussing in this particular essay on cashless India.

  • Hence, let us come back to the crux of this essay on cashless India, which are the pros and cons of the digital payment system.
  • Cashless Economy promotes electronic payment methods which improves transparency and accountability.
  • Tax collection increases as all the transaction takes place through bank accounts. It can also mitigate corruption and black money as all transactions can be traced easily.
  • It also saves time and prevents theft and burglary of cash and endorses paperless environment friendly as it will save a huge amount of money spent on printing and maintenance of currency.
  • With so much technological revolutions happening around, it will be impossible to find someone without a smartphone in this 21st century.
  • Almost every Indian has a smartphone. Hence the ease of transaction through fintech platforms such as Paytm, google pay or phonepe are easier than ever before.
  • The hassles of carrying hard cash( with possible viruses on it) is eliminated. The government of India has produced platforms such as UPI (Unified Payments Interface) for hassle-free cashless transactions.
  • But it is seen that the small businesses still use cash as they cannot afford digital infrastructures. Hackers and Cyber Crimes are a huge threat to cashless economy.
  • There is lack of internet connectivity in rural areas in our nation which makes it difficult to commence the concept of the cashless economy in every region
  • India is lacking robust and widespread internet connection in all parts of the country which becomes a huge hurdle in practicing cashless economy.

Conclusion :

The cashless economy has its own sets of merits and demerits. The concept of cashless economy is very useful for eliminating black money from the nation. The lack of sufficient infrastructure and illiteracy is one of the major hindrances in the path of the cashless economy. It is important for the government to address the issues related to achieving a proper cashless economy by providing financial education to the people along with better internet services.

Technological Development in India

Introduction :

India is emerging as a superpower in the world. Being a fast-developing nation, the country is making its way through the hurdles to gain a bright future in terms of science and technology. Indian society is quite eager to accept technology into their day-to-day life. The modern age is the age of science, technology, knowledge and information.

  • New inventions in the field of science and technology are emerging from Indian students and experts, making the country to gain limelight in the world.
  • Modern gadgets are introduced in every walk of life, making life easier and solving many problems. The growth of technology today is sure to experience a boom for the country in future in almost all the sectors such as education, infrastructure, electricity, aviation, medicine, information technology and other fields.
  • They are well equipped and staffed to secure the people of the nation. But there is no room for complacency in this field and we are yet a developing country.
  • In the field of agriculture, our scientific and technological researches have enabled us to be self-reliant and self-sufficient in food grains. In the field of defense also our achievements have been quite laudable.
  • The successful production of such missiles as Prithvi and Nag testify to the high capabilities and achievements of our scientists.
  • Science and technology are inter dependent, these are two completely distinct fields of study. Science contributes to technology in several ways.
  • It is the knowledge of science that gives way to new and innovative ideas to build different technological tools.
  • The research and experiments conducted in science laboratories lead to the designing of various technological techniques and devices.
  • Knowledge about science also helps in understanding the impact of technology on the environment and the society. Technology on the other hand extends the agenda of science.

Conclusion :

When the ideas are put to use, the scientists are inspired and motivated to research and experiment further to come up with newer ideas. We have been successful in producing night-vision devices required for our indigenous tanks. Obviously, technology has been used effectively as a tool and instrument of national development and yet much remains to be achieved in order to make its benefits reach the masses.

Cyber Crimes in India

Introduction :

In technically driven society, people use various devices to make life simple. Globalization results in connecting people all around the world. The increasing access to and continuous use of technology has radically impacted the way in which people communicate and conduct their daily lives. Cyber-crime is a crime in which computer is used as an object of crime to commit an offence.

  • It may range from hate speeches, child pornography, accessing personal information, bank frauds, credit and debit card information thefts to spreading different kinds of viruses and worms throughout the world.
  • In cyber-crime a computer is used as a weapon of crime by an individual, an organized group or even a country. The most common types of cyber-crimes are hacking, spanning and infecting computers with virus and worms.
  • Hackers access a person’s personal information over the internet such as his credit card and bank account numbers. A person may lose his whole bank balance in a second and may fall into heavy debt instantly. Cyber Crime are categorized into four major types.
  • These are Financial, Privacy, Hacking, and Cyber Terrorism. The financial crime they steal the money of user or account holders. Likewise, they also stole data of companies which can lead to financial crimes.
  • Also, transactions are heavily risked because of them. Every year hackers stole lakhs and crores of rupees of businessmen and government.
  • Privacy crime includes stealing your private data which you do not want to share with the world. Moreover, due to it, the people suffer a lot and some even commit suicide because of their data’s misuse.
  • In, hacking they intentional deface a website to cause damage or loss to the public or owner. Apart from that, they destroy or make changes in the existing websites to diminish its value.
  • Another type of cyber-crimes is theft. Artistic works like books, music and movies are downloaded and circulated thereby infringing upon a person’s copyright materials.

Conclusion :

Cyber bullying has become a common practice causing serious repercussions, insanity and even deaths. Another typed of serious crime is defamation. It takes a whole life to earn respect but a dirty mind and an internet connection to wipe it away in a second. In this great world, virtues and vices march hand in hand. With every boon comes a bane. the numerous advantages of every inventions shouldn’t be marred by its abuses and misuses. Why not be a little vigilant both in the world and web?

Digital India – Empowerment & Safety Issues

Introduction :

Digital India is a campaign launched by the Government of India to ensure that Government services are made available to citizens electronically by improved online infrastructure and by increasing Internet connectivity in the field of technology. The digital economy refers to an economy that is based on digital technologies, including digital communication networks, computers, software, and other related information technologies.

  • The motto for the campaign is “Power to Empower” and it was launched on 1 July 2015 by PM Narendra Modi.

Information is easier to produce and harder to control in this dynamic era. Digital India consists of three core components they are-

  • Development of secure and stable digital infrastructure.
  • Delivering government services digitally.
  • Universal Digital Literacy.
  • The facilities which will be provided through this initiative are Digital Locker, e-education, e-health, e-sign and national scholarship portal. Digi Locker is an initiative under Digital India program.
  • Digital Locker facilities will be provided to citizens to store their important documents like PAN card, Passport, Mark sheet and Degree certificates.
  • The term digital economy also refers to the convergence of computing and communication technologies on the Internet and other networks.
  • This convergence enables all types of information (data, audio, video) to be stored, processed, and transmitted over networks to many destinations worldwide.
  • Digital India wants to enlighten all types of people in India digitally and to provide the citizens with the best public services.
  • The commercial broadband and IT Indian companies also supported it. It also helps bridge the gap in the employment of youth between developed and undeveloped areas.
  • The domestic e-government system is reliable as it prevails fiber optic road, public interest access, mobile connectivity everywhere, electronics revolution, e-government, job information, IT, post-harvest management program, and electronic devices.
  • Digital India initiative aims to enhance the process and delivery of different government services through e-Governance and payment gateways, UIDAI, EDI (Electronic Data Interchange) and mobile platforms.

Conclusion :

The main objective was to improve the country’s people’s access to technology. The government has worked to enhance accessibility to the internet and to make it much easier for regional and underserved parts of the country to connect. A plan to communicate countryside to high-speed Internet was one of the initiatives. Government intends to make all information easily available to the citizen through online hosting of data. Digital India campaign is a great initiative to integrate digital technology for better future. 

Internal Security Challenges in India

Introduction :

Internal security is the security that lies within the borders of a country. It ensures the maintenance of peace, law & order and protection of sovereignty within territory of a country. Internal security is different from external security. External security is considered as the security against aggression by a foreign country. Maintaining the external security is the responsibility of the armed forces of the country such as the Indian Army, Indian Navy and Indian Air Force in India.

  • While internal security comes under the purview of the police, which can also be supported by the Central Armed Police Forces (CAPF) as per the requirement.
  • In India, the internal security matters are governed by Ministry of Home Affairs (MHA). If we look at the past, India’s internal security problems have multiplied because of linguistic riots, inter-state disputes and ethnic tensions.
  • Our country was forced to redefine its inter state boundaries due to linguistic riots in 1956. After that, the rise of Naxalism was also seen as a threat to internal security in India.
  • At the time of independence, our country was under-developed. The country adopted the equitable and inclusive growth model for growth and development.
  • This situation was exploited by various people or groups to pose a very dangerous challenge to the country’s internal security in the form of Naxalism and Left-Wing Extremism.
  • Cyber security is the latest challenge that our country is facing these days. We could be the target of a cyberwar which can harm our security at any time.
  • The growth in the use of internet has also shown that social media could play a vital role in spreading fake news and violence and thus can become a threat to our internal security. 
  • Border management is also important in reducing the threats to our internal security. A weak border management can result in infiltration of terrorists, illegal immigrants and smuggling of items like arms, drugs and counterfeit currency.

Conclusion :

In the Global Terrorism Index 2020, India has been ranked at 8th place in the list of countries most affected by terrorism. India continues to deal with terrorist activity on different fronts like terrorism related to territorial disputes in J&K and secessionist movement in Assam. India needs to implement all of its national powers in a coordinated manner to address its security issues and this will happen only when we give national level importance to internal security in India.

read more
1 2 3 31
Page 1 of 31
error: Content is protected !!